For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    INTERVIEW: 'जब हालात सुधरेंगे, राधे को थियेटर्स में जरूर रिलीज किया जाएगा, वादा है'- सलमान खान

    |

    'एक बार जो मैंने कमिटमेंट कर दी, तो फिर मैं खुद की भी नहीं सुनता'; सलमान खान ने अपनी फिल्म यह डायलॉग असल जीवन में उतार कर दिखाया है। 'राधे- योर मोस्ट वांटेड भाई' के साथ सलमान खान ईद के मौके पर फैंस के सामने आ रहे हैं। हां, इस बार स्क्रीन का अंतर है, सिनेमाघर की जगह मोबाइल, लैपटॉप और टेलीविजन ने ले ली है। लेकिन अभिनेता ने फैंस को निराश नहीं किया।

    राधे 13 मई को रिलीज हो रही है। फिल्म को ज़ी5 पर 'पे-पर-व्यू' सर्विस ज़ी प्लेक्स पर देखा जा सकता है। जीप्लेक्स डीटीएच प्लेटफॉर्म जैसे डिश, डी2एच, टाटा स्काई और एयरटेल डिजिटल टीवी पर भी उपलब्ध है।

    फिल्म की रिलीज से पहले सलमान खान ने मीडिया से खास बातचीत की, जहां उन्होंने फैंस और थियेटर मालिकों से वादा किया है कि जब देश कोविड 19 से उबर जाएगा तो राधे को थियेटर्स में भी जरूर रिलीज किया जाएगा।

    साथ ही दबंग खान ने कोविड के दौरान फिल्म इंडस्ट्री द्वारा किये जा रहे राहत कार्य, बॉक्स ऑफिस पर हो रहे नुकसान और वाज़िद खान के साथ अपनी यादों के बारे में भी बातें साझा की हैं।

    यहां पढ़ें इंटरव्यू से कुछ प्रमुख अंश-

    'राधे' बड़ी स्क्रीन को कितना मिस कर रही है?

    'राधे' बड़ी स्क्रीन को कितना मिस कर रही है?

    जितना मैं और आप बिग स्क्रीन को मिस कर रहे हैं, उतना ही राधे भी बिग स्क्रीन को मिस कर रही है। दरअसल, ये बिग स्क्रीन की फिल्म है। फिल्म का एक्शन, गाने, प्लॉट सब बड़ी स्क्रीन के लिए ही है। अब निर्णय तो ले लिया था कि ईद पर आएंगे, लेकिन लॉकडाउन लग गया। पिछली बार नहीं आ सके तो एक साल और पोस्टपोन कर दिया। थियेटर मालिकों ने कहा कि ओटीटी पर मत जाओ, बड़ी स्क्रीन का इंतजार करो, चूंकि थियेटर्स बंद हो रहे थे, इसीलिए हमने सोचा कि ये सही समय है। लेकिन जैसे ही हमने फिर से फिल्म रिलीज की घोषणा की, फिर ये लॉकडाउन लग गया। हमें लगा कि ये 10-15 दिनों का होगा और फिर थियेटर्स खुल जाएंगे, जो भी 30- 50 प्रतिशत ऑक्यूपेंसी के साथ खुलें। लेकिन वो भी नहीं हुआ। हालांकि ये अच्छी बात है क्योंकि लोग थियेटर्स में जाते और यदि एक भी कोरोना हो जाता तो काफी बुरा होता।

