India
    For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    INTERVIEW: काफी लोगों को लगा मेरे बेटे जुनैद को 'लाल सिंह चड्ढा' बनना चाहिए था- आमिर खान

    |

    आमिर खान कई दफा इसका जिक्र कर चुके हैं कि 'लाल सिंह चड्ढा' उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है। 11 अगस्त को यह सपना पर्दे पर पूरा होता हुआ दिखाई देगा। Filmibeat Hindi फिल्मीबीट हिंदी से बातचीत के दौरान एक दफा नहीं बल्कि कई बार आमिर खान ने इस बात पर दबाव दिया कि यह बहुत कठिन फिल्म है। यही वजह थी कि हाथ में स्क्रिप्ट होने के बाद भी लाल सिंह चड्ढा का पर्दे पर क्या स्वरूप होगा इसे लेकर आमिर खान चिंतित थे। उन्होंने फिल्म के निर्देशक अद्वैत चंदन को शूटिंग से पहले टेस्ट वीडियो बनाने के लिए निर्देश दिया।

    अपने बेटे जुनैद को लाल सिंह चड्ढा बना दिया। जब उन्होंने पर्दे पर बेटे लाल के किरदार में देखा तो लाल सिंह चड्ढा की भूमिका निभाने के खुद के फैसले को लेकर दुविधा में पड़ गए। आमिर ने फैसला लिया कि जुनैद को यह भूमिका निभानी चाहिए। लेकिन ऐसा क्या हुआ जो आमिर को अपने दोस्तों से मदद लेनी पड़ गई, हमारी इस बातचीत में आमिर ने इसे लेकर विस्तार से बात की है। साथ ही कोरोना के दौरान सिनेमाघर में हिंदी फिल्मों के कमजोर प्रदर्शन और अक्षय कुमार की फिल्म 'रक्षाबंधन' के साथ लाल सिंह चड्ढा के क्लैश पर भी बात की है।

    हॉलीवुड फिल्म फॉरेस्ट गम्प से लाल सिंह चड्ढा प्रेरित है। भारतीय दर्शकों के मद्देनजर किस तरह के बदलाव किए गए हैं ?

    हॉलीवुड फिल्म फॉरेस्ट गम्प से लाल सिंह चड्ढा प्रेरित है। भारतीय दर्शकों के मद्देनजर किस तरह के बदलाव किए गए हैं ?

    हमारी फिल्म ऑरिजिनल से प्रेरित है,लेकिन हमने भारतीय दर्शकों के अनुसार बदलाव भी किए हैं।हॉलीवुड फिल्म में कुछ एडल्ट दृश्य थे। हमने अपनी फिल्म में वह नहीं लिया है,क्योंकि हम चाहते हैं कि पूरे परिवार के साथ लोग इस फ़िल्म को देखने जाए। मेरा लुक भी दिलचस्प है।

    इसका विचार मुझे जिम से आया। मेरी जिम में एक सरदार जी आते थे, मुझे उनका लुक बहुत पसंद आया।मैंने उनसे बात की कि मैं अपनी अगली फिल्म में सरदार बनने वाला हूं क्या मैं उनके लुक की कॉपी कर सकता हूं।वे खुशी- खुशी राजी हो गए।मैंने उनकी एक तस्वीर अपने कैमरे में खींचकर रख ली।मैंने अपनी दाढ़ी छह इंच तक बढ़ायी है। इसमें छह महीने लगा था।

    आमिर खान आगे कहते हैं

    आमिर खान आगे कहते हैं

    फिल्म की शूटिंग से पहले लगा कि मैं इस फिल्म के लिए परफेक्ट नहीं हूं। फिल्म के राइट्स लेने में हमको बहुत समय लग गया था। जब मुश्किल से राइट्स मिले तो मैंने दाढ़ी बढ़ानी शुरू की। छह महीने तक दाढ़ी बढ़ा ली। हमारे पास छह महीने का और वक़्त था। इस बीच, मेरे बेटे जुनैद वो गए थे थिएटर पढ़ने। उस वक़्त हमारी लाल सिंह चड्ढा को लेकर तयारी चल रही थी।

    मैंने अद्वैत चंदन को कहा किये बहुत जटिल फिल्म है, इसलिए आप इसका टेस्ट शूट करो। मैं आपको ऐसे छह से सात सीन दे रहा हूं। मुझे देखना है कि आप इस विषय के साथ न्याय कर सकते हैं या नहीं। जुनैद भी उस वक़्त आ गया था। मैंने अद्वैत को बोला कि आप जुनैद को लाल के रोल में लेकर अपना टेस्ट शुरू करें। मेरे लिए यह था कि बेटा क्या सीखकर आया है वो भी देख लूंगा। जब शॉट्स को हमने देखा तो हम चौंक गए थे।

    जुनैद का काम देख क्या आप चौंक गए थे?

