For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    मद्रास कैफे का हीरो फिल्म की कहानी है

    |

    मद्रास कैफे के एक्टर जॉन अब्राहम का कहना है कि उनकी फिल्म मद्रास कैफे का असली हीरो फिल्म की कहानी है। जॉन ने बताया कि फिल्म की कहानी काफी बेहतरीन है और काफी हटकर है। जॉन अब्राहम को कहना है कि फिल्म की कहानी बहुत ही सिंपल और बहुत ही खूबसूरती के साथ पेश की गयी है। फिल्म के लिेए जॉन ने अपने लुक्स पर भी काफी मेहनत की है साथ ही नर्गिस फाखरी ने भी फिल्म में काफी बेहतरीन काम किया है। मद्रास कैफे एक इंवेस्टिगेशन ऑफीसर की कहानी है जिसे फॉरेन देश में भेजा जाता है किसी मिशन को पूरा करने के लिए।

    जॉन अब्राहम ने अपने इंटरव्यू के दौरान कहा कि करीब 4 साल पहले ही शुजीत सरकार ने उन्हें ये फिल्म बतौर एक्टर करने के लिए ऑफर की थी लेकिन फिर कुछ बात बनी नहीं। विक्की डोनर फिल्म का निर्माण करने के बाद जॉन ने सोचा कि उन्हें ये फिल्म भी बनानी चाहिए तो उन्होंने शुजीत सरकार से बात की और कहा कि वो इस फिल्म का निर्माण करना चाहते हैं। जॉन अब्राहम ने ये भी बताया कि जब फिल्म बननी शुरु हुई थी तब एक्ट्रेस फ्रीडा पिंटो को फिल्म की स्क्रिप्ट बेहद पसंद आई थी और उन्होंने कहा था कि वो भी इस फिल्म का हिस्सा बनना चाहती हैं लेकिन बाद में वो किसी और फिल्म में बिजी हो गयीं और इस फिल्म में काम नहीं कर सकीं।

    जॉन अब्राहम ने आगे बताया कि फ्रीडा पिंटो तो फिल्म का हिस्सा ना बनसकीं लेकिन जब मद्रास कैफे की कहानी पूरी हुई और फिल्म शरु हुई तो उनकी पहली पसंद नर्गिस फाखरी ही थी। मद्रास कैफे फिल्म में पहले एक्टर मोहनलाला के भी होने की खबर आ रही थी लेकिन किन्हीं वजहों से वो इस फिल्म में नहीं हैं।

    मद्रास कैफे का हीरो फिल्म की कहानी है

    मद्रास कैफे का हीरो फिल्म की कहानी है

    जॉन अब्राहम ने इंटरव्यू के दौरान कहा कि मद्रास कैफे फिल्म का हीरो खुद फिल्म की कहानी है। फिल्म में जॉन अब्राहम ने लीड रोल निभाया है लेकिन फिल्म की कहानी इतनी खूबसूरत है कि अगर कोई नया एक्टर भी फिल्म में होता तो फिल्म लोगों को जरुर पसंद आती। ये फिल्म एक एंजेंट पर आधारित है जिसे एक मिशन के चलते दूसरे देश में भेजा जाता है।

    नर्गिस फाखरी थीं पहली च्वाइस

    नर्गिस फाखरी थीं पहली च्वाइस

    जॉन अब्राहम ने बताया कि फिल्म मद्रास कैफे के लिेए पहले फ्रीडा पिंटो उत्साहित थीं लेकिन बाद में फ्रीडा पिंटो किसी और फिल्म में व्यस्त हो गयीं जिसके चलते वो इस फिल्म का हिस्सा ना बन सकीं और उनकी जगह नर्गिस फाखरी फिल्म की फर्स्ट च्वाइस बन गयीं। लेकिन नर्गिस ने भी फिल्म में काफी बेहतरीन काम किया है।

    नर्गिस फाखरी की पहली फिल्म है मद्रास कैफे

    नर्गिस फाखरी की पहली फिल्म है मद्रास कैफे

    मद्रास कैफे के निर्देशक शुजीत सरकार का कहना है कि मद्रास कैफे नर्गिस फाखरी की पहली फिल्म है। इसपर नर्गिस ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि शुजीत ने ऐसा क्यों कहा लेकिन हो सकता है कि उन्हें उनकी एक्टिंग इतनी पसंद आई हो कि उन्हें ऐसा लगा हो और उन्होंने कह दिया हो।

    मद्रास कैफे में फेक बॉडी नहीं

    मद्रास कैफे में फेक बॉडी नहीं

    जॉन ने इंटरव्यू के दौरान बताया कि मद्रास कैफे फिल्म के लिेए उन्होंने किसी तरह की फेक बॉडी नहीं बनाई है। जिस तरह से एक था टाइगर फिल्म के लिए सलमान खान की फेक बॉडी बनाई गयी थी वैसा कुछ भी नहीं किया गया है। जॉन ने बताया कि मद्रास कैफे में उनकी बॉडी एकदम रियल और नॉर्मल है।

    मद्रास कैफे पैसों के लिए नहीं बनाई

    मद्रास कैफे पैसों के लिए नहीं बनाई

    जॉन अब्राहम ने बताया कि उन्होंने मद्रास कैफे फिल्म पैसों के लिए नहीं बनाया है। मद्रास कैफे फिल्म 23 अगस्त को रिलीज हो रही है और इसके आस पास कई सारी बड़े बजट की फिल्में रिलीज हो रही हैं जिनमें सत्याग्रह, वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई और चेन्नई एक्सप्रेस शामिल हैं। ऐसे में इनके बीच मद्रास कैफे के बिजनेस को लेकर जॉन को कोई चिंता नहीं है।

    English summary
    John Abraham says Madras cafe is very nice movie. John Abraham is the producer of the movie and also he is playing lead role in Madras Cafe. John told media that people will surely love Madras Cafe as its story is nicely scripted and all the characters are superb.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X