»   » Exclusive Interview..अगर मैं बॅालीवुड सुपरस्टार होता तो ऐसा ही करता -दिलजीत दोसांझ

Exclusive Interview..अगर मैं बॅालीवुड सुपरस्टार होता तो ऐसा ही करता -दिलजीत दोसांझ

By: PRACHI DIXIT
Subscribe to Filmibeat Hindi

दिलजीत दोसांझ उन चुनिंदा एक्टरों में से एक हैं जो कि अपनी माटी से अलग खुद की पहचान कायम करने में कामयाब रहे हैं। पिछले साल उड़ता पंजाब से बेस्ट डेब्यू की ट्रॉफी अपने झोली में बटोरने के बाद दिलजीत दोसांझ इस साल अनुष्का शर्मा के साथ फिल्लौरी की रूहानी प्रेम कहानी के साथ वापसी कर रहे हैं।

Diljit dosanjh

अनुष्का शर्मा इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रही हैं। एक भूत की प्रेम कहानी के ईद-गिर्द बुनी गई फिल्लौरी ने दर्शकों को रिलीज से पहले प्रभावित किया है। इसके साथ दिलजीत और अनुष्का की आॅन स्क्रीन जोड़ी भी बॅालीवुड की फ्रेश जोड़ी में शामिल हो गई है। 

बहरहाल,हाल ही में फिल्मीबीट से हुई खास मुलाकात में दिलजीत दोसांझ ने अपनी निजी और प्रोफेशनल जिंदगी से जुडें हुए खास मुद्दों पर अपनी विशेष राय पेश की। 

यहां पढ़ें इंटरव्यू के प्रमुख अंश..

अनुष्का हैं मिसाल

अनुष्का हैं मिसाल

अनुष्का शर्मा के साथ अपने काम करने के अनुभव पर दिलजीत कहते हैं कि अनुष्का शर्मा बेहद खूबसूरत अदाकार हैं। वह बेहतरीन परफ़ॉर्मर हैं। उन्हें देखकर गर्व की अनुभूति होती है। अनुष्का शर्मा का फ़िल्मी बैकग्राउंड से किसी तरह का ताल्लुक नहीं है। इसके बावजूद उन्होंने जमीन से लेकर फलक तक का सफर तय किया है। इतनी कम उम्र में उन्होंने अपना खुद का प्रोडक्शन हाउस खड़ा कर दिया है। यह किसी भी एक्टर के लिए बड़ी बात है। अनुष्का एक मिसाल हैं। बतौर निर्माता भी उसी रफ्तार से आगे बढ़ रही हैं जिस तरह उन्होंने एक्ट्रेस के तौर पर खुद को बुलंदी पर पहुंचाया है।

सूफियाना संगीत

सूफियाना संगीत

पंजाब के रॉक स्टार होने के बावजूद दिलजीत खुद को म्यूजिक की जानकारी में छोटा मानते हैं। वह बताते हैं कि इस फिल्म का संगीत सुकून से भरा है। मैं संगीत प्रेमी की नजर से ही इस बारे में बता सकता हूं। इस फिल्म के संगीत से लेकर गाने की बोल तक मेरा किसी भी तरह का कोई लेना देना नहीं है। इस फिल्म का म्यूजिक बनने के बाद मुझे इसके बारे में ज्ञात हुआ। हाल ही में बद्रीनाथ की दुल्हनिया भी रिलीज हुई है। इस फिल्म का म्यूजिक भी दर्शकों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ है। फिल्लौरी की म्यूजिक टीम भी कमाल की है। दूसरी तरफ फिल्म में मेरी एंट्री सबसे आखरी में हुई। मेरे ख्याल से फिल्म शुरू होने से दो महीने पहले।इस वजह से इस फिल्म के म्यूजिक के तैयार होने के बाद मैं इस फिल्म से जुड़ा हूं।

