»   » INTERVIEW: ''अक्षय कुमार मेरे अपोजिट हैं.. यह सुनकर मैं SHOCK में चली गई थी....''

INTERVIEW: ''अक्षय कुमार मेरे अपोजिट हैं.. यह सुनकर मैं SHOCK में चली गई थी....''

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

फिल्म 'टॉयलेट एक प्रेम कथा' में अक्षय कुमार के अपोजिट दिखेंगी सिर्फ एक फिल्म पुरानी एक्ट्रेस भूमि पेडनेकर। पहली फिल्म से ही अपनी दमदार अदाकारी का लोहा मनवाने वाली भूमि इस फिल्म में काफी अहम किरदार निभाते नजर आएंगी। 

फिल्म 11 अगस्त को रिलीज हो रही है। लिहाजा, फिल्म को लेकर भूमि कितनी उत्साहित हैं, अक्षय कुमार के साथ काम करना कैसा रहा और फिल्म को लेकर उनका अनुभव.. यह सब जानने के लिए फिल्मीबीट ने एक्ट्रेस से खास बातचीत की। इंटरव्यू के दौरान एक्ट्रेस ने खुलकर अपना अनुभव शेयर किया.. जो आपको काफी दिलचस्प लगेगा।  

यहां पढ़ें इंटरव्यू से कुछ प्रमुख अंश- 

टॉयलेट- एक प्रेम कथा को लेकर कितनी उत्साहित हैं!

टॉयलेट- एक प्रेम कथा को लेकर कितनी उत्साहित हैं!

बहुत ही उत्साहित हूं। यह मेरे लिए फिर से मेरी पहली फ़िल्म की तरह ही है। दम लगा के हईशा में मैं जो थी और टॉयलेट में जो मैं हूँ, दोनों काफी अलग लड़कियां हैं। जहाँ तक टॉयलेट की बात है, तो यह बड़ी फिल्म है, मेरी दूसरी फिल्म है, अक्षय कुमार हैं, सामाजिक मुद्दे पर बनी है, लिहाज़ा इसे लेकर उत्साह दुगुना है।

फिल्म को लेकर कैसा अनुभव रहा!

फिल्म को लेकर कैसा अनुभव रहा!

इस फ़िल्म की खासियत ये है कि यह एक बहुत खूबसूरत लव स्टोरी है, जहाँ साथ ही आप सामाजिक मुद्दे से भी जुड़ेंगे। मेरे लिए ये आज तक कि सबसे महान लव स्टोरी है। सोचिये, एक साधारण सी प्रेम कहानी है, जहाँ विलेन बन जाता है एक टॉयलेट। मैंने जैसे ही फ़िल्म की स्क्रिप्ट सुनी थी, मैंने फाइनल कर लिया था कि ये फ़िल्म तो करनी ही है।

सच कहूं तो फ़िल्म करते हुए मुझे एहसास हुआ कि खुले में शौच करना कितनी बड़ी समस्या है अपने देश में।

Toilet Ek Prem Katha is comment on Soceity's mindset, says Bhumi Pednekar | FilmiBeat
इमेज में बंधने का डर नहीं है!

इमेज में बंधने का डर नहीं है!

हां, मेरी दोनों फिल्में (दम लगाके हईशा, टॉयलेट एक प्रेम कथा) समाजिक मुद्दों के इर्द गिर्द ही घूमती हैं..लेकिन मेरा करियर अभी इतना नया है कि मुझे इमेज में फिलहाल परवाह नहीं। सच कहूं कि यदि मैं ऐसी इमेज में बंध भी जाऊं कि एक एक्ट्रेस जो सिर्फ सामाजिक मुद्दों पर फिल्म करती है.. तो मैं बहुत संतुष्ट रहूंगी। कहीं ना कहीं यह हमारी भी जिम्मेदारी है। यदि मैं एक फिल्म से छोटा सा बदलाव भी ला सकती हूं.. तो खुशनसीब समझूंगी।

अक्षय कुमार फिल्म में आपके अपोजिट हैं.. यह जानकर कैसा लगा था!

अक्षय कुमार फिल्म में आपके अपोजिट हैं.. यह जानकर कैसा लगा था!

