For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

डैनी साहब हमेशा ही लकी रहे हैं मेरे लिए- अक्षय कुमार

|

(सोनिका मिश्रा) बॉलीवुड के एक्शन बॉस यानी अक्षय कुमार की एक्शन फिल्म बॉस इस शुक्रवार रिलीज होने वाली है। बॉस फिल्म के बारे में अक्षय कुमार का कहना है कि उन्होंने ये फिल्म इसलिए बनाई क्योंकि उन्हें हमेशा से ही बाप बेटे के रिश्ते पर आधारित कहानियां काफी भाती रही हैं और तमिल हिट फिल्म पोखरी राज में भी एक बेहतरीन बाप बेटे की कहानी थी। इस फिल्म को देखने के बाद ही मैंने इरादा कर लिया कि इसका रीमेक बनाउँगा। फिल्म में शिव पंडित मुख्य भूमिका में हैं। अक्षय ने शिव के बड़े भाई का किरदार निभाया है। पेश हैं अक्षय के इंटरव्यू के कुछ अंश।

बॉस शब्द जब आपको सुनने में आता है तो सबसे पहले आपके जहन में किसका नाम आता है?

आजकल तो बॉस शब्द तो आजकल हर किसी के लिए यूज होता है। तो ये शब्द ही बहुत ही कॉमन है। मुझे बहुत सरप्राइज होता है कि किसी ने

आपके हिसाब से बॉक्स ऑफिस का बॉस कौन है और आपके घर में बॉस कौन है?

मेरे घर में मेरी सिस्टर इन लॉ बॉस हैं। बॉस तो सभी हैं। हर हफ्ते बॉस बदल जाता है। तो किसी एक का नाम लेना मुश्किल होगा।

बॉस फिल्म तमिल फिल्म का रीमेक है। क्यों चुना आपने इस फिल्म को?

मैने जब पोखरी राजा देखी तो इसमें सस्पेंस, कॉमेडी रोमांस और 12 अलग अलग तरह के एक्शन सीक्वेंस देखन के मिले। तो फिल्म को देखने के बाद ही मैंने ये डिसाइड किया कि मुझे इस फिल्म का हिंदी रीमेक बनाना है। ये दो भाइयों और उनके पिता की कहानी है। मुझे हमेशा से ही बाप बेटे की स्टोरी काफी भाती हैा। मैंने वक्त, एक रिश्ता, जानवर और ये मेरी चौथी फिल्म है। मुझे लगता है मां पर तो कई सारी फिल्में बनती हैं। पिता को हमेशा ही लोग इग्नोर कर देते हैं उसे सिर्फ पैसे कमाने की मशीन समझकर। तो मैंने पिता को थोड़ी इम्पोर्टेंस देने की कोशिश की है।

जैसा कि आपने कहा कि आप अपने फादर के काफी करीब रहे हैं। तो आपका और आरव का बाप बेटे का रिश्ता कैसा है?

वो भी मार्शल आर्ट सीख रहा है और हम दोनों के बीच काफी अच्छा रिलेशन है।

बॉस फिल्म के एक्शन सीक्वेंस के बारे में कुछ बताइये।

इसफिल्म में जानबूझकर हाथों से फाइट दिखाई गयी है। कुछ समय से केबिल फाइट्स मुझे लगता है कि ये आउड ऑफ फैशन हो गयी हैं। एक बार में दस लोगों को मार दिया। लेकिन मैं चाहता था कि हम एक मैन टू मैन एक्शन करके दिखाऊं। फिल्म के क्लाइमेंक्स में भी आपको 6 मिनट की फाइट है। ये मेरे और विलेन के बीच की फाइट है इसमें कोई भी और नहीं है।

शिव पंडित को अपनी फिल्म में लेने के पीछे क्या वजह थी?

मुझे लगता है कि उस लड़के में वो चाह है और वो कुछ करना चाहता है। उसने इस फिल्म के लिए उसने खुद को काफी हद तक बदल दिया है। मैंने उसकी फिल्म उड़ान देखी है। मुझे शिव में यंग अक्षय नज़र आता है। वो इतना स्मार्ट है, हैंडसम है और किसी भी हीरो के लिए ये सारी क्वालिटीज होनी जरुर हैं। इसके अलावा शिव एक बेहतरीन एक्टर भी हैं।

मिथुन जी के साथ एक बार फिर से काम करने का एक्सपीरियंस कैसा रहा?

मिथुन जी के साथ मैंने कई सारी फिल्में की हैं हमेशा ही मजा आता है। मुझे ऐसे एक्टर चाहिए थे जो कि पिता का रोल दिल से करें। चूंकि उनका बेटा है तो मुझे लगा कि वो अपनी तरफ से बेहतरीन परफॉर्मेंस देंगे।

बॉस में आपके साथ कोई एक्ट्रेस नहीं है। ऐसा क्यों?

मलयालम फिल्म में भी बड़े भाई की कोई हिरोइन नहीं थी। जरुरी नहीं है ना कि जानबूझकर हम किसी नये किरदार को फिल्म में डाल दें और फिल्म की कहानी को बरबाद कर दें।

डैनी साहब ने कहा उन्होंने आपसे बहुत कुछ सीखा है। आपने क्या क्या सीखा है डैनी साहब से?

