For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

पापा की मुस्कुराहट मिली है मुझे- सोनम कपूर

|

(सोनिका मिश्रा) सांवरिया फिल्म से बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत करने वाली खूबसूरत एक्ट्रेस सोनम कपूर जल्द ही रांझना फिल्म में पहली बार स्कूल गर्ल के रुप में नज़र आएंगी। रांझना फिल्म एक बहुत ही टचिंग लव स्टोरी है जिसमें सोनम कपूर ने 15 साल की जोया का किरदार निभाया है। सोनम कपूर ने वनइंडिया की रिपोर्टर सोनिका मिश्रा से मिलकर अपने करियर और अपनी निजी जिंदगी से जुड़ी कई बातें शेयर कीं। सोनम कपूर जो कि बॉलीवुड की स्टाइल दिवा के रुप में जानी जाती हैं का कहना है कि वो बहुत ही सेंसिटव हैं और अगर उन्हें कोई कुछ बुरा कहता है तो वो घर जाकर बहुत रोती हैं। सोनम कपूर से हुई मुलाकात के कुछ अंश यहां मौजूद हैं।

रांझना फिल्म में पहली बार आपने एक स्कूल लड़की का किरदार निभाया है वो भी बनारस की। तो कभी किसी तरह की नर्वसनेस हुई इस किरदार को लेकर?

मैं जब बनारस में थी तब पहले ही दिन लगभग 2000 हजार लोग थे। मैंने स्कूल यूनिफॉर्म पहनी थी और दो चोटियां बनाई थीं। पहले ही दिन अगर आप 2000 लोगों के सामने इस रुप में जा रहे हैं सभी आपको देख रहे हैं। वो भी यूपी के आदमियों के सामने तो उस दिन के बाद से मेरी नर्वसनेस चली गयी। पर थोड़ी सी नर्वसनेस थी लेकिन जब मैंने दो चोटियां की और अपना मेकअप निकाला तो मैं बहुत छोटी लग रही थी हो सकता है कि पापा पर गयी हूं तो ऐसी हूं। मैं ये नहीं कहुंगी कि ये आसान नहीं था लेकिन मैंने ऐसा सोचा कि मैं 15 साल की लड़की हूं और उसी विश्वास के साथ ये किरदार मैंने निभाया। वो बहुत ही यादगार दिन थे।

रांझना फिल्म के किरदार जोया की स्कूल लाइफ से आप अपनी स्कूल लाइफ को किस तरह से जोड़ती हैं?

मैं मुंबई के बहुत ही नॉर्मल स्कूल में थी। जहां पर हमें नेहरू पैंट और शर्ट पहनना पड़ता था। हमारे स्कूल में स्कर्ट पहनना मना था। तो मेरे लिये बहुत ही नयी चीज थी कि मैं शॉर्ट चेक ड्रेस पहन रही हूं। और सफेद रिबन बांध कर जा रही हूं। मेरी स्कूल लाइफ रांझना की जोया से बहुत ही अलग थी।

धनुष के साथ आपकी कैमिस्ट्री ऑन स्क्रीन लोगों को काफी पसंद आ रही है। ये कैमिस्ट्री लाने में आपको कुछ मेहनत करनी पड़ी?

मुझे लगता है कैमिस्ट्री दो लोगों के साथ नहीं दो किरदारों के साथ होती है। मुझे नहीं लगता कि अगर मैं धनुष के साथ कोई और फिल्म करुंगी तो यही कैमिस्ट्री आएगी। अगर आप शाहिद करीना को देखें तो उनकी कैमिस्ट्री के बारे में ज्यादा बातें नहीं हुईं लेकिन जब उन्होंने जब वी मेट की तो उनकी कै्मिस्ट्री हिट हो गयी सिर्फ निर्देशक और किरदारों की वजह से। मुझे लगता है कि एक्टिंग के जरिये ही आप कैमिस्ट्री को बना सकते हैं। ये डिपेंड करता है आपके निर्देशक पर कि वो आपके किरदार को किस तरह से जोड़ रहे हैं।


आपने रांझना फिल्म में अपने किरदार जोया के लिए जया बच्चन की फिल्म गुड्डी देखी थी और उनके किरदार से प्रेरणा ली थी। इस बात में कितनी सच्चाई है?

