For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    Exclusive Interview: 2001 में मेरी फिल्म ने 265 करोड़ कमाया, आज आती तो 4000 करोड़ कमाती

    |

    बॉलीवुड की सफल फिल्मों की लिस्ट बनाई जाए तो शायद सनी देओल स्टारर फिल्म गदर टॉप 10 फिल्मों में जरूर शामिल होगी। फिल्म के डॉयलोग्स से लेकर संगीत तक.. सभी आज भी लोगों को याद हैं। फिल्म निर्देशक अनिल शर्मा भी इस सफलता को काफी अहमियत देते हैं। फिल्मीबीट से हुई खास बातचीत में उन्होंने कहा कि गदर जैसी फिल्म कभी कभी ही बनती है। लेकिन मैंने उसकी सफलता को खुद पर हावी नहीं होने दिया।

    गदर, अपने, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो जैसी फिल्मों के निर्देशक अनिल शर्मा की अगली फिल्म जीनियस 24 अगस्त को रिलीज होने वाली है। इस फिल्म से उनके पुत्र उत्कर्ष शर्मा बॉलीवुड में डेब्यू करने वाले हैं। इसी मौके पर फिल्मीबीट ने निर्देशक से कुछ खास बातचीत की। जहां उन्होंने साफ साफ कहा कि मैंने उत्कर्ष के साथ सिर्फ इसीलिए फिल्म नहीं बनाया क्योंकि वह मेरा बेटा है, बल्कि वह एक अच्छा अभिनेता भी है।

    यहां पढ़ें इंटरव्यू से कुछ प्रमुख अंश-

    जीनियस की शुरुआत कब और कैसे हुई?

    जीनियस की शुरुआत कब और कैसे हुई?

    जब निर्देशक फ़िल्म बनाता है तो ज़्यादातर आईडिया आस पास की दुनिया और लोगों से ही आता है। मुझे सबसे पहले जीनियस टाइटल मिला। तो जीनियस क्या होता है। क्या वह जो सौ में सौ अंक लाता है? ऐसे इंसान तो हज़ार में 10 मिल जाएंगे। मेरी सोच से जीनियस वह हर आम आदमी भी है जो रोज़ सुबह उठकर ज़िन्दगी की लड़ाई लड़ता है और जीतता भी है। तो इसी सोच के साथ शुरू हुई जीनियस। फिर जब जीनियस है तो उसके सामने एक सुपर जीनियस की भी ज़रूरत थी। तो नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के किरदार को जन्म मिला।

    जब आपने फ़िल्म की शुरुआत की, क्या उस वक़्त आपने सोच रखा था कि यही उत्कर्ष की डेब्यू फिल्म होगी?

    जब आपने फ़िल्म की शुरुआत की, क्या उस वक़्त आपने सोच रखा था कि यही उत्कर्ष की डेब्यू फिल्म होगी?

    जब मैं कहानी लिख रहा था तो मुझे पता था कि इसके लिए नए चेहरे की ही ज़रूरत पड़ेगी। फ़िल्म की कहानी 16-17 साल के लड़के की कहानी है, जो 24-25 साल तक चलेगी। तो मुझे ऐसा हीरो चाहिये था जो 16 साल का भी दिख सके और 25 साल का भी। उस वक़्त उत्कर्ष अमेरिका में पढ़ रहे थे, फ़िल्म डिग्री का कोर्स कर रहे थे। अपनी इंडस्ट्री में तो कोई 16 साल का लगने वाला हीरो है नहीं, मुझे कोई नया एक्टर ही साइन करना था। तो मैंने सोचा उत्कर्ष ही क्यों नहीं। सिर्फ बेटा है इसीलिए कास्ट नहीं किया, वह एक trained एक्टर भी है।

    उत्कर्ष ने गदर में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया था और अब वह जीनियस में आ रहे हैं। इस बीच उन्होंने एक्टर बनने के लिये खुद को कैसे तैयार किया?

    उत्कर्ष ने गदर में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया था और अब वह जीनियस में आ रहे हैं। इस बीच उन्होंने एक्टर बनने के लिये खुद को कैसे तैयार किया?