मैंने जब अपना पहला ऑफिस खरीदा था तब डैनी साहब से ही खरीदा था। उस ऑफिस को खरीदने के बाद मेरे करियर को चार चांद लग गये थे। मैं खुद को डैनी साहब के जैसा बनाना चाहता हूं। वो बहुत ही लकी रहे हैं मेरे लिए। आज इस उम्र में भी वो एक यंग लड़के की तरह दिखते हैं। मैं उनसे बहुत कुछ सीखना चाहता हूं। वो जो भी काम करते हैं अपने रुल्स पर काम करते हैं।

शिव पंडित हों या फिर रौनित रॉय हर किसी को यही लगता है कि आप भला इनके साथ काम क्यों करेंगे कहां आप सुपरस्टार और ये नये चेहरे। ऐसा क्यों है?

जब कोई नहीं होता तो मैं इनको डराता हूं। लेकिन आर्टिस्ट वैगरह कोई छोटा या बड़ा नहीं होता। मैं भी जब इंडस्ट्री में आया था तो किसी ना किसी का साथ किसी का हाथ होना बहुत जरुरी होता है। प्रमोद चक्रवर्ती जी ने मुझे बहुत साथ दिया और उन्हीं के परिवार की वजह से मैं आज यहां पर हूं।

भले ही आज यंग एक्टर्स कितने ही बेहतरीन क्यों ना हों लेकिन फिल्मों से जब तक बडे स्टार का नाम ना जुड़ा हो वो नहीं चलतीं। क्या कहना है आपका इस बारे में?

भले ही आज यंग एक्टर्स कितने ही बेहतरीन क्यों ना हों लेकिन फिल्मों से जब तक बडे स्टार का नाम ना जुड़ा हो वो नहीं चलतीं। क्या कहना है आपका इस बारे में?

मुझे लगता है कि आजकल बड़े स्टार्स का नाम नहीं है। अगर स्क्रिप्ट अच्छी हो तो नये एक्टर भी फिल्म को कहां से कहां लेकर जाते हैं। वो दिन हवा हुए जब सुपरस्टार्स का जमाना था। अब कैरेक्टर्स बेस्ड, कहानी बेस्ड फिल्मों का जमाना है। हम लोगों ने जितनी हिट फिल्में देनी थी दे दीं। लेकिन अब वो जमाने गये।

एक्टर्स इसलिए फिल्में बनाते हैं ताकि वो अपनी फिल्म को अपने कंट्रोल में रख सकें और अपने हिसाब से बना सकें। आप का क्या कहना है इस बारे में?

एक्टर्स इसलिए फिल्में बनाते हैं ताकि वो अपनी फिल्म को अपने कंट्रोल में रख सकें और अपने हिसाब से बना सकें। आप का क्या कहना है इस बारे में?

मैं इसलिए फिल्में नहीं बनाता ताकि फिल्म पर मेरा पूरा कंट्रोल हो। मैं फिल्में सिर्फ इसलिए बनाता हूं क्योंकि मुझे स्क्रिप्ट पसंद आती हैं। दूसरी बात ये है कि मैं अपने पिता के नाम को ज्यादा से ज्यादा फेमस करना चाहता हूं।

आपकी पिछली एक्शन फिल्म खिलाड़ी 786 फ्लॉप हुई। आपके हिसाब से क्या वजह रही होगी इसकी?

आपकी पिछली एक्शन फिल्म खिलाड़ी 786 फ्लॉप हुई। आपके हिसाब से क्या वजह रही होगी इसकी?

मैं कभी भी ये नहीं सोचता कि कोई फिल्म रिलीज हुई वो क्यों फ्लॉप हुई। ये सब सोचने में मैं अपना वक्त नहीं बरबाद करता। जो भी हो गया सो हो गया अब उसके बारे में सोचकर कोई फायदा नहीं है।

कई बार त्यौहारों के समय दो बड़े स्टार्स की फिल्में एक साथ रिलीज हो जाती हैं जिसकी वजह से काफी मिस अंडरस्टैंडिंग्स शुरु होती हैं। आपके हिसाब से दो स्टार्स की फिल्में एक ही डेट पर रिलीज होना सही है?

कई बार त्यौहारों के समय दो बड़े स्टार्स की फिल्में एक साथ रिलीज हो जाती हैं जिसकी वजह से काफी मिस अंडरस्टैंडिंग्स शुरु होती हैं। आपके हिसाब से दो स्टार्स की फिल्में एक ही डेट पर रिलीज होना सही है?

मुझे नहीं लगता है कि दो एक्टर्स की फिल्में एक साथ रिलीज होनी चाहिए।

थुपाकी का नाम पिस्तौल था पहले। बदल के हॉलीडे क्यों किया?

थुपाकी का नाम पिस्तौल था पहले। बदल के हॉलीडे क्यों किया?

चूंकि थुपाकी का मतलब पिस्टल है इसलिए लोग फिल्म के नाम को पिस्तौल कहने लगे। लेकिन असल में हमेशा से ही फिल्म का नाम हॉलीडे ही था पता नहीं क्यों लोग बेवजह कुछ भी खबर बना देते हैं।

English summary
Akshay Kumar's next film Boss is going to hit the screens this Friday. Boss movie is basically a story of a father and son. Akshay said shared a great relationship with his father so he always try to show this relationship through films.
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more