For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    करण जौहर का नाम ड्रग्स केस में बोलो और छूट जाओ: NCB ने बनाया प्रोड्यूसर क्षितिज पर दबाव, किया टॉर्चर

    |

    धर्मा प्रोडक्शन्स से जुड़े क्षितिज प्रसाद को आज रिमांड के लिए एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मेजिस्ट्रेट के सामने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए पेश किया गया है। सुनवाई शुरू होने से पहले ही मैंने मजिस्ट्रेट को सूचना दी कि क्षितिज को प्रताड़ित और ब्लैकमेल किया गया और उनके साथ बुरा व्यवहार कर और थर्ड डिग्री का इस्तेमाल कर उनका बयान लिया गया है।

    मजिस्ट्रेट ने दोनों पक्षों की बातें सुन ली है और क्षितिज को 3 अक्टूबर तक NCB कस्टडी में ही रहने का फैसला दिया है। क्षितिज प्रसाद की रिमांड एप्लिकेशन से साफ है कि NCB केवल इस केस में करण जौहर और धर्मा प्रोडक्शन्स के कुछ टॉप ऑफिसर्स को फंसाना चाहती है।

    समीर वानखेड़े के अलावा बाकी के NCB ऑफिसर्स का बर्ताव क्षितिज के प्रति अच्छा था और उन्होंने उसके सोने की व्यवस्था ठीक ढंग से की। अगले दिन सुबह जब क्षितिज का बयान दर्ज होना शुरू हुआ तो उससे कहा गया कि चूंकि वो धर्मा प्रोडक्शन्स में काम करता है तो अगर वो सीधे सीधे करण जौहर, सोमेन मिश्रा, राखी, अपूर्व, नीरज या राहिल में से किसी का भी नाम ड्रग्स के इस्तेमाल में ले लेंगे तो वो उन्हें छोड़ देंगे।

    क्षितिज ने NCB की इस बात को मानने से साफ इंकार कर दिया, हालांकि उन पर काफी प्रेशर बनाया गया। क्षितिज का कहना था कि वो इनमें से किसी को भी निजी तौर पर जानता ही नहीं है।

    क्षितिज ने 27.09.2020 को मजिस्ट्रेट के सामने रिमांड के दौरान अपना बयान दर्ज किया जिसमें निम्नलिखित बातें कहीं गईं -

    विरोध के बावजूद लिखा पंचनामा

    विरोध के बावजूद लिखा पंचनामा

    क्षितिज को गुरूवार 24.09.2020 को NCB ऑफिसर सिंह ने एक कॉल किया था जिसमें कहा गया कि NCB ने उनके घर की तलाशी लेनी है जिसे सील कर दिया गया है और क्षितिज का बयान लेना है। क्षितिज 25.09.2020 को मुंबई लौटे और अपने घर आए जहां सुबह 9 बजे NCB की टीम पहले से ही मौजूद थी। तलाशी में टीम को घर से कुछ नहीं मिला सिवाय एक इस्तेमाल की हुई सिगरेट के एक अंत भाग के। NCB की टीम ज़ोर देने लगी कि इस सिगरेट में गांजा था, हालांकि घर में ऐसा कोई सुबूत नहीं मिला जिससे ये पुष्टि किया जा सके वो सिगरेट गांजा जॉइंट था। लेकिन फिर भी क्षितिज के विरोध के बावजूद पंचनामे में यही लिखा गया।

    दोस्तों पर बनाया दबाव

    दोस्तों पर बनाया दबाव

    उनकी पत्नी के काफी कहने पर पंचनामा में माना जा सकता है शब्द का इस्तेमाल किया। माना जा सकता है कि वो सिगरेट गांजा जॉइंट था। इसके बाद क्षितिज को घर की तलाशी के बाद सुबह 11.30 बजे अपने दोस्त ईशा और अनुभव के साथ NCB ऑफिस ले जाया गया। सुबह 11.30 बजे से शाम 6.30 बजे तक क्षितिज को NCB ऑफिस में बैठाए रखा गया और कुछ नहीं बताया गया जबकि उनके दोस्तों से पूछताछ जारी रही। इसके बाद उन्हें उनके दोस्तों ने बताया कि NCB ने साफ कहा कि अगर वो क्षितिज के खिलाफ बयान देते हैं तो उनके दोस्तों को छोड़ दिया जाएगा। थोड़ी देर बाद उनके दोस्तों को छोड़ दिया गया।

    ड्रग पेडलर से ज़बरदस्ती पहचान

    ड्रग पेडलर से ज़बरदस्ती पहचान

    करीब पौने सात बजे क्षितिज से आखिरकार पूछताछ शुरू की गई जहां संकेत नाम का एक आदमी जो NCB के अफसरों के साथ काफी दोस्ताना व्यवहार रख रहा था कमरे में आया। साथ ही आए NCB ऑफिसर समीर वानखेड़े और कुछ और ऑफिसर। संकेत से पूछा गया कि क्या वो क्षितिज को जानते हैं और संकेत ने क्षितिज को पहचानने से इंकार कर दिया। क्षितिज को तुरंत समीर वानखेड़े ने कमरे से बाहर जाने को कहा। पांच मिनट बाद जब उसे वापस कमरे में बुलाया गया तो अचानक संकेत ने कहा कि वो क्षितिज को पहचानता है और उसकी वॉट्सएप फोटो से पहचाना। वकील सतीश मानेशिंदे का कहना है कि क्षितिज और संकेत कभी नहीं मिले और संकेत क्षितिज को पहचानता नहीं है।