    थियेटर्स में रिलीज करेंगे फिल्म, वादा है हमारा

    थियेटर्स में रिलीज करेंगे फिल्म, वादा है हमारा

    एक्टर ने आगे कहा- जब ये सब खत्म हो जाएगा, उस वक्त हम इस फिल्म को थियेटर में रिलीज करेंगे। ये थियेटर ओनर्स से वादा है हमारा। अब इसमें क्या होता है कि जब नुकसान होता है तो कोई निभाता नहीं है। ज़ी और हम अनोखे हैं। हमारा नुकसान होने वाला है क्योंकि आपको भी पता है कि थियेटर में रिलीज नहीं होगी फिल्म.. तो ज़ी को और हमें इसका कितना नुकसान उठाना पड़ेगा। अब हम इस नुकसान के पार्टनर हैं। इसका सिर्फ एक ही कारण है कि हमें ये फिल्म लानी थी ताकि लोगों का दिल बहल जाए और निगेटिविटी से ध्यान हटे। अब इस फिल्म को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर देखेंगे। ओवरसीज में तो थियेटर में आ रही है। भारत में बहुत कम थियेटर हैं, शायद 25- 30 ही जहां फिल्म रिलीज होगी, लेकिन वहां से कलेक्शन आने वाला है नहीं। हमलोग अब तक 250 करोड़, 300 करोड़, 150 करोड़ की बात करते हैं, इस बार ऐसी कोई बात नहीं है, नुकसान से बढ़कर कमिटमेंट है। भले हमारा नुकसान होगा लेकिन कम से कम फैंस को थोड़ा एंटरटेनमेंट तो मिलेगा। यह अच्छा है कि वो घर में अपने परिवार के साथ सुरक्षित रह कर ये फिल्म देखेंगे। हमारी नीयत सही है। फिल्म अच्छी बनी है, आप लोगों ने गाने भी देखें हैं। हमें इस बार बिल्कुल वक्त नहीं मिला गाने प्रमोट करने का, लेकिन सब खुद ब खुद ही ट्रेंड कर रहे हैं। मैंने सुना कि सीटीमार ने 100 मिलियन पार कर लिया है, हालांकि मुझे नहीं पता कि ये कितना अच्छा, कितना बुरा है। अब फिल्म आपके फोन, लैपटॉप, टेलीविजन पर आने को तैयार है। जब माहौल रिलैक्स हो जाएगा तो हम इसे थियेटर में भी जरूर लेकर आएंगे क्योंकि ये मल्टीप्लेक्स और सिंगल स्क्रीन की फिल्म है। लोग जाकर एन्जॉय करेंगे। इसे फैंस और ऑडियंस के साथ बैठकर देखने का अलग ही मजा आएगा, लेकिन फिलहाल सभी अपनी फैमिली के साथ देख सकते हैं।

    ऐसी खबर आई है कि कुछ सीन्स बदले गए हैं ओटीटी को ध्यान में रखते हुए?

    ऐसी खबर आई है कि कुछ सीन्स बदले गए हैं ओटीटी को ध्यान में रखते हुए?

    नहीं, नहीं, ये सच नहीं है। हमारा जो कट है, वो थियेटर्स के लिए कट था। जब एक फिल्म हम शूट करते हैं तो उसमें कभी कभी ऐसा लगता है कि ये सीन बहुत अच्छा है, लेकिन जब पूरी फिल्म एडिट करने बैठते हैं तो कई छोटे मोटे सीन निकल जाते हैं। ऐसा नहीं है कि हमने ओटीटी का सोचकर कुछ निकाला है। हालांकि, ओटीटी के लिए हमें बदलना ही चाहिए। आज कल जैसे सीरिज चलते हैं तो राधे को भी हम ढाई- तीन घंटे की फिल्म बना सकते थे, जो घर बैठे बैठे लोग देख भी लेते। लेकिन मैं अपनी फिल्मों को सामान्य तौर पर 2 घंटे 20 मिनट तक का रखता हूं, कभी कभी इससे कम भी। बजरंगी भाईजान जैसी फिल्म लंबी जाती है, लेकिन एक्शन फिल्में छोटी ही होती हैं। यह कैरेक्टर के बारे हैं, जितना कैरेक्टर होल्ड करके रख पाए, उतना ही हम उसे रखते हैं।

    देश में जब भी हालात गंभीर होते हैं, फिल्म इंडस्ट्री हमेशा खड़ी रहती है। इस बार भी इंडस्ट्री हर संभव मदद दे रही है। इस पर आप क्या सोचते हैं?

    देश में जब भी हालात गंभीर होते हैं, फिल्म इंडस्ट्री हमेशा खड़ी रहती है। इस बार भी इंडस्ट्री हर संभव मदद दे रही है। इस पर आप क्या सोचते हैं?

    ये हमेशा से होता आया है कि फिल्म इंडस्ट्री हर मुसीबत में मदद देने के लिए, सपोर्ट करने के लिए आगे आती है। और हिंदी फिल्म इंडस्ट्री ही नहीं, साउथ की भी और दूसरे भाषाओं की भी। ये इसीलिए भी क्योंकि वो लोगों को जागरूक कर सकते हैं, उनकी बात लोगों तक पहुंचती है और फैंस हमारी बात सुनते हैं।

    देश की हालात को देखते हुए भी कुछ लोग अभी भी कोविड की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं, उनको आप क्या कहना चाहेंगे?

    देश की हालात को देखते हुए भी कुछ लोग अभी भी कोविड की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं, उनको आप क्या कहना चाहेंगे?

