For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    'गुलज़ार ने झगड़ा ख़त्म कराया'

    By Ankur Sharma
    |

    क्या आपको पता है कि महान संगीतकार दिवंगत सचिनदेव बर्मन के लिए कई गाने गाने वाली लता मंगेशकर का एक वक़्त उनसे झगड़ा चल रहा था.

    लता दीदी उस दौरान सचिन दा के लिए गाने नहीं गा रही थीं. उनका झगड़ा ख़त्म हुआ मशहूर शायर गुलज़ार की वजह से जो उन दिनों फ़िल्म उद्योग में बिलकुल नए थे.

    गुलज़ार के 74वें जन्मदिन पर लता मंगेशकर ने ऐसी ही कुछ दिलचस्प बातें और यादें बांटी बीबीसी के साथ.

    लता दीदी ने बताया "बर्मन दादा के साथ मेरा झगड़ा चल रहा था. इस बीच एक दिन उनका फ़ोन आया कि एक नया लड़का आया है उसने फ़िल्म 'बंदिनी' के लिए ये गाना लिखा है 'मोरा गोरा अंग लई ले, मोहे श्याम रंग दई दे'. मुझे ये गाना इतना पसंद आया कि मैं गाने के लिए मान गई." यही गाना गुलज़ार के फ़िल्मी करियर का पहला गाना था.

    लता मंगेशकर के मुताबिक गुलज़ार की शायरी बाकी शायरों से बिलकुल अलग होती है. उनके सोचने का ढंग बिलकुल जुदा होता है.

    वो कहती हैं "कई बार मैं उनसे पूछती कि आपने ये शब्द क्यों लिखा है या ये लाइन क्यों लिखी है, तो वो सिर्फ़ हंस देते और कहते मुझे अच्छा लगा तो मैंने लिख दिया. वो उसकी कोई वजह नहीं बताते. उन्हें जो अच्छा लगता है वो वही लिखते हैं."

    गुलज़ार के लिखे लता के पसंदीदा गाने हैं 'नाम गुम जाएगा, चेहरा ये बदल जाएगा', 'यारा सीली-सीली' और 'पानी-पानी रे'.

    लता मंगेशकर ने बताया कि उनके भाई ह्रदयनाथ मंगेशकर भी गुलज़ार के बहुत बड़े प्रशंसक हैं.

    वो कहती हैं "मैं भगवान की शुक्रगुज़ार हूं कि मुझे गुलज़ार के लिखे ढेर सारे गाने गाने का मौका मिला. उन्होंने आरडी बर्मन से लेकर विशाल तक के लिए गाने लिखे."

    बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में गुलज़ार ने बताया कि शायरी उनका पहला प्यार है, और जब उन्होंने अपने करियर का पहला फ़िल्मी गीत 'मोरा गोरा अंग लई ले' लिखा तो वो फ़िल्मों के लिए गाने लिखने को लेकर बहुत ज़्यादा उत्सुक नहीं थे, लेकिन फिर एक के बाद एक गाने लिखने का मौका मिलता गया और वो गाने लिखते चले गए.

    गुलज़ार ने 60 के दशक से लेकर अब तक ढेरों गीत लिखे हैं. उनके लिखे गानों ने लोकप्रियता की बुलंदियों को छुआ. वो हर किस्म के गाने लिखने में माहिर हैं.

    'इस मोड़ से आते हैं कुछ सुस्त क़दम रस्ते', 'मुसाफ़िर हूं यारों', 'आने वाला पल जाने वाला है', 'मेरा कुछ सामान तुम्हारे पास है' से लेकर 'कजरारे-कजरारे' और 'बीड़ी जलई ले' जैसे गाने गुलज़ार के लेखन की विविधता को व्यक्त करते हैं.

    उन्होंने शायरी और गाने लिखने के अलावा 'परिचय','आंधी','अंगूर','कोशिश' और 'माचिस' जैसी फ़िल्मों को लिखा और निर्देशित किया.

    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X