For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts
    BBC Hindi

    नवाज़ ने क्यों कहा कि 12 साल में बदला पूरा हो जाएगा?

    By सुप्रिया सोगले - मुंबई से, बीबीसी हिंद
    |

    'कहानी', 'गैंग ऑफ़ वासेपुर' जैसी फ़िल्मों में दमदार अभिनय से दर्शकों के दिलो में छाप छोड़ने वाले नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी अपने करियर के 12 साल की नाकामी का बदला लेना चाहते हैं.

    लंबे संघर्ष के बाद उन्होंने सफलता का स्वाद चखा और अब बॉलीवुड में नवाज़ुद्दीन की कामयाबी के सफर के पांच साल होने जा रहे हैं.

    बीबीसी से ख़ास बातचीत में उन्होंने कहा, "मैं फ़िल्म इंडस्ट्री के लोगों का शुक्रगुज़ार हूँ कि उन्होंने मुझे बड़े सम्मान के साथ काम दिया. उससे पहले 12 साल तक मुझे कोई काम नहीं मिला था, और अगर आगे के 12 साल तक ऐसे ही काम करता रहूँगा तो मेरा बदला पूरा हो जाएगा."

    इन पांच सालों में मशहूर हुए नवाज़ुद्दीन कहते हैं कि उन्हें शोहरत में कोई दिलचस्पी नहीं है और ना ही इसकी चाहत है. उन्होंने साफ़ किया है कि वो फ़िल्मों में हीरो या सुपरस्टार बनने नहीं आए हैं.

    साल की पहली फ़िल्म 'हरामख़ोर’ कैसी है?

    'मैंने डीएनए टेस्ट कराया, 16.66% हिंदू हूँ...'

    ' टाइपकास्ट करना आसान नहीं, स्मार्ट हूँ '

    उनका मानना है कि वो फेमस नहीं हैं और जो अपने आप को फेमस मानते हैं, उन्हें उसको खोने का भी डर रहता है.

    नवाज़ुद्दीन कहते हैं, "मैं अपने आप को ऊंचाई पर देखता ही नहीं हूँ तो मुझे गिरने का डर भी नहीं है. मुझे जब तक काम मिलता रहेगा, मैं काम करता रहूँगा."

    जहां फ़िल्म इंडस्ट्री अभिनेताओं को टाइपकास्ट (बार-बार एक ही तरह का अभिनय करना) कर देती है, वहीं नवाज़ुद्दीन ने माना कि फ़िल्म इंडस्ट्री उन्हें कभी भी टाइपकास्ट नहीं कर पाएगी क्योंकि इस मामले में वो स्मार्ट हैं.

    वो कहते हैं- 'ख़ुशी है कि अलग किरदार के लिए फ़िल्मी दुनिया के अप्रोच कर रहे हैं. जब फ़िल्म इंडस्ट्री के दिग्गज साथ काम करने की इच्छा जताते हैं तो प्रोत्साहित महसूस करता हूँ.'

    हाल फ़िलहाल में कई कलाकार राजनीतिक मुद्दों की चपेट में आए हैं.

    'बदनाम कहानियों' का लेखक रुपहले पर्दे पर

    नंदिता दास के सआदत हसन मंटो

    कला और राजनीति

    कला और राजनीति पर नवाज़ कहते हैं, "कलाकारों को राजनीति से दूर रहना चाहिए. क्योंकि दोनों के लिए अलग विशेषज्ञता चाहिए. बतौर इंसान हम कलाकार क्या सोचते हैं, हमें वो ज़रूर ज़ाहिर करना चाहिए पर कला और राजनीति अलग चीजें हैं."

    अमिताभ बच्चन, सलमान खान, शाहरुख़ खान और आमिर खान जैसे दिग्गज कलाकारों के साथ काम करने के बाद फ़िल्म "मॉम" में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी अब बड़े परदे पर लीजेंड्री श्रीदेवी के साथ नज़र आएंगे. बचपन से श्रीदेवी के फैन रहे नवाज़ुद्दीन ने श्रीदेवी की सारी फ़िल्में देखी हैं.

    रवि उदयवर द्वारा निर्देशित "मॉम" में श्रीदेवी, नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और अक्षय कुमार अहम भूमिका में नज़र आएंगे. फ़िल्म 7 जुलाई को रिलीज़ होगी.

    'नवाज़ुद्दीन को रामलीला से बाहर करवाया गया'

    रामलीला से बार हुए नवाज़ुद्दीन के 'बचपन का सपना'

    (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

    BBC Hindi
    English summary
    Its not easy to typecast me says Nawazuddin Siqqiqui ,

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X