For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    शादी के बाद भी फ्री हूं, कोई बंदिश नहीं- करीना कपूर

    |

    बॉलीवुड की बेबो करीना कपूर पहली बार अपने करियर में एक रिपोर्टर का किरदार निभा रही हैं फिल्म सत्याग्रह में। प्रकाश झा की फिल्म सत्याग्रह में करीना कपूर का किरदार बहुत ही महत्वपूर्ण है। करीना शहर में हो रही हर एक बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी घटना को देश भर के कोने कोने तक के लोगों तक पहुंचाती है और कई बार तो खुद मुश्किलों में पड़कर भी रिपोर्टिंग करती है ताकि लोगों तक सच पहुंचा सके। करीना कपूर ने वनइंडिया की रिपोर्टर सोनिका मिश्रा से इंटरव्यू के दौरान कहा कि सत्याग्रह फिल्म में रिपोर्टर का किरदार करने के बाद उनके दिल में जर्निलिस्ट्स के लिए इज्जत और भी बढ़ गयी है।

    आइये जानते हैं इंटरव्यू के दौरान करीना ने अपने निजी जीवन और अपनी फिल्म को लेकर क्या क्या बातें शेयर कीं।

    सत्याग्रह में अपने किरदार को लेकर आप कुछ बताइये। एक जर्नलिस्ट का किरदार निभाने के बाद क्या जर्नलिस्ट को लेकर आपके विचारों में कुछ बदलाव हुआ है। क्या आपको लगता है कि एक्टरों की पर्सनल लाइफ को लेकर जो भी खबरें जर्निलस्ट छापते हैं वो गलत है?

    सत्याग्रह फिल्म में मेरा किरदार बहुत ही मजबूत था फिल्म में मैं एक जर्नलिस्ट का किरदार निभा रही हूं जो कि हमेशा सच का साथ देती है और सच की आवाज बनकर सामने आती है। मुझे पता है कि जर्नलिज्म के साथ एक जिम्मेदारी भी आती है और कई लोग सच्चाई और ईमानदारी के साथ रिपोर्टिंग कर रहे हैं। फिल्म में मेरा किरदार कोई एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट नहीं है लेकिन फिल्म मैं ये समझती हूं कि जर्नलिस्ट अपना काम कर रहे हैं और ये सब करना उनकी मजबूरी है भले ही वो हमारी पर्सनल लाइफ के बारे में लिखते हैं उसे जानने के लिए कई तरीके अपनाते हैं लेकिन ये उनका काम है और बाकी एक्टरों का तो नहीं पता लेकिन हम जर्निलिस्ट का साथ देते हैं।

    अगर रियल लाइफ में आप जर्नलिस्ट होतीं तो किस एक्टर के बारे में आप इँटरव्यू के जरिये जानना चाहेंगी?

    बॉलीवुड एक्टरों का तो मैं बिल्कुल भी इंटरव्यू नहीं करना चाहूंगी क्योंकि बॉलीवुड एक्टरों के बारे में कुछ भी इंटरेस्टिंग रहा ही नहीं लेकिन हां मैं किसी हॉलीवुड एक्टर का इंटरव्यू जरुर करना चाहूंगी। खासतौर पर ब्रैड पिट का। बॉलीवुड एक्टरों को बारे में तो आप लोगों ने लिख लिख कर सबकुछ बोरिंग बना दिया है। लेकिन बतौर जर्नलिस्ट मैं कुछ इँटरेस्टिगं इंटरव्यू करना चाहूंगी।

    करीना सत्याग्रह आपकी शादी के बाद आपकी पहली फिल्म है। वैसे तो ये सवाल लगभग काफी पुराना है लेकिन फिर भी अगर आप बताना चाहें तो क्या किसी भी तरह का बदलाव आपको महसूस हो रहा है।