    गदर में उत्कर्ष का होना एक एक्सीडेंट था। उसके बाद वह पढ़ाई में लग गया। पढ़ाई में वह काफी अच्छा भी था। यह साइंस का छात्र था तो हमें लगा कि इंजीनियर बनेगा। लेकिन उसने फिर खुद कहा कि मैं एक्टिंग करना चाहता हूँ, लेकिन पहले पढ़ाई करूँगा। उसने 4 साल फ़िल्म ट्रेनिंग ली।

    अपने ही बेटे को डायरेक्ट करना कितना आसान या मुश्किल रहा आपके लिए?

    अपने ही बेटे को डायरेक्ट करना कितना आसान या मुश्किल रहा आपके लिए?

    यह बहुत ही मुश्किल होता है। लोगों की उम्मीदें इतनी ज़्यादा बढ़ जाती हैं। ऐसे में छोटी सी गलती भी लोग माफ़ नहीं करते। यूँ भी एक फ़िल्म में बहुत लोगों का पैसा लगा होता है। और मैंने बतौर पिता उसे कास्ट नहीं किया, बतौर डायरेक्टर कास्ट किया। मैंने प्रियंका चोपड़ा से लेकर इशिता चौहान तक को लॉन्च किया है। मैंने हमेशा अपनी फिल्म को सबसे ज़्यादा महत्व दिया है। मैं फ़िल्म पब्लिक के लिए बनाता हूँ।

    आपके फिल्मों की बात होती है तो गदर का जिक्र ज़रूर होता है। क्या आप उसे एक मील का पत्थर के तौर पर देखते हैं?

    आपके फिल्मों की बात होती है तो गदर का जिक्र ज़रूर होता है। क्या आप उसे एक मील का पत्थर के तौर पर देखते हैं?

    किसी निर्देशक के करियर में गदर जैसी फ़िल्म 10 में एक बनती है। गदर ने 2001 में 265 करोड़ का बिज़नेस किया था, आज के हिसाब से देखें तो चार, पांच हज़ार करोड़ के ऊपर हो गया। गदर जैसी फ़िल्म कभी कभी ही बनती है।

    लेकिन क्या उसकी सफलता का प्रभाव या प्रेशर आपकी आने वाली फिल्मों पर भी रहा है?

    लेकिन क्या उसकी सफलता का प्रभाव या प्रेशर आपकी आने वाली फिल्मों पर भी रहा है?

    मैं कोई भी फ़िल्म प्रेशर लेकर नहीं बनाता हूँ। मैंने तो गदर भी वैसे ही बनाई थी जैसे जीनियस बना रहा हूँ। मैं कभी पिछली फिल्म की सफलता या असफलता हावी नहीं होने देता।

    जीनियस में एक ओर आने नए कलाकारों को जगह दी है, दूसरी ओर नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और मिथुन चक्रवर्ती जैसे बड़े अभिनेता हैं। क्या यह मिक्स आपने जानबूझ कर रखा है?

    जीनियस में एक ओर आने नए कलाकारों को जगह दी है, दूसरी ओर नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और मिथुन चक्रवर्ती जैसे बड़े अभिनेता हैं। क्या यह मिक्स आपने जानबूझ कर रखा है?

    नवाज़ुद्दीन और मिथुन चक्रवर्ती जैसे मंझे हुए सितारों के फ़िल्म में होने से नए कलाकारों को भी सीखने का स्कोप मिलता है। म्यूजिक के लिए मैंने हिमेश रेशमिया को फाइनल किया। फ़िल्म की पूरी टीम अच्छी बननी चाहिए।

    अफवाह थी कि आप सनी देओल के साथ भी एक फ़िल्म प्लान कर रहे हैं ?

    अफवाह थी कि आप सनी देओल के साथ भी एक फ़िल्म प्लान कर रहे हैं ?

    फिलहाल मेरा ध्यान पूरी तरह से जीनियस पर है। दूसरी फिल्म में अभी काफी वक्त है। जीनियस के बाद ही किसी फिल्म पर काम शुरु किया जाएगा।

    English summary
    Exclusive Interview with Director Anil Sharma on his upcoming directorial movie Genius. His son Utkarsh Sharma is making debut with Genius.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X