For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    Breaking: अस्पताल में भर्ती हैं अमिताभ बच्चन, रात 2 बजे अस्पताल लेकर भागा परिवार

    |

    अमिताभ बच्चन अपने कुली के एक्सीडेंट के बाद से ही खराब लीवर के साथ जी रहे हैं। 15 अक्टूबर की रात 2 बजे उनके लीवर में कार्य करने की क्षमता में कमी के बाद उन्हें अस्पताल लेकर दौड़ा गया है। तब से अमिताभ बच्चन अस्पताल में ही भर्ती हैं।

    हालांकि ये खबर आज जाकर मुंबई मिरर ने सार्वजनिक की है। तीन दिन से अमिताभ बच्चन को अस्पताल में केवल बच्चन परिवार के लोग ही मिलने और देखने पहुंच रहे हैं।

    फिलहाल उनकी सेहत पर कोई अपडेट नहीं है। हाल ही में अमिताभ बच्चन ने अपनी बीमारी से जुड़े राज़ खोलते हुए बताया था कि वो केवल 25 प्रतिशत लीवर पर ज़िंदा हैं।

    उन्होंने अपनी हालत का उदाहरण देते हुए एक कार्यक्रम में लोगों को जागरूक होने का संदेश दिया था। इसके कुछ अंश हम आपसे बांट रहे हैं

    काफी खराब है तबीयत

    काफी खराब है तबीयत

    अमिताभ बच्चन का लीवर खराब है और उन्हें एक समय में टीबी था। लेकिन जहां लीवर के बारे में उन्हें 20 साल बाद पता चला, वहीं टीबी के बारे में 8 साल बाद। उनका कहना था कि जब मेरे जैसा सुख - सुविधा से संपन्न आदमी इतने गंभीर मुद्दे को टाल सकता है तो बाकी लोग भी करते होंगे। उन्होंने सबसे लगातार चेकअप करवाने की गुज़ारिश भी की।

    बस एक गलती

    बस एक गलती

    अमिताभ बच्चन के इलाज के दौरान, उन्हें खून चढ़ाया गया। कई बोतल। जिनकी कोई गिनती नहीं थी। लेकिन जल्दबाज़ी में इनमें से किसी एक बोतल का टेस्ट छूट गया और इस बोतल का खून में हेपिटाईटिस बी के अंश थे। और यही बोतल अमिताभ बच्चन को चढ़ा दी गई।

    20 साल तक नहीं पता

    20 साल तक नहीं पता

    हेपिटाईटिस बी के कारण, अमिताभ बच्चन का लीवर खराब हो गया और उन्हें अपनी इस बीमारी के बारे में 20 साल बाद पता चल पाया। तब तक उनका 75 प्रतिशत लीवर खराब हो चुका था। फिलहाल वो केवल 25 प्रतिशत लीवर पर जी रहे हैं।

    टीबी के मरीज़

    टीबी के मरीज़

    अमिताभ बच्चन को एक समय में टीबी भी था लेकिन उन्होंने कभी इसका टेस्ट नहीं कराया। उन्हें अपनी इस बीमारी का पता, बीमारी के 8 साल बाद लगा और तब तक स्थिति काफी बिगड़ चुकी है।

    जुनूनी एक्टर

    जुनूनी एक्टर

    कुली की शूटिंग के साथ अमिताभ बच्चन के साथ एक हादसा हुआ जिसके बाद वो काफी समय तक ज़िंदगी और मौत से जूझते रहे। वो एक अनहोनी पूरे फिल्म इतिहास को बदल कर रख सकती थी। हालांकि इन 37 सालों में कुछ नहीं बदला। तब भी काम के प्रति जुनूनी एक्टर था और आज भी काम के लिए वही जुनून है। मनमोहन देसाई की इस फिल्म ने ताबड़तोड़ कलेक्शन बटोरा था।

    पूरा फाइट सीक्वेंस पहले से तैयार

    पूरा फाइट सीक्वेंस पहले से तैयार

    क्या आपको कुली फिल्म का वो शॉट याद है जिसमें बिग बी मेज से टकराते हैं। फिल्म में विलेन पुनीत इस्सर के साथ बिग बी दो दो हाथ कर रहे थे। एक्शन डायरेक्टर ने पूरा फाइट सीक्वेंस पहले से तैयार कर रखा था। बस उससे एक गलती हो गई। गलती ये कि लड़ाई की जगह पर उसने एक मेज रख दी, वो मेज जिसके कोने पर एल्युनियम चढ़ा हुआ था और इस वजह से वो नुकीला हो गया था।

    60 बोतल खून

    60 बोतल खून

    जैसे ही पुनीत इस्सर ने पहला घूंसा मारा, अमिताभ लडख़ड़ाए। इसके बाद पुनीत इस्सर के धक्के से अमिताभ मेज पर जा गिरे। बस यहीं वक्त थम गया। फिल्म यूनिट खुशी से चिल्ला पड़ी, ग्रेट शॉट। अगले ही पल मुंबई के ब्रीच कैंडी में उनका ऑपरेशन हो रहा था। उन्हें 60 बोतल खून चढ़ाया गया। अस्तपताल में इलाज चलता रहा और बाहर पूरे देश में दुआओं का दौर। लोगों ने व्रत रखे, मन्नत मांगी और अमिताभ ने मौत को मात दे दी, ठीक होकर घर लौटे।

    English summary
    Amitabh Bachchan has been rushed to hospital at 2 am in the midnight on October 15 after he compalined of liver dysfunction.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X