For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    दिलीप कुमार एडवांस्ड प्रोस्टेट कैंसर से थे पीड़ित, किडनी हो गई थीं फेल- डॉक्टर ने किया खुलासा

    |

    अभिनेता दिलीप कुमार ने मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में 7 जुलाई को अंतिम सांसे लीं। 98 वर्षीय अभिनेता पिछले 15 दिनों से अस्पताल में भर्ती थे। सांस संबंधी परेशानियों के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बीते 3-4 महीनों में कई बार दिलीप कुमार को अस्पताल लाना पड़ा था।

    द इंडियन एक्सप्रेस में आई एक रिपोर्ट के अनुसार, अस्पताल के डॉक्टर ने बताया है कि दिलीप कुमार एडवांस्ड प्रोस्टेट कैंसर से पीड़ित थे और ये शरीर के बाकी अंगों में फैल गया था। डॉक्टर्स ने बताया है कि दिलीप साहब के प्यूरल कैविटी में पानी था जो कई बार हटाया गया था। उनकी किडनी भी फेल हो गई थी। उन्हें कई बार ब्लड ट्रांसफ्यूजन की जरुरत पड़ी। हमने आखिरी बार भी किया था लेकिन वह काम नहीं किया।

    डॉक्टर ने आगे बताया कि दिलीप कुमार कई महीनों से बिस्तर पर थे मगर बीते कुछ दिनों से रिस्पॉन्स नहीं कर रहे थे।

    दिलीप कुमार के निधन के बाद सायरा बानो के पहले शब्द- 'भगवान ने मेरे जीने की वजह छीन ली', शोकग्रस्त तस्वीरेंदिलीप कुमार के निधन के बाद सायरा बानो के पहले शब्द- 'भगवान ने मेरे जीने की वजह छीन ली', शोकग्रस्त तस्वीरें

    उन्होंने कहा, एक्टर के प्यूरल कैविटी से कई बार हमने फ्लूइड निकाला था। उनका ब्लड प्रेशर कम हो रहा था और हीमोग्लोबिन में भी गिरावट हो रही थी। कैंसर शरीर के बाकी अंगों में भी फैल रहा था जिसकी वजह से उनका इलाज करने में दिक्कत हो रही थी।

    घर पर हो रहा था ट्रीटमेंट

    घर पर हो रहा था ट्रीटमेंट

    बता दें, सायरा बानो ने घर पर 10 लोगों की टीम रख रखी थी जो दिलीप कुमार का घर पर ट्रीटमेंट करते थे इसके साथ ही घर पर एक मिनी आईसीयू सेटअप भी था। जब दिलीप कुमार को सांस लेने में दिक्कत होती थी तो ब्लड ट्रांसफ्यूजन के लिए उन्हें अस्पताल लेकर आते थे।

    7 जुलाई को निधन

    7 जुलाई को निधन

    दिलीप कुमार का 7 जुलाई की सुबह निधन हो गया। उन्होंने मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में आखिरी सांस ली।दिलीप कुमार के निधन से सायरा बानो टूट चुकी हैं।

    5 दशक का करियर

    5 दशक का करियर

    दिलीप कुमार ने अपने अभिनय की शुरुआत 1944 में फिल्म ज्वार भाटा से की थी, इसे बॉम्बे टॉकीज ने प्रोड्यूस किया था। करीब पांच दशक के एक्टिंग करियर में 65 से ज्यादा फिल्मों में काम किया। आज उनके निधन से सिनेमा के एक युग का अंत हो गया।

    यूसुफ खान

    यूसुफ खान

    दिलीप कुमार का जन्म 11 दिसंबर साल 1922 को पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था। उनका असली नाम यूसुफ सरवर खान था। फिल्मों में आने से पहले वह अपने पिता का कारोबार संभालते थे।

    फिल्मी सफर

    फिल्मी सफर

    अपने फिल्मी सफर में अभिनेता ने 65 से ज्यादा फिल्में की हैं। उन्हें फिल्मों का 'द फर्स्ट खान' और 'द ट्रैजेडी' किंग जैसी उपाधि दी गई थी।दिलीप कुमार फिल्मफेयर का बेस्ट एक्टर अवार्ड जीतने वाले पहले अभिनेता बने। यह उन्हें फिल्म दाग के लिए मिला था। उन्होंने अपने करियर में 8 बार बेस्ट एक्टर का अवार्ड जीता, जो कि अब तक का रिकॉर्ड है।

    दादा साहेब फाल्के पुरस्कार

    दादा साहेब फाल्के पुरस्कार

    1980 में उन्हें सम्मानित करने के लिए मुंबई का शेरिफ घोषित किया गया। 1995 में उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 1998 में उन्हे पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज़ भी प्रदान किया गया।

    सायरा बानो से शादी

    सायरा बानो से शादी

    दिलीप कुमार ने अभिनेत्री सायरा बानो से 1966 में विवाह किया। विवाह के समय दिलीप कुमार 44 वर्ष और सायरा बानो 22 वर्ष की थीं। शादी के बाद सायरा बानो ने फिल्मों से दूरी बना ली थी।

    English summary
    Dilip Kumar had advanced prostate cancer that had spread in other organs of his body, revealed his doctors. The actor, aged 98, was admitted to the hospital for the last 15 days.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X