जब मैं स्कूल में थी तो मैं बहुत सहमी हुई और चुपचाप सी लड़की थी। गुड्डी फिल्म में जया जी का जो किरदार था वो बहुत ही जोश से भरा हुआ था और बहुत ही स्पार्क था उसमें। मुझे रांझना फिल्म के जोया के किरदार के लिए कोई इंसपिरेशन चाहिए था। गुड्डी का एक सीन है जब वो देर से आती हैं और उनकी टीचर कहती हैं कि आगे चलकर गाना गाओ। उस समय उनके एक्सप्रेशन कापी सिंपल और नॉटी थे।

आपकी प्रोफेशनल लाइफ इतनी सक्सेसफुल नहीं रही है। तो आपको इस बात का अफसोस है कि आपकी जिंदगी में सफलता नहीं मिली?

मैं अपने लाइफ को अपने करियर की सक्सेस से तुलना नहीं करती। ऐसा नहीं है कि मेरा किरयर सक्सेसफुल है तो मेरी लाइफ सक्सेसफुल है। मुझे एक्सप्लोर करना है अलग अलग किरदारों को। अगर मैं आयशा, बिट्टू, आयत, जोया कर सकती हूं तो मैं बहुत ही अलग अलग किरदार कर रही हूं। मैं टाइपकास्ट नहीं बनना चाहती। निर्देशक भी मुझे काफी अलग-अलग किरदारों में देखते हैं। मैं चाहती हूं कि मैं कई अलग तरह के टिपिकल रोल्स करूं।

आपने थैंक यू, मौसम जैसी फिल्में साइन की जो कि बॉक्स ऑफिस पर काफी बुरी तरह से पिटीं। आपको लगता है कि आपने कुछ गलत फैसले लिये?

जी हां मैंने कुछ गलत फिल्में साइन कीं हैं लेकिन ऐसा नही है कि मुझे किसी बात का रिग्रेट है। मुझे हमेशा से अपने किरदारों के लिए पॉजिटिव कमेंट्स मिले हैं। मैने ये डिसाइड किया है कि मैं वहीं फिल्में करुंगी जिनमें मेरा किरदार काफी हटकर हो। ये सब सिर्फ हीरो और प्रोड्यूसर के लिए है कि फिल्म 100 करोड़ बनाए बॉक्स ऑफिस पर। मैं चाहती हूं कि मेरे किरदार लोग याद रखें।

अपने किसी भी किरदार को करते हुए आप उस किरदार में किस हद तक डूब जाती हैं?

मैं किरदारों में इतना डूब जाती हूं कि अपनी तबियत खराब कर लेती हूं। मैंने एक साल एक्टिंग की ट्रेनिंग की है लेकिन मुझे ग्लिसरीन के साथ रोना नहीं आता। मैं अगर रोती हूं तो सच में रोती हूं और हंसती हूं तो रियल में हंसती हूं। मैं जो भी करती हूं तो दिल से करती हूं। अभी तो ये मेरी आंठवी फिल्म है तो हो सकता है कि और थोडे अनुभव के बाद मै ये कर पाउँगी लेकिन अभी तक तो मैने ऐसा नहीं किया।

ऐसा सुनने में आया है कि आप रांझना के लिए पहली च्वाइस नहीं थीं? क्या ये सच है?