जब मैंने फिल्म साइन की थी.. तो मुझे पता नहीं था कि फिल्म में अक्षय कुमार हैं। लेकिन बाद में जब मुझे बताया गया तो मैं बेहद खुश हो गई थी.. मैं शॉक में चली गई थी। इस फिल्म में उनसे बेहतर कोई हो ही नहीं सकता था.. वो अक्षय कुमार हैं।

शूटिंग के पहले दिन से ही अक्षय सर ने मुझे बहुत कंफर्टेबल फील कराया। शूटिंग के दौरान वह सुपरस्टार नहीं रहते.. वह आपके स्तर पर आकर काम करते हैं। उन्होंने मुझसे कहा था कि चिंता मत करो.. हम दोस्त हैं.. कोई सीनियर जूनियर नहीं। और सच कहूं तो फिल्म शूटिंग के दौरान हम लोगों ने काफी मस्ती की है।

शूटिंग से यादगार लम्हा

शूटिंग से यादगार लम्हा

एक सीन था.. जब मुझे बोला गया था कि अक्षय सर और मुझे एक तलाब में कूदना है.. वह एक सांग का कट था। लेकिन जिस तालाब में कूदना था.. वह बहुत ही गंदी सी जगह थी। मैं बहुत ही नर्वस थी.. काफी ठंड थी.. मैंने अपनी टीम से कह दिया था कि टॉवेल तैयार रखना वगैरह वगैरह।

जैसे ही हम शूटिंग के लिए पहुंचे.. मैं कूदने के लिए तैयार थी.. तब अचानक मुझे कहा गया.. कूदना मत.. यह मजाक था। पूरी यूनिट वहां सीन पर हंस रही थी.. क्योंकि सबको इस बारे में जानकारी थी।

इस तरह के कई लम्हे हैं.. फिल्म शूटिंग के दौरान..

आप ग्लैमरस की जगह बोल्ड किरदार चुनती हैं.. इस पर क्या कहना है!

आप ग्लैमरस की जगह बोल्ड किरदार चुनती हैं.. इस पर क्या कहना है!

मेरे लिए ग्लैमर शारीरिक से ज्यादा मानसिक चीज है। टॉयलेट फिल्म की लता मुझे अपनी दुनिया में काफी ग्लैमरस लगती है। और मुझे लगता है कि ग्लैमर और एक्टिंग साथ साथ आराम से चल सकती है। यह आप पर निर्भर करता है कि आप अपना किरदार किस तरह निभा रहे हैं।

दम लगाके हईशा में आप मोटी लड़की थीं.. क्या लगता है दर्शक आपको इस रूप में आसानी से स्वीकार लेंगे!

दम लगाके हईशा में आप मोटी लड़की थीं.. क्या लगता है दर्शक आपको इस रूप में आसानी से स्वीकार लेंगे!

मैंने अपील के लिए अपना वजन कम किया ही नहीं है। यहां फिल्मों के किरदार की बात है। मेरी एक फिल्म है शुभ मंगल सावधान.. उस फिल्म में मैं और भी अलग दिख रही हूं। हर किरदार की अलग मांग होती है। आप अपने बर्ताव पर काम करते हैं.. पहनावे पर काम करते हैं.. चाल चलन पर काम करते हैं। उसी तरह से हर किरदार की अलग बॉडी होती और उसी के हिसाब से काम करती हूं। मैंने अभी चार फिल्में खत्म की हैं.. और चारों में मैं अलग लग रही हूं।

फिल्में साइन करते किन बातों पर ध्यान देती हैं!

फिल्में साइन करते किन बातों पर ध्यान देती हैं!

कहानी और किरदार.. मैं सबसे पहले यही देखती हूं कि मेरा किरदार फिल्म की कहानी के लिए कितना अहम है। और फिल्म की कहानी में क्या अलग है। मुझे लगता है लोग अब सिंपल फिल्मी रोमांटिक फिल्में देख देखकर बोर हो चुके हैं।

पहली फिल्म बॉक्स ऑफिस हिट थी.. क्या इससे भी वैसी ही उम्मीद है?

पहली फिल्म बॉक्स ऑफिस हिट थी.. क्या इससे भी वैसी ही उम्मीद है?

हां.. बिल्कुल.. मैं दिल से आशा करती हूं कि लोग इस फिल्म को बहुत प्यार दें। मैं इस फिल्म को लेकर बेहद उत्साहित हूं। मुझे लगता है दर्शक इस फिल्म से काफी कुछ सीखेंगे।

शाहरूख, सलमान के साथ काम करने का मौका मिले तो..

शाहरूख, सलमान के साथ काम करने का मौका मिले तो..

सभी उनके साथ काम करना चाहते हैं यार.. ये सभी जो नाम आपने लिए हैं ये बॉलीवुड के iconic एक्टर्स हैं। जब मैं बड़ी हो रही थी.. तो मैं सलमान खान फैन थी.. फिर धीरे धीरे मैं शाहरूख खान फैन हो गई। वहीं, अक्षय कुमार मेरे हमेशा से फेवरिट हैं.. उनकी फिल्म हेरा फेरी, नमस्ते लंदन मुझे बेहद पसंद है।

English summary
In an exclusive interview Bhumi Pednekar shares views on her upcoming film Toilet Ek Prem Katha.
Please Wait while comments are loading...