For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts
    BBC Hindi

    कौन थीं बॉलीवुड की पहली 'पिनअप गर्ल'?

    By इंदु पांडेय - बीबीसी हिंदी के लिए
    |

    समाज को पुरुष प्रधान समाज कहा जाता है लेकिन औरत के बिना किसी भी समाज की कल्पना नहीं की जा सकती फ्रेंच एक्ट्रेस क्लॉउडिया द फ़्रिस ने एक बार कहा था कि "पृथ्वी से अगर औरत को हटा दिया जाए तो पृथ्वी रसातल में पहुँच जाएगी."

    हालाँकि भारतीय फ़िल्मों की पहली नायिका की बात करे तो वो एक पुरुष ही था जिनका नाम था श्रीमान सालुंके. उन्होंने भारत की पहली फिल्म राजा हरीशचंद्र में अभिनय किया था.

    मधुबाला की वो अधूरी ख़्वाहिश?

    जिनका आधा सौंदर्य ही दिखा पाता था फ़िल्मी पर्दा

    दादा साहब फालके की दूसरी फ़िल्म थी 'भस्मासुर मोहिनी' जिसमें सचमुच की दो औरतों को काम करने का मौका मिला जिनका नाम था दुर्गा और कमला.

    दुर्गा बाई चूंकि लीड भूमिका में थी इसलिए पहली स्त्री नायिका होने का हक़ उन्हीं को जाता है.

    लेकिन जिस अभिनेत्री का जादू जनता के सिर पहली बार चढ़कर बोला उनका नाम था मन्दाकिनी जो की दादा साहब फालके की बेटी थी.

    भारतीय फ़िल्मों की पहली स्टार थी सुलोचना जिनका असली नाम था रूबी मेयर जो टेलीफ़ोन ऑपरेटर का काम करती थी जो कोहिनूर फिल्म कम्पनी के मोहन भवनानी की फिल्म 'वीरबाला' में आई सुलोचना की अदाएँ लोगों को इतनी पसंद आई कि वो मूक फ़िल्मों की पहली स्टार बन गई.

    कभी हेमा मालिनी को फ़िल्मी दुनिया की 'ड्रीम गर्ल' कहा गया था लेकिन फिल्म इतिहासकारों के अनुसार 'देविका रानी' को भारतीय सिनेमा की पहली 'ड्रीम गर्ल' का ख़िताब दिया गया था.

    वो अछूत कन्या में अशोक कुमार की हिरोइन थीं. 'फ़र्स्ट लेडी ऑफ़ द इंडियन स्क्रीन' भी देविका रानी को कहा जाता है, जो अपने ज़माने की असाधारण नायिका थी जिनको जवाहर लाल नेहरू ने कभी प्रसंशा पत्र भी लिखा था.

    1934 में एक फिल्म आई हंटरवाली जिसमें हीरोइन थीं नादिया जो बाद में फिल्मी दुनिया की 'स्टंट क्वीन' कहलाई.

    हिंदी फिल्मों की मशहूर फ़िल्मी पत्रिका के लेखक बीके करंजिया ने एक लेखा में लिखा था कि मधुबाला ने स्टार शब्द को सही मायने दिए. प्रेस पर बंदिश लगाने वाली पहली कलाकार मधुबाला ही थी जो भारतीय रजतपट की 'वीनस' कहलाई .

    लगभग पाँच सौ फ़िल्मों में अभिनय और डांस से दर्शकों को मोहित करने वाली हेलन को भारतीय फ़िल्मों की 'कैबरे क्वीन' कहा गया.

    फिल्म समीक्षक जय प्रकाश चौकसे के अनुसार फिल्मों में संभ्रांत महिलाओं के लिए राह आसान बनाने वाली दुर्गा खोटे ने मूक फिल्मों से आधुनिक दौर की फिल्मों तक लंबी अभिनय पारी खेली. उन्होंने इस दौरान मुगले आज़म, बावर्ची जैसी फ़िल्मों में कई यादगार भूमिकाएँ निभाईं.

    लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि दुर्गा पहली ऐसी अभिनेत्री थी जो ग्रेजुएट थीं.

    बेग़म पारा अपने ज़माने की सबसे बिंदास गर्ल के रूप में जानी जाती है जिनके फोटोशूट उस ज़माने में काफी मशहूर हुए. वो हिंदी फ़िल्मों की पहली 'पिनअप गर्ल' कहलाई.

    बाद में उन्होंने दिलीप कुमार के भाई नासिर ख़ान से शादी कर के घर बसा लिया था.

    (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

    BBC Hindi
    English summary
    Bollywood heroines who were identified with tag line.

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X