»   »  #Wrong: आखिरकार सलमान ने स्टारडम का गलत इस्तेमाल कर ही लिया!

#Wrong: आखिरकार सलमान ने स्टारडम का गलत इस्तेमाल कर ही लिया!

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

कहते हैं ना कि स्टारडम जब तक सर ना चढ़े तब तक ही बेहतर है। ऐसा ही कुछ कबीर खान के साथ हुआ है। नहीं नहीं उन्हें स्टारडम नहीं चढ़ी है। लेकिन उन पर सलमान खान की स्टारडम साफ चढ़ गई। उन्होंने बात ही ऐसी की है।

हाल ही में फिल्मीबीट को दिए एक इंटरव्यू में कबीर खान ने कहा कि सलमान से उन्होंने ढील छोड़ना सीख लिया है। और इस बात के लिए वो तहे दिल से सलमान खान का शुक्रिया अदा करते है।

kabir-khan-talks-about-cinematic-liberties-he-has-learnt-from-salman-khan

बस अब आप समझ लीजिए कि यहीं से सारी गड़बड़ होना शुरू हो गई। कबीर खान और सलमान खान की ईक्वेशन एक्टर - डायरेक्टर से बदलकर, ब्लॉकबस्टर स्टार का धमाकेदार डायरेक्टर हो गई। 

शायद यही कारण है कि ट्यूबलाइट की कहानी कहीं खो गई है। कम से कम अब तक जिसने भी फिल्म के बारे में जितना कुछ देखा है, वो तो यही कह रहा है कि फिल्म से कोई कनेक्ट नहीं हो पा रहा है।

कबीर खान का दिल को छू लेनेे वाला सिनेमा, उनसे पीछे छूट चुका है। और ये किसी तरह की भड़ास नहीं है, ये केवल दुख है, एक सच्चे फैन जो कबीर खान सिनेमा का फैन है। उस कबीर खान का, जिसने सलमान खान को रोना और रूलाना दोनों सिखाया था।

बहरहाल, उनके कुछ झूठ पर से परदा हम उठा ही देते हैं -

क्यों नहीं कहा कभी सच

क्यों नहीं कहा कभी सच

जब से ट्यूबलाइट का अनाउंसमेंट हुआ था तब से ये बात साफ थी कि फिल्म लिटिल बॉय का हिंदी रूपांतरण है। बार बार, ये बात कबीर खान से पूछी भी गई। लेकिन हर बार उन्होंने साफ झूठ कह दिया कि ये सब कोरी अफवाहें हैं। जबकि फिल्म के ट्रेलर में कबीर खान को डालना ही पड़ा कि फिल्म लिटिल बॉय का आधिकारिक रूपांतरण है।

फिल्म को ही छोटा बता दिया

फिल्म को ही छोटा बता दिया

अब कबीर खान ने यहां तक कह डाला कि लिटिल बॉय नाम की फिल्म को सब इसलिए जानते हैं क्योंकि ट्यूबलाइट वहां से प्रेरित है। वरना वो फिल्म इतनी छोटी थी कि चंद लोगों ने देखी थी और अगर मैं नहीं बताता तो किसी को पता भी नहीं चलता कि फिल्म वहां से ली गई है।

एक और सफेद झूठ

एक और सफेद झूठ

रेडियो गाना लॉन्च हुआ तो कबीर खान ने इस बारे में फिर से खुलकर बात की। उनका कहना था कि केवल फिल्म का बेसिक प्लॉट उठाया गया है। बाकी सब कुछ बदल दिया गया है। लेकिन ट्रेलर जिसने भी देखा, उसने देखा कि फिल्म के कितने सीन सेम टू सेम थे।

सलीम खान के नाम पर भी झूठ

सलीम खान के नाम पर भी झूठ

कबीर खान यहीं नहीं रूके। उन्होंने साफ कह दिया कि फिल्म की टैगलाइन - क्या तुम्हें यकीन है? सलीम खान ने दी है। जबकि लिटिल बॉय की टैगलाइन थी - Do You believe you can do this? जो कि साफ साफ ट्रांसलेशन था। इतना ही नहीं ट्रेलर के सीन में क्या तुम्हें यकीन है कि शुरूआत भी यहीं से होती है - क्या तुम्हें लगता है कि तुम ये कर सकते हो? जो कि ओमपुरी बोलते हैं।

खुद पर नहीं था यकीन?

खुद पर नहीं था यकीन?

अब आते हैं फिल्म पर। लिटिल बॉय इतनी शानदार फिल्म इसलिए थी क्योंकि वो एक 8 साल के भोले से बच्चे के यकीन पर टिकी थी। क्या कबीर खान को ऐसा कोई छोटा टैलेंट नहीं मिल पाया जो उन्हें 50 साल के आदमी को लेना पड़ा। उनके पास तो फिल्म में मातिन रे टंगू भी थे। या फिर कबीर खान को ब्ल़ॉकबस्टर और बॉक्स ऑफिस का मोह खा गया?

क्यों कर रहे हैं इतना प्रमोशन

क्यों कर रहे हैं इतना प्रमोशन

बाहुबली और दगल ने एक बात तो साफ कर दी है कि फिल्म बिना प्रमोशन के भी चल जाती है। लेकिन कबीर खान ने तो इस बार प्रमोशन की इंतेहा ही कर दी। क्या वो जान चुके हैं कि उनके 50 साल के आदमी में वो दम नहीं है जो उस छोटे 8 साल के बच्चे में था?

स्टारडम पर भारी पड़ गई फिल्म?

स्टारडम पर भारी पड़ गई फिल्म?

ट्यूबलाइट में कहीं से भी अभी तक इमोशन नहीं दिखाई दिया है। और ये केवल इसलिए है कि 8 साल की मासूमियत को उम्र और स्टारडम से तौलने की कोशिश कर दी गई है। सवाल ये है कि ऐसा करने की कबीर खान को ज़रूरत क्यों पड़ी

सलमान फीके हैं

सलमान फीके हैं

ऐसा नहीं है कि बड़ी उम्र के एक्टर ने ऐसे किरदार नहीं निभाए हैं। ऋतिक रोशन की कोई मिल गया इसका सीधा सादा उदाहरण है। लेकिन सलमान खान एक एवरेज एक्टर हैं, ये इस देश का बच्चा बच्चा जानता है। तो फिर कबीर खान क्यों उनकी स्टारडम में उलझ गए?

डर गए हैं कबीर खान?

डर गए हैं कबीर खान?

ज़ाहिर सी बात है कि ये सारी बातें, कबीर खान के भी ज़ेहन में आ चुकी हैं और इसलिए वो फिल्म को जितना प्रमोट कर सकते हैं, उतना कर रहे हैं। अपने डर के आगे वो यहां तक कहने से नहीं चूके हैं कि उनकी फिल्म की वजह से सब उस छोटी सी फिल्म को जानते हैं।

सलमान कुछ तो साबित कर दें

सलमान कुछ तो साबित कर दें

हो सकता है कि हमारे सारे इल्ज़ाम गलत हों। हो सकता है कि इस बार, सलमान खान कुछ कमाल कर जाएं। अपनी एक्टिंग से सबको चौंका दें। हो सकता है कि इस बार वाकई बॉक्स ऑफिस पर ही नहीं, दिलों पर भी कोई कमाल हो जाए!

English summary
Kabir Khan talks about cinematic liberties he has learnt from Salman Khan.
Please Wait while comments are loading...