ये सही नहीं है। मैं हमेशा से ही इस फिल्म की पहली पसंद रही हूं। ऐसी कई फिल्में हैं जिन्हें मैंने मना किया है लेकिन मैं उन फिल्मों के बारे में कभी बात नहीं करती क्योंकि मैं अपने को-स्टार्स और निर्देशकों की इज्जत करती हूं। लेकिन मैं बाकी फिल्मों के बारे में कह सकती हूं कि मैं हमेशा से ही पहली च्वाइस रही हूं।

अनिल कपूर जी ने कहा कि रांझना फिल्म की लव स्टोरी काफी टचिंग है। कुछ बताईये फिल्म की कहानी के बारे में।

कहानी के बारे में तो मैं नहीं बता सकती लेकिन ये बहुत ही टची लव स्टोरी है। इसमें हीरो-हिरोइन जैसा कुछ नहीं है। ये किरदार बिल्कुल रियल हैं उनके किरदारों में ग्रे शेड्स भी हैं। अपनी गलतियों की वजह से वो कई बार एक दूसरे को हर्ट भी करते हैं। लेकिन एक दूसरे से प्यार को वो नहीं मना करते।

ऐसा सुनने में आया कि अभय और आपके बीच कुछ प्रोब्लम्स चल रही हैं?

अभय और मैं बहुत अच्छे दोस्त हैं। अभय और रणबीर कपूर मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं। हम पिछले पांच सालों से एक दूसरे को जानते हैं और एक दूसरे को जन्मदिन पर विश भी करते हैं। अभय को पता होता है कि मेरी जिंदगी में क्या चल रहा है और मुझे पता होता है कि उसकी लाइफ में क्या चल रहा है। अगर कभी आप अक्षय से पूछें कि सोनम के साथ काम करके कैसा लगता है आपको तो वो कहेंगे कि वो मुझे हर रोज हराती हैं। अगर मुझे अभय से कोई प्रोब्लम होती तो मैं उनके साथ काम ही नहीं करती। मै इस तरह की इंसान हूं कि अगर मुझे कोई पंसद नहीं आएगा तो मैं उसे डायरेक्ट बोल दूंगी कि मैं तुम्हें पसंद नहीं करती।

रांझना की लव स्टोरी में आपने अपनी रिलय लाइफ की लव स्टोरी के कुछ एक्सपीरिंस यूज किये हैं?

मेरी लव लाइफ अभी तक अनसक्सेसफुल रही है। मैं अभी भी सिंगल हूं। (हंसते हुए)

धनुष के साथ काम करने का आपका एक्सपीरिंयस कैसा रहा?

धनुष बहुत चुप से रहते हैं लेकिन उनके साथ काम करना एक लर्निंग एक्सपीरिंयस था। उन्होंने खुद को एक्सप्रेस करने के लिए बहुत मेहनत की। मुझे लगता है जब इमोशन्स की बात आती है तो लैंग्वेज बड़ी प्रोब्लम नहीं होती है। एक एक्टर के तौर पर मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा है।

जब आपको आनंद जी ने बताया कि रांझना में वो धनुष को साइन कर रहे हैं। जो कि एक साउथ के एक्टर हैं तो आपको लगा था कि वो बनारस के लड़के का किरदार निभा पाएंगे?

जब आपको आनंद जी ने बताया कि रांझना में वो धनुष को साइन कर रहे हैं। जो कि एक साउथ के एक्टर हैं तो आपको लगा था कि वो बनारस के लड़के का किरदार निभा पाएंगे?

मुझे जब फिल्म ऑफर हुई थी तब आनंद सर ने मुझसे कहा था कि आप और रहमान सर दो ऐसे लोग हैं जिन्हें मैं साइन कर रहा हूं। तो आफको क्या लगता है कि धनुष इस फिल्म को कर पाएंगे। तब मैंने धनुष के बारे में पढ़ा था। मैंने उनकी तस्वीर देखी जिसमें धनुष ने एक गमछा पहना था और सिर पर टर्बन बांधा था। उस तस्वीर को देखने के बाद मैंने कहा कि आनंद सर ये तस्वीर देखने के बाद मैं यही कहूंगी कि यही एक्टर इस किरदार को निभा सकता है। मैं ये फिल्म तभी साइन करूगी अगर आप इस एक्टर को साइन करेंगे।

तनु वेड्स मनु को छोड़ने की क्या वजह थी?

तनु वेड्स मनु को छोड़ने की क्या वजह थी?