    मुझे तो कुछ भी बदलाव नज़र नहीं आता और ना ही महसूस होता हैा। आज भी जब मैं सेट पर जाती हूं तो मुझे सबकुछ पहले जैसा ही मिलता है। मैं आज भी वही करीना हूं और सैफ आज भी वही सैफ हैं। हम दोनों की जिंदगियों में कोई बदलाव नहीं हुआ है लेकिन हां मीडिया को जरुर बहुत बदलाव दिखता है। हमें कोई बदलाव महसूस नहीं होता लेकिन जब एक एक्ट्रेस की शादी होती है तो मीडिया की सोच उस एक्ट्रेस के लिए जरुर बदल जाती है। मैं तो हैरान सी हो जाती हूं जब लोग मुझसे यही सवाल पूछते हैं कि शादी के बाद कैसा लग रहा है। मैं और सैफ एक दूसरे से प्यार करते थे और हमने शादी कर ली। लेकिन इसके बाद कुछ बदला नहीं। जब हाल ही में हम अमेरिका गये थे तब भी मैं और सैफ यही बात कर रहे थे कि मीडिया सिर्फ यही पूछती है कि शादी के बाद क्या बदल गया है। कुछ नहीं बदला है।

    अक्सर शादी के बाद लड़कियों कि शिकायत होती है कि उनके पति पहले जैसे नहीं रहे। क्या सैफ में किसी तरह के बदलाव को आप महसूस कर रही हैं?

    सैफ तो अभी भी वैसे ही हैं जेसे कि तब थे जब हम डेट करते थे। आज भी मुझे वैसा ही फील होता है जब हम साथ होते हैं जैसा तब फील होता था जब हम डेट पर जाते थे। शादी के बाद सैफ बिल्कुल नहीं बदले हैं और मैं भी नहीं बदली हूं शायद तभी हम दोनों आज भी एक दूसरे से प्यार करते हैं और एक दूसरे को समझते हैं। मैं यही दुआ करती हूं कि सैफ आगे भी कभी ना बदलें।

    करीना कपूर के इंटरव्यू के कुछ अंश

    शादी के बाद काफी सारी नयीं जिम्मेदारियां आ जाती हैं जिनका आपको अंदाजा नहीं होता। क्या आपको भी ऐसा कुछ महसूस होता है कि कई जिम्मेदारियों ने आपको घेर लिया है।

    शादी के बाद काफी सारी नयीं जिम्मेदारियां आ जाती हैं जिनका आपको अंदाजा नहीं होता। क्या आपको भी ऐसा कुछ महसूस होता है कि कई जिम्मेदारियों ने आपको घेर लिया है।

    बचपन से लेकर आज तक मेरे ऊपर से कई सारी रिस्पॉंसिबिलटी रही हैं। पहले मेरे ऊपर अपनी मां-पापा की जिम्मेदारी थी, करिश्मा की जिम्मेदारी थी और अब सैफ की भी जिम्मेदारी है। सैफ वैसे भी एक मैच्योर मैन हैं 43 की उम्र है उनकी और उनके बच्चे भी हैं तो वो पहले से ही बहुत जिम्मेदार हैं तो मुझे कोई मुश्किल नहीं होती उनके साथ ना ही मैं खुद के ऊपर बहुत सारी जिम्मेदारियों का बोझ महसूस करती हूं। पहले ही मेरी प्राइोरिटी घर और काम दोनों था और आज भी दोनों है। मैं हमेशा से इनमें बैलेंस करती आई हूं।

    प्यार और करियर के बीच बैलेंस करने में क्या कभी आप किसी तरह की मुश्किल महसूस करती हैं?

    प्यार और करियर के बीच बैलेंस करने में क्या कभी आप किसी तरह की मुश्किल महसूस करती हैं?

    प्यार का करियर से कोई लेना देना नहीं है। मुझे ये समझ ही नहीं आता कि लोग प्यार और करियर को क्यों मिला देते हैं और पूछते हैं कि प्यार आपके करियर को कितना इफेक्ट करता है। प्यार तो हमेशा किसी ना किसी रुप में आपके साथ रहता है। आप अपने पेरेंट्स से प्यार करते हैं लेकिन वो प्यार आपके किरयर के बीच नहीं आता। प्यार तो वैसा ही जैसे आप सांस लेते हैं। तो मैं अपनी मां से अपनी फैमिली से प्यार करती हूं लेकिन मैं काम भी करती हूं। मैं आज भी फ्री हूं। मेरे ऊपर रिस्पॉसिबिलटी रही हैं और हमेशा से ही रही हैं।

    अमिताभ बच्चन के साथ आप तीसरी बार काम कर रही हैं। कैसा एक्सपीरियंस रहा अमिताभ जी के साथ?