    क्या कहें उनको अभी? डेढ़ साल हो गया है, और इस बार की लहर तो पहली वाली से भी ज्यादा खतरनाक है। पहली लहर में सुनने को मिलता था कि इसको कोविड हो गया, उसको कोविड हो गया, अपने घरों में नहीं हुआ था.. दूर दूर से सुनने को मिलता था। लेकिन अब हम सबके घरों में केस सामने आ रहे हैं। मुझे लगता है कि सभी को सुरक्षित रहना चाहिए, खासकर ये वैक्सीन तो लेना ही चाहिए। पहला डोज़ और दूसरा डोज़ लेने का मतलब नहीं कि आपको कोरोना नहीं होगा, हो सकता है आपको हो, लेकिन शायद आप वैंटिलेटर स्टेज तक नहीं पहुंचेंगे वैक्सीन लेने के बाद। मैं एक डोज़ लगवा चुका हूं। कल ही मेरे माता- पिता ने दूसरा डोज़ लिया है। अपनी सुरक्षा सर्वप्रथम है अभी। चलो आपको हो गया, आप बच गए, लेकिन आपसे यदि परिवार में किसी को हो गया और वो गंभीर हो गया तो! यह कितनी बुरी स्थिति होगी। शायद आप इसके लिए कभी अपने आपको माफ ना कर पाओ। तो गिल्ट पालने से बेहतर है कि एहतियात बरतें। अगर आपका टेस्ट निगेटिव आया, और फिर आप घूमने निकल गए तो इसका मतलब नहीं कि आप पॉजिटिव नहीं हो सकते। लेकिन उतनी देर में आपने किसी और को तो थमा दिया ना कोरोना वायरस। आपको सावधान रहना है। परेशानी है कि एक साथ इतने लोगों को हो रहा है और हमारे पास मेडिकल सुविधाएं ही नहीं हैं। सभी अस्पताल भरे हुए हैं। हमारी सरकार ने बहुत सारे सेंटर्स भी खोले हैं और सब भर चुके हैं। ना हमारे पास ऑक्सीज़न है अभी, ना सुविधाएं। कितने ही लोग रोज मर रहे हैं क्योंकि उन्हें अस्पतालों में जगह नहीं मिल रही है। मैं कई लोगों को जानता हूं, जिन्होंने अपने नजदीकी खोए हैं। इसीलिए हमें फिलहाल अपनी तरफ से पूरी सावधानी बरतने की जरूरत है।

    फिल्म इंडस्ट्री से आप सबने जो किया है अपने अपने तरीके से लोगों के लिए,और जो आप कर रहे हैं, ऐसे में खबर आ रही है कि राधे की कमाई भी कोविड राहत कार्य में ही जाएगी? ये खबर कितनी सच्ची है?

    फिल्म इंडस्ट्री से आप सबने जो किया है अपने अपने तरीके से लोगों के लिए,और जो आप कर रहे हैं, ऐसे में खबर आ रही है कि राधे की कमाई भी कोविड राहत कार्य में ही जाएगी? ये खबर कितनी सच्ची है?

    मैं आपको बताऊं कि राधे से हम कमाएंगे नहीं, इसमें हम गवाएंगे ही गवाएंगे। जो भी जाएगा वो हमारी ओर से जाएगा, वो ज़ी की ओर से जाएगा। आपको ऐसा लग रहा है कि हमने ये फिल्म रिलीज की है, ताकि हम कमाई करेंगे, लेकिन ऐसा है नहीं क्योंकि हमारा थियेट्रिकल रिलीज नहीं हो रहा है। मदद की बात करें तो हम कर ही रहे हैं। पिछली बार भी हमने 3000 और 1500 दिये थे, इस बार भी हम वो करेंगे, वो प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। मुझे लगता है कि 45 हजार से 50 हजार तक फिल्म इंडस्ट्री के वर्कर्स हैं, जिन्हें ये पैसे जाएंगे ताकि उन्हें कुछ राहत मिल सके। हम concentrators की सुविधा की अरेंज कर रहे हैं। एक बात मुझे 4-5 दिनों पहले पता चली कि जो हमारे फैन क्लब्स हैं वो इतना अच्छा काम कर रहे हैं, मुझे बहुत हैरानी और खुशी हुई। मैं उनका शुक्रिया अदा करता हूं कि अपने खुद के पैसों से अपने हाथ से उन्होंने इतना काम किया। उन्होंने अपने काम के बारे में ट्वीट किया था।

    आपकी जोड़ी प्रभुदेवा के साथ बहुत ही हिट रही है हमेशा से, आप दोनों को एक wavelength पर क्या साथ लेकर आता है?

    आपकी जोड़ी प्रभुदेवा के साथ बहुत ही हिट रही है हमेशा से, आप दोनों को एक wavelength पर क्या साथ लेकर आता है?

    मुझे लगता है कि वो एक बहुत ही टैलेंटेड एक्टर, डाइरेक्टर, डांसर और कोरियोग्राफर हैं। वो अपने हीरो को जानते हैं और वो ऑडियंस के पल्स को पहचानते हैं। हमारी जोड़ी काफी अच्छी रही है। वांटेड आई और एक बड़ी हिट रही, उसके बाद पिछले फिल्म जो आई तो पूरा उत्तर भारत बंद हो गया, सभी थियेटर्स बंद हो गए, जिसका असर दबंग पर भी दिखा। और अब राधे.. जो पिछले ईद से इस ईद तक पहुंच गई, मिस्टर कोरोना वायरस की वजह से। हम बस उम्मीद कर रहे हैं कि सिर्फ मेरे, उनके या फिल्म इंडस्ट्री के लिए ही नहीं, बल्कि सभी लोगों के लिए हालात अच्छे हो जाएं।

    सलमान खान का कमिटमेंट कितना बड़ा है कि उन्होंने अपने नुकसान को नजरअंदाज कर दिया और ईद पर आ गए?

    सलमान खान का कमिटमेंट कितना बड़ा है कि उन्होंने अपने नुकसान को नजरअंदाज कर दिया और ईद पर आ गए?

    यह दरअसल सच है। आपको याद होगा कि एक लेटर आया था हमारे पास, जब थियेटर मालिकों ने कहा था कि थियेटर्स बंद हो रहे हैं। तो हमारा पूरा इरादा था कि इसे थियेटर्स में ही लाना है। लेकिन वही नहीं हो पाया। हमने सोचा था कि राधे आएगी और लोग थियेटर्स की ओर वापसी करेंगे। लेकिन फिर लॉकडाउन लग गया। अब इन हालातों में बेहतर है कि लोग घर के अंदर बैठकर ही फिल्म देंखे। ना पॉपकॉर्न का खर्चा, ना समोसा का, ना टैक्सी का, ना रिक्शा का, ना पेट्रोल का, ना मल्टीप्लेक्स और सिंगल स्क्रीन थियेटर के टिकट का खर्चा। सारे खर्च बचाकर आप घर बैठे फिल्म देख लोगे। आपका फायदा है, हम हमारा नुकसान झेल लेंगे।

    फिल्म से आपके डांस मूव्स की भी काफी चर्चा है। लोग पसंद कर रहे हैं। सीटीमार गाने में आपको अल्लू अर्जुन से भी जोड़ा जा रहा था?

    फिल्म से आपके डांस मूव्स की भी काफी चर्चा है। लोग पसंद कर रहे हैं। सीटीमार गाने में आपको अल्लू अर्जुन से भी जोड़ा जा रहा था?

    वो फैंस का प्यार है। अल्लू अर्जुन बेस्ट डांसर्स में एक हैं, जिन्हें मैंने देखा है। यदि वो तुलना कर रहे हैं तो अच्छी बात है लेकिन मैं मेरी डासिंग कैपेसिटी से बहुत वाकिफ हूं। जितना मुझमें टैलेंट है डांसिंग का, मुझे पता है। अगर मैं मेहनत करूं उसपे थोड़ी सी तो मैं कर सकता हूं। ये नहीं बोलूंगा कि नहीं कर सकता, लेकिन धीरे धीरे.. अभी तो स्टार्स किया है, तो इसको धीरे धीरे बढ़ाएंगे हम। अंत अंत तक में माइकल जैक्सन और प्रभुदेवा से बेहतर डांसर बनूंगा। अभी उसमें टाइम है, 30-40 साल शायद।

    ये फिल्म आपके लिए काफी स्पेशल भी रही होगी क्योंकि वाज़िद के साथ आपका ताल्लुक काफी लंबा रहा है। इस फिल्म के गानों को वाज़िद के आखिरी गाने माने जा रहे हैं!

    ये फिल्म आपके लिए काफी स्पेशल भी रही होगी क्योंकि वाज़िद के साथ आपका ताल्लुक काफी लंबा रहा है। इस फिल्म के गानों को वाज़िद के आखिरी गाने माने जा रहे हैं!