तनु वेड्स मनु को लेकर मेरी आनंद सर से बात हुई थी। मैंने फिल्म की स्क्रिप्ट भी पढ़ी थी। लेकिन बाद में आनंद सर ने कंगना को उस किरदार के लिए साइन कर लिया। हो सकता है कि कंगना उस रोल के लिए एकदम फिट थीं। लेकिन मुझे पर्सनली तनु वेड्स मनु बहुत पसंद है। बहुत ही रियल फिल्म थी वो उसमें से देश की मिट्टी की खुशबू आती है। रांझना में भी कुछ ऐसा ही है। मुझे आगे भी आंनंद सर के साथ काम करना है और मैं खुशनसीब हूं कि उन्होंने मुझे अपनी दूसरी फिल्म के लिए साइन किया है।

कोई ऐसी खासियत जो आपको लगता है कि आपके पापा से मिली है?

कोई ऐसी खासियत जो आपको लगता है कि आपके पापा से मिली है?

सिर्फ एक चीज जो मुझे अपने पापा से मिली है वो है उनकी मुस्कुराहट। बाकी मैं अपनी मां पर ही गयी हूं। मैं जब भी पापा को ये कहती हूं तो वो बहुत झेल जाते हैं।

बतौर एक्ट्रेस क्या सोनम कपूर की कोई लिमिटेशन्स हैं?

बतौर एक्ट्रेस क्या सोनम कपूर की कोई लिमिटेशन्स हैं?

बतौर एक्ट्रेस मैं अपने लिये लिए कोई लिमिटेशन नहीं बनाई हैं। मुझे नहीं याद है कि कभी मैंने फिल्म साइन की हो और कहा हो कि मैं ये नहीं करुंगी या वो नहीं करुंगी। मैं अपना 100 प्रतिशत देती हूं। मैं पूरी तरह से डायरेक्टर की एक्टर हूं। वो मुझे जो कहते हैं मैं वैसा ही करती हूं। तो अगर मेरी एक्टिंग लोगों को पसंद आती है तो ये डायरेक्टर की वजह से और अगर नहीं तो ये भी डायरेक्टर की वजह से।

बनारस की कोई याद जो आज भी आपको याद हो?

बनारस की कोई याद जो आज भी आपको याद हो?

बनारस की चाट मुझे बहुत पसंद है। मुझे गोलगप्पे बहुत पसंद आए। मैं रोज गोलगप्पे खाती थी। एक दिन मैंने करीब 40-45 गोलगप्पे खाए थे। मैं बहुत मोटी हो गयी थी।

अनिल कपूर जी ने कुछ समय पहले कहा था कि वो आपके करियर को लेकर काफी चिंतित हैं। ऐसा क्यों?

अनिल कपूर जी ने कुछ समय पहले कहा था कि वो आपके करियर को लेकर काफी चिंतित हैं। ऐसा क्यों?

जी नहीं ऐसा नहीं है। मेरे पापा मेरे करियर को लेकर बिल्कुल भी निगेटिव या चिंतित नहीं हैं। मैं बहुत सेंसिटिव लड़की हूं अगर मुझे कोई कुछ गलत बोलता है तो मैं उस समय रिएक्ट नहीं करती लेकिन घर जाकर बहुत रोती हूं। और ये बात उन्हें (अनिल कपूर) को पसंद है।

क्या आप अपने पापा के साथ कोई फिल्म कर रही हैं?

क्या आप अपने पापा के साथ कोई फिल्म कर रही हैं?

मैं पापा के साथ कोई फिल्म नहीं कर रही हूं मेरी बहन फिल्म को प्रोड्यूस कर रही हैं लेकिन पापा उसमें एक्ट नहीं कर रहे हैं।

English summary
Sonam Kapoor is playing 15 years old Zoya's character in Raanjhnaa film directed by Anand Rai. Sonam Kapoor said that she is very sensitive girl. Sonam Also said that Raanjhnaa movie love story is very real and touching. She has learned a lot from Dhanush.

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more