उड़ता पंजाब से कुछ नहीं बदला

उड़ता पंजाब से कुछ नहीं बदला

साल 2016 में उड़ता पंजाब से दिलजीत ने हिंदी सिनेमा में अपना पहला कदम रखा। इस फ़िल्म ने भले ही दिलजीत को बॉलीवुड के नए एक्टरों के बीच लाइमलाइट में ला दिया हो। लेकिन उनके लिए अभी तक हालात बदले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि उड़ता पंजाब के बाद दर्शकों के नजरिए में मुझे लेकर जो बदलाव आये हैं इस का इल्म मुझे अभी तक नहीं हुआ है। हिंदी सिनेमा की दृष्टि से मेरे लिए अभी भी पहले जैसे हालात हैं। अभी भी मेरा फिल्म और कहानी के लिहाज से मेरा संघर्ष जारी है। एक बेहतरीन स्क्रिप्ट की तलाश करना मेरे लिए हर दिन नई चुनौती लेकर आता है। मैं अभी भी यही कोशिश करता हूं कि कोई अच्छा गाना बन जाए। किसी अच्छी फिल्म में काम करने का मौका मिल जाए। मैं खुद के लिए अभी भी गांव का एक साधारण लड़का हूं जो काम की तलाश में है।

मस्तमौला किरदार

मस्तमौला किरदार

अपने किरदार पर विस्तार से बात करते हुए दिलजीत ने कहा कि मेरा किरदार अलग माहौल मे सेट है। लुक से लेकर स्वभाव तक पूरी तरह से एक मस्तमौला किरदार है। फिलहाल ट्रेलर से इस बात का अंदाजा नहीं लग रहा है लेकिन मेरा किरदार थोड़ा सा बिगड़ा हुआ कलाकार है। यह फिलहाल ट्रेलर में नहीं दिखाया गया है। फिल्म देखकर इस पर से पर्दा उठेगा।

पैसों का अंतर

पैसों का अंतर

पंजाब और हिंदी सिनेमा में अपने अब तक के अनुभव पर राय जाहिर करते हुए दिलजीत कहते हैं कि दोनों ही फिल्म इंडस्ट्री मेरे दिल के करीब है। दोनों में ही मेरे काम करने का अनुभव सुखद रहा है। आगे भी इसी तरह का सिलसिला जारी रहेगा। लेकिन इन दोनों में जो सबसे बड़ा अंतर है वह पैसों का है। हमारे यहां पर उतना पैसा नहीं है जितना कि बॉलीवुड में हैं। पंजाब में सिनेमाहॉल की संख्या कम है। इस वजह से बिजनेस अधिक नहीं होता है। यहां स्क्रीन की संख्या अधिक है इस वजह से कमाई दुगनी होती है। बाकी काम करने का तरीके एक समान है उसमें किसी तरह का अंतर नहीं है।

स्टारडम जरूरी

स्टारडम जरूरी

स्टारडम पर दिलजीत कहते हैं कि पंजाब फिल्म इंडस्ट्री बेहद छोटी सी है। हमारे यहां लोग एक्टर से एक खास कनेक्शन महसूस करते हैं। अगर कोई भी एक्टर दर्शकों से किरदार के जरिए जुड़ाव का अहसास नहीं कर पाते हैं तो उनके लिए हालात कठिन हो जाते हैं। ठीक इसी तरह यहां के सुपरस्टार पर भी यही लागू होता है। उनका अपने फैंस के साथ तगड़ा कनेक्शन है। इसी वजह से वह बॉलीवुड के सुपर स्टार हैं। दर्शकों को लगता है कि ये एक्टर हमारी तरह है। मैं भी बॅालीवुड का स्टार होता तो यही करता।

फिल्मों का चयन

फिल्मों का चयन

हार्ड हीटेड यह शब्द दिलजीत ने बॉलीवुड में आकर सीखा है। वह समझ्ते हैं कि कमर्शियल सिनेमा और एक हार्ड हीटेड सिनेमा में अंतर होता है। सच कहूं तो मुझे इन सब के बारे में अधिक जानकारी नहीं है। इसके साथ में इस मामले में ज्यादा सोचने की जरुरत भी नहीं महसूस करता हूं। मेरे लिए एक फिल्म केवल बेहतरीन कहानी और किरदार तक सीमित है। अब दर्शक उस फिल्म को कैसे देखते हैं यह फिल्म के जोनर पर निर्भर करता है। उड़ता पंजाब के समय मुझे लगा कि कहानी अच्छी है। इसे कर लेना चाहिए। मैंने नहीं देखा कि यह ब्लॉकबस्टर होगी या इस फिल्म के लिए सिनेमा हॉल भरा हुआ होगा। सिर्फ नाचने गाने के लिए मुझे फिल्म नहीं करना है। नाच- गाने की चाहत मेरी खुद के म्यूजिक एल्बम से पूरी हो जाती है। मैं फिल्में खुद की खुशी के लिए करता हूं।

English summary
In conversation Diljit dosanjh share some interesting point related with his Bollywood Journey..Here read full story
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi