For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    Exclusive Interview: बड़े फिल्म मेकर्स हॅारर फिल्मों का साथ देंगे तो बिग स्टार्स भी जुड़ेंगे- जय के

    |

    हॅारर फिल्में हिंदी सिनेमा के लिए ईद का चांद हमेशा से साबित हुई हैं। जिस तरह ईद का चांद साल में एक बार दिखाई देता है ठीक उसी तरह हॅारर फिल्में बड़े पर्दे पर साल में एक या फिर 2 बार दिखाई देती हैं। हालांकि जब भी कोई हॅारर फिल्म रिलीज के लिए आती है तो दर्शकों की नजर उस पर जरूर जाती है। इसकी वजह यह है कि हॅालीवुड हॅारर फिल्मों की लोकप्रियता हिंदी दर्शकों के बीच अधिक है।

    ऐसे में दर्शक यह सोचते है कि उनके लिए हिंदी सिनेमा के खजाने में कौन सी हॅारर फिल्म है। साल 2021 के खत्म होने से पहले लेखक-निर्देशक जय के ने अपनी फिल्म डिबुक: द कर्स इज रियल को अमेजन प्राइम पर रिलीज कर रहे हैं।हिंदी सिनेमा के हॅारर फिल्मों के स्टार इमरान हाशमी मुख्य भूमिका में हैं। फिल्मीबीट हिंदी से खास बातचीत में जय के ने यह बताया कि आखिर क्यों मलयालयम सुपरहिट फिल्म एजरा का हिंदी रिमेक डिबुक लेकर आ रहे हैं? यहां पढ़िए पूरा इंटरव्यू।

    डिबुक की 240 देशों में रिलीज

    डिबुक की 240 देशों में रिलीज

    शुरूआत में हमने सोचा कि इस फिल्म का टाइटल डिबुक एक नया टर्म है। बस थोड़ा सी देर लगेगी लोग इसके टाइटल को जरूर समझेंगे। लोगों की जुबान पर भी यह बैठना शुरू हो जाएगा। थोड़ा सा वक्त और फिर यह आपके जहन में बैठ जाएगा। एक बार पढ़ने और समझने की देर है। यह काफी कठिन शब्द नहीं है काफी सरल है डीबुक।दूसरी तरफ यह भी है कि अमेजॉन प्राइम की पहुंच विश्वभर में है। इस वजह से हॉलीवुड फिल्म के दर्शक भी डिबुक टाइटल होने की वजह से फिल्म से जुड़ पाएंगे। एक साथ 240 देशों में यह फिल्म रिलीज हो रही है। विश्व स्तर पर इसे हैलोवीन सप्ताह में रिलीज किया जा रहा है।

    बचपन में सुनी थी डरावनी कहानी

    बचपन में सुनी थी डरावनी कहानी

    डिबुक एक यूनिवर्सल शब्द है। इससे दूसरे देशों के लोगों के लिए भी यह समझने के लिए बेहतर होगा। मेरे अनुसार इससे सटिक टाइटल इस हॅारर फिल्म को नहीं मिल सकता था।मैं कोच्चि से हूं जो की केरल में है। वहां पर बचपन में मैंने कई कहानियां सुनी है। डिबुक की कहानी ज्यूज माइथोलॅाजी से निकली है। जिसमें बुरी आत्माओं को संदूक में बंद कर दिया जाता था।इसी दौरान मुझे डिबुक के बारे में पता चला था। मुझे तभी लगा था कि इसमें एक हॉरर फिल्म का आइडिया रहेगा।वहीं से यह शुरू हुआ। इसकी शूटिंग शुरुआत में मॉरीशस में हुई थी। मुझे एक खूबसूरत आईलैंड चाहिए था। वहीं पर पूरी फिल्म को सेट किया गया। शूटिंग के हिसाब से बेहद खूबसूरत जगह हैं।

    इमरान हाशमी का सफल हॅारर फिल्मों का इतिहास

    इमरान हाशमी का सफल हॅारर फिल्मों का इतिहास

    हम सभी को पता है की इमरान हाशमी एक प्रतिभाशाली अभिनेता हैं। सफल हॉरर फिल्म करने का उनका इतिहास रहा है। उन्हें स्टोरी आइडिया अच्छा लगा। मेरा लिखा हुआ स्क्रीनप्ले पसंद आया। इमरान हाशमी को ओरिजिनल मलयालम एजरा फिल्म भी पसंद आई थी। फिल्म का लेखक और निर्देशक दोनो में ही हूं। फिल्म को बनाने का जो विजन है उसमें मुझे कोई बाधा नहीं आयी। बाकी मैं भविष्य में किसी और की भी स्क्रिप्ट पर काम करने के लिए तैयार हूं। उसके बाद मुझे बेहतर तरीके से पता चलेगा कि मेरे लिए खुद की स्क्रिप्ट पर काम करना बेहतर है या फिर किसी और की कहानी पर।

    एजरा की रिलीज के बाद लिया हिंदी में बनाने का फैसला

    एजरा की रिलीज के बाद लिया हिंदी में बनाने का फैसला

    मलयालम फिल्म एजरा बनाने के दौरान मेरे ज़हन में यह नहीं था कि मैं बाद में इसका रीमेक करूंगा।जब मलयालम फिल्म हिट हुई तो मुझे यकीन हुआ कि इसकी कहानी में क्षमता है। यूनिवर्सल दर्शकों के लिए है। मुझे लगा कि इसे बड़ी संख्या में लोगों को दिखाना चाहिए। मुझे लगा कि इसे हिंदी में बना सकते हैं । इमरान हाशमी, निकिता दत्ता और मानव कौल जैसे बड़े स्टार्स डिबुक का बड़ा चेहरा हैं । फिल्म की पूरी कास्टिंग जबरदस्त हैं। शुरू में फिल्म को थिएटर में ही रिलीज किया जाना था लेकिन महामारी के कारण काफी कुछ बदला। अब अमेजॉन प्राइम वीडियो के जरिए हम इसे 240 देशों में दिखा रहे हैं। हम खुश है की इसका वर्ल्ड वाइड प्रीमियर हो रहा है। लोग सुरक्षित अपने घर पर ये फिल्म देख सकते हैं। अभी तक इसके थिएटर रिलीज के बारे में नहीं सोचा गया है।

    हॅारर फिल्मों का मार्केट काफी बड़ा है

    हॅारर फिल्मों का मार्केट काफी बड़ा है

    हिंदी फिल्मों में ज्यादातर प्रयास हॉरर कॉमेडी में हो रहा है।अधिक फिल्म मेकर्स और निर्माता हॅारर फिल्मों का समर्थन कर रहे हैं स्वाभिवक है की इससे हॉरर फिल्म खिलकर सामने आएंगी और भी स्टार्स इसके जुड़ना पसंद करेंगे फिर। प्योर हॉरर फिल्म पर काम होगा तो इसे जगह मिलेगी। हॉरर फिल्मों के लिए बाजार है। क्योंकि हॅालीवुड की हॉरर फिल्में काफी अच्छा बिजनेस करती हैं। उनका बड़ा दर्शक वर्ग है। यह सिर्फ ऐसे है और अधिक प्योर हॉरर फिल्म बनाना है। हॅारर फिल्मों को वर्तमान में आर्थिक परेशानी से नहीं गुजरना होता है। फिल्मों के लिए माहौल बदला है। कंटेंट किंग है। ओटीटी चैनल केवल कंटेंट देखता है। अगर कंटेंट सही है तो सारी चीजें फिट हो जाती हैं।

    English summary
    Exclusive Interview: Emraan Hashmi Dybbuk film Director Jay K talk about place of Horror film in cinema
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X