For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    'BMC ने गलत इरादे से तोड़ा कंगना रनौत का ऑफिस, देना होगा हर्जाना'- बॉम्बे हाई कोर्ट ने लगाई फटकार

    |

    बॉम्बे हाई कोर्ट ने बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) की कार्रवाई के विरुद्ध दायर कंगना रनौत की तरफ से याचिका को स्वीकार कर लिया है। अदालत ने अवैध निर्माण के खिलाफ जारी किए गए बीएमसी के नोटिस को भी खारिज कर दिया, साथ ही कंगना को सार्वजनिक बयानों में संयम बरतने की हिदायत दी है।

    सितंबर में कंगना रनौत और संजय राउत के बीच सोशल मीडिया पर काफी गहमागहमी हो गई थी, जिसके बाद अचानक ही 24 घंटों के अंदर कंगना के ऑफिस के एक हिस्से में बीएमसी द्वारा तोड़ फोड़ की गई थी। कंगना ने बॉम्बे हाई कोर्ट में बीएमसी के खिलाफ याचिका दी थी और मुआवजे की मांग की थी।

    अब कोर्ट ने इस मामले में कंगना के पक्ष में फैसला दिया है। कोर्ट का कहना है कि बीएमएसी ने खराब नीयत से यह कदम उठाया था और कंगना का दफ्तर गलत इरादे से तबाह किया गया। कोर्ट ने कहा कि यह नागरिकों के आधिकार के भी विरुद्ध था।

    दो करोड़ का हर्जाना

    दो करोड़ का हर्जाना

    कंगना ने बीएमसी से दो करोड़ रुपए हर्जाना मांगा है। इस पर हाईकोर्ट ने नुकसान का पता लगाने के लिए सर्वेयर नियुक्त किया है। उन्हें मार्च 2021 तक रिपोर्ट सौंपनी है।

    पूरे लोकतंत्र की जीत

    पूरे लोकतंत्र की जीत

    हाईकोर्ट के फैसले के बाद कंगना ने सोशल मीडिया पर लिखा, "कोई व्यक्ति सरकार के खिलाफ खड़ा होता है और जीतता है तो यह जीत केवल उस व्यक्ति की नहीं होती, बल्कि पूरे लोकतंत्र की होती है। मेरा हौसला बढ़ाने के लिए हर व्यक्ति को धन्यवाद। हर उस व्यक्ति का भी शुक्रिया, जो मेरे सपनों के टूटने पर हंसे थे। यह सब इसीलिए हुआ, क्योंकि आप विलेन की तरह काम कर रहे थे और मैं हीरो बन गई।"

    बड़ा हिस्सा कर दिया गया था ध्वस्त

    बड़ा हिस्सा कर दिया गया था ध्वस्त

    कंगना के वकील का दावा है कोर्ट के स्टे लगाने तक ऑफिस का 40% हिस्सा ध्वस्त कर दिया गया था। जिन चीजों को नुकसान पहुंचा उनमें झूमर, सोफा, दुर्लभ कलाकृतियां और कई कीमती सामान शामिल हैं।

    कंगना रनौत ने संजय दत्त ने की मुलाकात, भड़के फैंस, कहा- 'चरसी, नेपो स्टार के साथ बैठी हो'

    English summary
    Kangana Ranaut office demolition case- Bombay High Court calls BMC action malafide and sinister. The court has quashed, set aside the demolition.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X