»   » Exclusive Interview..रेप या मर्डर करने वाला विलेन नहीं हूं मैं- अभिलाष कुमार

Exclusive Interview..रेप या मर्डर करने वाला विलेन नहीं हूं मैं- अभिलाष कुमार

By: PRACHI DIXIT
Subscribe to Filmibeat Hindi

बहुत कम ऐसे एक्टर होते हैं जिनका करियर रफ्तार से आगे बढ़ता है। खासकर ऐसे समय में जब टीवी हो या फिल्म हर जगह एक्टरों की लंबी फेहरिस्त दिखाई दे रही हो।

इन सबके बीच उठकर अभिलाष कुमार ने अपनी अलग पहचान बनाई है। अभिलाष ने बेस्ट फ्रेंड फोरेवर से एक्टिंग के क्षेत्र में कदम रखा । इसके गुमराह ,ये है आशिकी में दमदार भूमिका निभाई। लौट आओ तृषा में बॅाबी गरेवाल की भूमिका से  उन्हें पहचान मिली।

Ghayal once again

लेकिन उनके करियर के लिए गोल्डन चांस सनी देओल के कारण आया। जब उन्होंने अभिलाष को घायल वन्स अगेन में विलेन की भूमिका में कास्ट किया।

अभिलाष का मानना है कि विलेन हो या हीरो उनके लिए किरदार ही पहचान हैं। इसके अलावा विलेन को लेकर उनकी परिभाषा बेहद दिलचस्प है। फिल्मीबीट से हुए खास बातचीत में अभिलाष ने बेबाक तरीके से अपनी राय पेश की।

यहां पढ़ें बातचीत के प्रमुख अंश.

बड़ा सरप्राइज

बड़ा सरप्राइज

एक साल के बाद मैं टीवी पर कमबैक कर रहा हूं। घायल के रिलीज़ के बाद मैं अभी तक किसी प्रोजेक्ट से नहीं जुड़ा। मैं खुश हूं कि बालाजी कैंप के शो कसम से मुझे वापसी का मौका मिल रहा है। यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। मैं लंबे समय से बालाजी के बैनर तले काम करना चाह रहा था। इस शो में मेरे किरदार के साथ सरप्राइज जुड़ा है। जो इस शो की कहानी को नया ट्विस्ट देगा।

एक पटरी पर करियर की गाड़ी

एक पटरी पर करियर की गाड़ी

मैं खुद को केवल फिल्मों तक सीमित नहीं रखना चाहता हूं। ऐसा नहीं है कि फिल्म करने के बाद मैं टीवी नहीं करना चाहता हूं। मुझे जहां पर भी अच्छा मौका मिलेगा। मैं उस मीडियम से जरूर जुड़ना चाहूंगा। मेरे करियर के लिहाज से जितने भी मौके आएंगे , मैं हर मौके को अपनाना चाहूंगा। मेरे लिए टीवी और फिल्म एक पटरी पर है। हम देख ही रहे हैं कि बॉलीवुड के कितने एक्टर फिल्मों का रूख कर रहे हैं। वर्तमान में कोई भी मीडियम बड़ा या छोटा नहीं है। मेरे लिए सब एक समान है।

कभी सोचा नहीं था..

कभी सोचा नहीं था..

टीवी की वजह से मुझे फिल्म भी मिली। लौट आओ तृषा के दौरान मुझे सनी देओल निर्देशित घायल वन्स अगेन में काम करने का मौका मिला। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं विलेन की भूमिका निभाऊंगा। दर्शकों के बीच अब वो मानसकिता नहीं रही कि वह अगर किसी को विलेन के किरदार में देखेंगे तो फिर दोबारा उसे हीरो के तौर पर नहीं अपनाएंगे। आप देख सकते हैं कि दर्शकों के लिए कहानी मायने रखती है।

रेप या मर्डर नहीं करना

रेप या मर्डर नहीं करना

दर्शकों के लिए केवल कहानी मायने रखती है। वैसे भी मेरे ख्याल से आज के विलेन ऐसे नहीं हैं जो रेप कर रहे हैं। या फिर मर्डर कर रहे हैं। कई सारी सिचुएशनल होती हैं। मैं खुद घायल वन्स अगेन में ऐसा विलेन नहीं बना हूं जो किसी का रेप या मर्डर कर रहा हूं। वो एक हालात थे जिसने मुझे विलेन बना दिया था। आज कल ऐसे ही विलेन आ रहे हैं। मर्दानी,फोर्स 2 में भी यंग विलेन हैं।

टीवी और फिल्म एक समान

टीवी और फिल्म एक समान

पहले ऐसा था कि ऐसे विलेन होने चाहिए। अब वो सबकुछ हट चुका है। आप देख ही सकते हैं कि हर कोई अपनी फिल्म का प्रमोशन करने के लिए टीवी पर ही आ रहा है। टीवी और फिल्म के बीच में जो गेप था वो अब भर चुका हैं। टीवी हो या फिल्म । हर मीडियम की एक पहचान है।

हमारे लिए हर रास्ता खुला है

हमारे लिए हर रास्ता खुला है

हमारे पास एक्टर होने के नाते कई पर्याय हैं। हमें अब केवल किसी एक मीडियम तक नहीं सीमित रहना है। सोशल मीडिया ,टीवी और फिल्म। हर जगह एक्टरों के लिए अनगिनत मौके हैं। मुझे केवल खुद को बतौर एक्टर आगे बढ़ाना है।

मेरा जन्म भी नहीं हुआ...

मेरा जन्म भी नहीं हुआ...

घायल के साथ मेरी कई सारी यादें जुड़ी हैं। ओम पुरी,नरेंद्र झा और सनी देओल जैसे अनुभवी एक्टरों के साथ मुझे काम करने का मौका मिला। घायल 1991 में रिलीज हुई थी। तब मेरा जन्म हुआ था। मैंने नहीं सोचा था कि इसकी सीक्वल का हिस्सा बनूंगा।

English summary
EXCLUSIVE Interview with Ghayal once again actor Abhilash kumar enter in Kasam Tere Pyar Ki ..Here read ...
Please Wait while comments are loading...