For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    रेडी 2 RELEASE: 90's का 'करारा' मसाला निकलेगी 'दम लगाके हईशा?

    |

    आयुष्मान खुराना एक ऐसे एक्टर हैं जिन्हे्ं एक्सपेरिमेंट करने से कोई गुरेज नहीं है। चाहे फिर वो विक्की डोनर, नौटंकी साला या फिर हवाईज़ादा। हालांकि वो अपने अभिनय से कोई बेहतरीन या उम्दा छाप नहीं छोड़ते लेकिन फिर भी उनकी फिल्म में कुछ नया ज़रूर होता है।

    फिल्म दम लगाके हईशा से भी आयुष्मान खुराना कुछ ऐसा ही करने वाले हैं। यशराज फिल्म्स की ये नई पेशकश एक अच्छा और रिस्क भरा एक्सपेरिमेंट है क्योंकि यहां हीरोइन एक शिफॉन साड़ी में बर्फ से भरे पहाड़ों पर नाच नहीं सकती।

    कारण थोड़ा गुदगूदाता सकता है, थोड़ा सा अचंभित कर सकता लेकिन फिर भी उत्सुकता जगाता है। फिल्म की हीरोइन है 90 किलो की एक लड़की और उसके आधे वज़न के एक लड़के की लव स्टोरी। फिल्म में काफी कुछ ऐसा है जो आपको नब्बे के दशक की याद दिला देगा।

    फिल्‍म की कहानी बहुत ही सिंपल सी है। लीड एक्‍टर आयुष्‍मान की शादी उनसे दोगुने वजन वाली लड़की से कर दी जाती है, जो आयुष्‍मान खुराना को बिल्‍कुल पसंद नहीं और वे उससे दूर भागते हैं, लेकिन परिवार के सदस्‍य दोनों को पास लाने की को‍श‍शि करते नजर आते हैं। ऐसे में इस जद्दोजहद में आयुष्‍मान के सिर एक ऐसी प्रतियोगिता को अंजाम देने का बोझ मढ़ दिया जाता है, जिसमें आयुष्‍मान को अपनी पत्‍नी को पीठ पर उठा कर एक रेस को जीतना है। और यहीं से शुरू होगा एक 'बड़ी' लव स्टोरी। जानिए फिल्म की वो बातें जो आपको गुदगुदाने के लिए काफी हैं ।

    90 के गाने

    90 के गाने

    फिल्म में कुमार सानू और साधना की आवाज़ में एक गाना है। बिल्कुल 90 के दशक की याद दिलाता। हो नहीं सकता से लेकर मैं दुनिया भुला दूंगा तक।

    ड्रीम सीक्वेंस

    ड्रीम सीक्वेंस

    फिल्म में ऐसे कितने ड्रीम सीक्वेंस हैं ये तो पता नहीं पर 90 का इतना तड़का काफी नहीं है कि फिल्म में ड्रीम सीक्वेंस है।

    गोविंदा कॉस्ट्यूम

    गोविंदा कॉस्ट्यूम

    फिल्म में आयुष्मान के कॉस्ट्यूम देखकर आपको गोविंदा के कॉस्ट्यूम याद आ जाएंगे। साजन चले ससुराल से लेकर परदेसी बाबू तक के।

    अनु मलिक

    अनु मलिक

    90 का म्यूज़िक मतलब ही था अनु मलिक। टन टना टन टन टन तारा हो या फिर एक गरम चाय की प्याली। या फिर बाज़ीगर सब पर अनु मलिक का लेबल था और सबको बहुत पसंद था।

    शादियां ऐसे ही होती हैं

    शादियां ऐसे ही होती हैं

    जी हां ये वो दौर था जब शादियां ऐसे ही होती थीं। घरवालों ने लड़की या लड़का ढूंढा और आपको उसी से शादी करनी थी। ये 90'S था बाबू!

    नो ज़ीरो फिगर

    नो ज़ीरो फिगर

    90 के दशक का सबसे बड़ी पहचान। एक नॉर्मल हीरोइन। हां भूमि पेडनेकर (थोड़ी ज़्यादा ओवरवेट हैं) पर फिर भी ज़ीरो फिगर 90'S में कभी नहीं था। रंभा से लेकर ममता कुलकर्णी तक सारी हीरोइनें याद करिए ज़रा!

    English summary
    Ayushmann Khurrana and Bhumi Pednekar are ready to revive the 90's magic through Yashraj Films' Dum Lagake Haisha releasing on February 27th.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X