For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    विकी कौशल की 'सरदार उधम' देखने से पहले, सामने आयी ये बड़ी जानकारी, पढ़िए पूरी डिटेल

    By Filmibeat Desk
    |

    सरदार उधम इस दशहरा, 16 अक्टूबर को अमेज़न प्राइम वीडियो पर रिलीज हो रही है। शूजीत सरकार द्वारा निर्देशित, फिल्म में विक्की कौशल मुख्य भूमिका में हैं। फिल्म में अभिनेता अमोल पाराशर की भी विशेष भूमिका है। रिलीज से पहले जानते हैं कि आखिर क्या प्रमुख है इस फिल्म में जो कि दर्शकों के लिए मस्ट वॅाच बनने वाली है।

    जलियांवाला बाग हत्याकांड का प्रभाव

    13 अप्रैल, 1919 को अमृतसर के जलियांवाला बाग में घटी घटना भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के पन्नों की एक दुखद घटना है, जिसमें कई बेगुनाहों की जान चली गई थी और कई घायल हो गए थे। यह घटना हमारे देश के स्वतंत्रता आंदोलन में पहला झटका थी और अंग्रेजों के साथ सहयोग नहीं करने पर आंख खोलने वाली घटना थी। इस हत्याकांड ने सरदार उधम सिंह को गहराई से प्रभावित किया और उन्होंने अपने साथी देशवासियों की मौत का बदला लेने का संकल्प लिया। महज 20 साल की उम्र में उन्होंने इसे अपना एकमात्र मिशन बना लिया और इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया।

    उधम और भगत सिंह की दोस्ती

    सरदार उधम सिंह के सबसे महान सहयोगियों में से एक शहीद भगत सिंह थे। उधम सिंह ने भगत सिंह से जेल में मुलाकात की.. और उधम ने भगत को अपना 'गुरु' कहा। उधम पर भगत सिंह का प्रभाव शक्तिशाली और चिरस्थायी दोनों था। वह भगत की नास्तिकता से प्रभावित थे। उन्होंने भगत सिंह के कदमों पर चलना शुरू किया और देश की आजादी के लिए उनके जैसे ही जोश और जुनून के साथ संघर्ष किया।

    कई भूमिका निभाना और विभिन्न व्यवसायों का अभ्यास करना

    उधम सिंह में दुनिया भर में यात्रा करने के लिए विभिन्न पहचानों को छिपाने और अनुकूलित करने की क्षमता थी, जिसके जरिये वह कैक्सटन हॉल के उस एक द्वार को पार करने और अनगिनत निर्दोष भारतीय आत्माओं की मौत का बदला लेने वाले थे। जब विभिन्न व्यक्तित्वों को श्रेष्ठ बनाने की बात आती है तो वह एक परफेक्शनिस्ट थे। एक कारण यह हो सकता है कि वह हर बार इसे एक अभिनेता के रूप में अपने अनुभव से प्राप्त करने में सफल रहे। उन्होंने एलीफेंट बॉय (1937) के सेट पर एक एक्स्ट्रा के रूप में काम किया था। वह एक बहु-प्रतिभाशाली व्यक्ति थे, जिन्होंने समय के साथ एक साइनबोर्ड पेंटर, कारपेंटर, एक कारखाने में वेल्डर, लॉन्जरी सेल्समेन से ले कर शिपिंग जहाज पर एक नाविक के रूप में विभिन्न कौशलों को अनुकूलित किया था।

    Vicky Kaushal

    इंतजार खत्म हुआ

    13 मार्च 1940 को, सरदार उधम सिंह ने ईस्ट इंडिया एसोसिएशन और कैक्सटन हिल में द रॉयल सेंट्रल एशियन सोसाइटी की एक बैठक में माइकल ओ'डायर को गोली मार दी। उन्होंने अपनी डायरी से रिवॉल्वर निकालकर जनरल डायर पर गोली चला दी। उन्होंने दुनिया के सामने ऐसा इसलिए किया क्योंकि वह एक संदेश देना चाहते थे, वह चाहते थे कि यह एक ऐसी घटना हो जो लोगों को क्रांति की याद दिलाए और दुनिया को भारत की सबसे बड़ी त्रासदी को कभी नहीं भूलना चाहिए। जब वह पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये गए तो वह शांत थे और धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा कर रहे थे। उन्हें ब्रिक्सटन जेल में कैद किया गया था।

    English summary
    Five things to know about Sardar Udham Singh before watching Amazon Prime Video film Sardhar Udham, Here read in details
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X