    हां, साजिद ने सिर्फ अपना भाई ही नहीं, अपना बेस्ट फ्रेंड, बिजनेस पार्टनर, साथी खोया है। वो साथ में ही काम करते थे। सुबह से लेकर रात तक साथ ही में रहते थे और अचानक ही कोरोना की वजह से हमने वाजिद को खो दिया। यह साजिद के लिए बड़ा झटका था, लेकिन उसने खुद को संभाला और काम करना शुरु किया। ये राधे के जो गाने हैं, वो तो हैं ही.. लेकिन मेरे पास वाजिद के बहुत सारे गाने पड़े हैं। वाजिद हमेशा हमारे बीच रहेगा। बहुत ट्यून्स हैं, मुखड़े हैं, जो साजिद- वाजिद के मेरे पास रखे हैं। लगभग 100 गाने। होता ऐसा था कि वो मेरे पास आते थे और मुझे कोई गाना गाकर सुनाते थे, हम उन गानों को साइड में रख लेते थे, तो सभी हैं मेरे पास। अब जब ऐसी फिल्म आएगी, जिसमें वो गाने फिट होंगे, तो हम उसे डाल देंगे। कुछ गानों में तो वाज़िद की आवाज भी है। जब तक हम जिंदा हैं, वाजिद की आवाज भी जिंदा रखेंगे। आने वाली पीढ़ी संगीत के जरीए उसे याद रखेगी। मैं मानता हूं कि वो इंडस्ट्री के कुछ उन बहुत टैलेंटेड लोगों में था, जिसे वो पहचान नहीं मिली, जिसका वो हकदार था।

    मौजूदा हालातों में आप कहां से प्रेरणा लेते हैं? सकारात्मक और आशावादी बने रहने के लिए आप फैंस को क्या संदेश देना चाहेंगे?

    मौजूदा हालातों में आप कहां से प्रेरणा लेते हैं? सकारात्मक और आशावादी बने रहने के लिए आप फैंस को क्या संदेश देना चाहेंगे?

    यह बहुत मुश्किल वक्त है, तो मैं सिर्फ कहना चाहूं कि 'मजबूत रहें,' 'सुरक्षित रहें' और 'घर पर रहें', जो बातें आपने हजारों बार सुनी होगी। आज हर घर में कोई ना कोई कोरोना से संक्रमित है। लोग अपनों को खो रहे हैं। खाने को पैसे नहीं है, दवाइयों के लिए कहां से लाएंगे? मैं सिर्फ यही सोचता हूं कि इस लॉकडाउन को गंभीरता से फॉलो करें, ताकि यह जल्दी खुले, केस कम हों। मेरे भी कई नजदीकी कोरोना से संक्रमित हुए, मुझे बहुत कॉल आते हैं इजेक्शन के लिए, आईसीयू में बेड, ऑक्सीजन के लिए.. लेकिन कई बार मैं कुछ नहीं कर पाया। यदि आपने किसी को recommend किया, मतलब आपने किसी और को निकाला उस बेड से, तो आप जिम्मेदार हैं। किसी अपने की मदद के लिए आप दूसरों के माता, पिता, भाई, बहन को बाहर कर दो.. यह मुझसे नहीं हो पाएगा। जब मैं इन परेशानियों और दुविधा से गुजर रहा हूं, सोचिए आम आदमी का क्या हाल होगा इस वक्त। मैं फॉर्म पर था, वहां खुली जगह है। ये फॉर्म कोरोना वायरस के लिए तो लिया नहीं गया था, 30 साल पहले लिया गया था, लेकिन अब काम आ रहा है। सोचिए जो एक कमरे के घर में 4-5 लोग रहते हैं, उनकी क्या हालत होगी। हम किसी को मजबूत रहने के लिए कह सकते हैं, लेकिन जिसके घर में लोग गुजर रहे हैं वो ही जानता है कि ये कितना मुश्किल है। सबको उनके हालात पता हैं। हमसे जो हो सकता है, वो हम कर रहे हैं और जितने लोगों से हो सकता है वो कर रहे हैं। लेकिन मुझे लोगों से खास नफरत है जो इन हालातों का इस्तेमाल भी पैसे कमाने के लिए कर रहे हैं, लोगों को लूट रहे हैं। दवाइयां , ऑक्सीजन ब्लैक में बिक रही हैं.. किस तरह के लोग हैं ये? जब आप किसी की जिंदगी बचा सकते हो तो आप पैसे कमा रहे हो.. इन कर्मों की सजा उन्हें जरूर मिलेगी।

    English summary
    While talking to media a day before Radhe release, Salman Khan said that, 'Radhe' will come in theatres when the pandemic ends and it is safe for people to go to cinema halls.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X