    अमिताभ बच्चन के साथ आप तीसरी बार काम कर रही हैं। कैसा एक्सपीरियंस रहा अमिताभ जी के साथ?

    हमने साथ में दो फिल्में की हैं। कभी खुशी कभी गम और देवा इन दोनों फिल्मों में अमिताभ जी के साथ काम करने का एक्सपीरिंस बहुत ही लाजवाब रहा है। अमित जी ही नहीं बल्कि फिल्म की पूरी कास्ट अजय देवगन, इरफान खान और मनोज बाजपेयी सभी के साथ काम करके काफी मजा आया। सभी के साथ फिल्म के सेट पर मेरी अच्छी दोस्ती हो गयी है।

    क्या साउथ की फिल्मो को भी आप बॉलीवुड फिल्मों के बराबर मानती हैं और क्या साउथ की फिल्में करने का कोई प्लान है?

    क्या साउथ की फिल्मो को भी आप बॉलीवुड फिल्मों के बराबर मानती हैं और क्या साउथ की फिल्में करने का कोई प्लान है?

    मैं तो चाहती हूं कि सभी भाषाओं की फिल्मों को जो अलग अलग लेकर देखा जाता है वो खत्म हो जाए और सभी को ग्लोबली देखा जाए। लेकिन जहां तक मेरी बात है तो मैं साउथ की भाषा को नहीं जानती और इसलिए मैं फिल्हाल साउथ की फिल्में नहीं करना चाहती। हालाकि मुझे कई सारे ऑफर्स मिले हैं लेकिन मैंने सभी को ना कह दी है क्योंकि ना तो मुझे तमिल तेलुगू बोलनी आती है और ना ही मुझे समझ आती है। तो मैं जब इन्हें समझ ही नहीं पाउँगी तो मैं कोई रट्टा मारकर तो इनके डायलॉग बोलूंगी नहीं। ना ही एक्सप्रेशन दे पाउंगी।

    आप और रणबीर कपूर कभी भी साथ में काम करते नही दिखे। ऐसा क्यों?

    आप और रणबीर कपूर कभी भी साथ में काम करते नही दिखे। ऐसा क्यों?

    कपूर्स तो फिल्म इंडस्ट्री के सबसे बेहतरीन एक्टर्स हैं और मुझे लगता है कि हमें साथ में काम भी करना चाहिए लेकिन अभी तक ऐसा कोई मौका ही नहीं मिला है कि हम साथ में काम करें। खैर उम्मीद है कि जल्द ही कुछ ऐसा आएगा जब हम साथ में काम करेंगे। लेकिन अभी तो ऐसा कुछ नहीं है।

    क्या आपको भी ऐसा लगता है कि फिल्में लोगों पर और समाज पर प्रभाव डालता है?

    क्या आपको भी ऐसा लगता है कि फिल्में लोगों पर और समाज पर प्रभाव डालता है?

    हम एक्टर हैं हमारा काम है एंटरटेन करना। सत्याग्रह फिल्म में भी कुछ ऐसा नहीं है कि जिससे लोगों की सोच ही बदल जाएगी। ये एक फिल्म है और फिल्म में बोनस के तौर पर बहुत कुछ ऐसा है जो कि आपको थोड़ा इंसपायर करेगा लेकिन अंत में ये एक फिल्म है और ये लोगों को सिर्फ एंटरटेन करने के लिए बनी है।

    English summary
    Kareena Kapoor in an interview with Sonika Mishra, Oneindia says she still feel free even after her marriage with Saif. Kareena Kapoor also said that Satyagraha is a entertaining movie that is made for entertainment not to inspire people. Kareena Kapoor also said that she do not find and changes in Saif after marriage.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X