    नहीं मिला स्पष्टीकरण

    नहीं मिला स्पष्टीकरण

    इसके बाद समीर वानखेड़े ने क्षितिज का बयान रिकॉर्ड करना शुरू किया जहां उसके विरोध के बावजूद उसके खिलाफ झूठे आरोप बयान में डाले गए। क्षितिज की भाषा और बयान के हिसाब से बयान दर्ज नहीं किए गए। अपने बयान में क्षितिज ने लगातार समीर वानखेड़े से पूछा कि क्या उसे गिरफ्तार किया जा रहा है। क्षितिज लगातार अपने वकील या परिवार से बात करने की गुज़ारिश करता रहा लेकिन उसे इस बारे में कोई भी स्पष्टीकरण नहीं दिया गया।

    रात NCB ने रोक लिया

    रात NCB ने रोक लिया

    करीब रात में 11 बजे, क्षितिज को समीर वानखेड़े ने बताया कि उसे रात NCB के ऑफिस में गुज़ारनी होगी। उस समय भी क्षितिज ने पूछा कि क्या उसे गिरफ्तार किया गया है तो NCB के अधिकारियों ने उससे कहा कि नहीं उसे रोका जा रहा है क्योंकि उसका बयान पूरा नहीं हुआ है और सुरक्षा कारणों से उसे रुकना होगा।

    फिर हुई ज़बरदस्ती

    फिर हुई ज़बरदस्ती

    अगले दिन क्षितिज को करण जौहर का नाम ड्रग्स लेने के लिए दर्ज करवाने को कहा गया। क्षितिज ने कहा कि वो करण को नहीं जानते। जब उन्होंने बात नहीं मानी तो समीर वानखेड़े झल्ला गए और कहा कि तुम हमें सहयोग नहीं कर रहे तो हम मज़ा चखाएंगे। इसके बाद क्षितिज को समीर की कुर्सी के बगल में ज़मीन पर बैठा दिया गया।

    बताई औकात, डर चुके थे क्षितिज

    बताई औकात, डर चुके थे क्षितिज

    इसके बाद समीर वानखेड़े ने अपना जूता क्षितिज के मुंह के पास लाया और कहा कि ये तुम्हारी औकात है। ये घटना संकेत और कुछ और NCB अधिकारियों के सामने हुए और सब क्षितिज की दशा पर हंस रहे थे। इस घटना ने क्षितिज को पूरी तरह हिला कर रख दिया जो पहले कभी इस तरह की किसी सिचुएशन में नहीं रहा है। 48 घंटा कस्टडी में रहने के बाद वो पूरी तरह से डर चुका था।

    लगातार एक ही बात करते रहे क्षितिज

    लगातार एक ही बात करते रहे क्षितिज

    इसके बाद क्षितिज ने समीर वानखेड़े से अकेले में बात करने की गुज़ारिश की और उनसे पूछा कि उसने उन्हें किसी तरह से चोट पहुंचाई या गुस्सा दिलाया है। क्षितिज ने फिर अपने वकील या परिवार से बात करने की गुज़ारिश की। समीर वानखेड़े ने क्षितिज को कहा कि अगर वो घर पर बात करना चाहता है तो उसे बयान पर साईन करना होगा जिससे वो पलट नहीं सकता है। क्षितिज को कानूनी दांव पेंच नहीं पता और उसे नहीं पता था कि अपने बयान पर पलटने से क्या होगा।

    आखिरकार किया साईन

    आखिरकार किया साईन

    समीर वानखेड़े ने क्षितिज को कहा कि अगर उसने बयान पर साईन नहीं किया तो उस पर प्रेशर बढ़ता जाएगा और उसे अपने परिवार या वकील से भी मिलने की इजाज़त नहीं मिलेगे। 50 घंटों की पूछताछ के बाद थक हारकर, ना चाहते हुए भी क्षितिज ने साईन कर दिया।

    कौन हैं क्षितिज

    कौन हैं क्षितिज

    गौरतलब है कि क्षितिज रवि प्रसाद करण जौहर की कंपनी धर्माटिक इंटरटेनमेंट में एक प्रोजेक्ट के सिलसिले में जुड़े थे। करण जौहर अपने बयान में साफ कर चुके हैं कि वो उन्हें नहीं जानते और अपनी निजी ज़िंदगी में क्षितिज क्या करते हैं इससे उनका कोई लेना देना नहीं है।

    English summary
    NCB officer Sameer Wankhede tortured Dharmatic Entertainment producer Kshitij Ravi Prasad to name Karan Johar in drugs case
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X