    जुनैद का काम देख क्या आप चौंक गए थे?

    अद्वैत का काम तो अच्छा था। जुनैद का भी बहुत अच्छा था। मैंने जुनैद को पहली बार पर्दे पर परफॉर्म करते हुए देखा। वो पूरी तरह से किरदार बन गया था। मुझे समझ नहीं आया कि अब मैं लाल कैसे करूंगा , क्यूंकि मेरे लिए जुनैद ही लाल था। मैंने अपने दोस्तों से बात की। सबको वो सारे फुटेज़ दिखाए। 98 प्रतिशत लोगों ने कहा कि ये रोल जुनैद को करना चाहिए।

    आदित्य चोपड़ा और अतुल कुलकर्णी का कहना था कि ये फिल्म किसी न्यूकमर को नहीं करना चाहिए। एक स्टार की ज़रूरत है जो कहानी को अपने कन्धों पर रख सकें इसलिए हॉलीवुड में भी टॉम हैंक्स को लिया गया। इसके अलावा फिल्म का जो कालखंड है। उसमें जुनैद पैदा भी नहीं हुआ था। फिल्म 70 के दशक पर है। उसके बाद मेरे लिए साफ हो गया कि मुझे ये फिल्म करना चाहिए । लेकिन इस पुरे वाकये में मैंने अपनी दाढ़ी कटा ली थी क्यूंकि मुझे लगने लगा था कि जुनैद ही करेगा। मैंने जुनैद के किए गए सभी सीन से प्रेरणा ली। उसने क्या सुर पिच किया है। ये मुझे समझने को मिल गया ।

    लाल सिंह किरदार की क्या खूबी आप अपने साथ रखना चाहेंगे?

    लाल सिंह किरदार की क्या खूबी आप अपने साथ रखना चाहेंगे?

    काश, लाल सिंह की कुछ खूबियां मेरे साथ रह जाए बहुत ही मासूम सा किरदार है। दिल में उसके खोट नहीं है।उसके खिलाफ कोई कुछ बुरा कर भी दे तो वह उसका बुरा नहीं चाहता है। उसके किरदार की एक कमाल की खासियत ये भी है कि उसे पता है कि अपने अतीत को कैसे पीछे छोड़ना है। जो हम नहीं कर पाते हैं।

    क्या करीना कपूर खान का ऑडिशन आपने इस फिल्म के लिए लिया, पहले से अब उनमें क्या बदलाव देखते हैं ?

    क्या करीना कपूर खान का ऑडिशन आपने इस फिल्म के लिए लिया, पहले से अब उनमें क्या बदलाव देखते हैं ?

    मुझे हमेशा से करीना बहुत ही कमाल की अभिनेत्री लगती हैं। मैंने उनका काम पहली बार फिल्म कभी ख़ुशी कभी गम में देखा था। वह मेरी खिचाई भी करती हैं। उन्होंने अभी तक फिल्म देखी नहीं है। उनका मानना है कि रिलीज के बाद वह पूरी फिल्म एक साथ देखेंगी। वह बिना देखे ही मुझे राय देती है कि ये सीन ऐसा होना चाहिए।वो सीन ऐसा।वो वाला सीन मत डालना भूलना। पहली बार ऑडिशन के दौरान ही हमें लगा कि इस किरदार को करीना हीकर सकती हैं। मैं भी ऑडिशन देता हूं। किरण राव भी एक फ़िल्म बना रही हैं लापता लेडीज ।इस फ़िल्म का ट्रेलर लाल सिंह के साथ ही आ रहा है।वैसे मैंने उस फिल्म के लिए लुक टेस्ट दिया था।

    आप पहले रिजेक्शन को कैसे लेते थे?

    आप पहले रिजेक्शन को कैसे लेते थे?

    रिजेक्शन से मैं उदास होता हूं। फिर मैं सोचता हूं कि ठीक है। मुझे याद है कि मैं इंटर कॉलेज में हिंदी नाटक के ऑडिशन में मैं रिजेक्ट हो गया था। मैं दुखी था। मैंने फिर नोटिस बोर्ड पर देखा कि गुजराती प्ले का ऑडिशन जारी है। नोटिस पर यह लिखा था कि 30 से 40 कोरस के लोग चाहिए । मुख्य एक्टर के अलावा । मुझे लगा कि कोरस में तो कम से कम मुझे मौका मिल जाएगा। मैं हार नहीं मानता हूं। एक दरवाजा बंद होता है तो दूसरा खोल देना चाहिए। काम को लेकर यह मेरा अप्रोच रहता है।

     क्या फिल्म ऑडिशन में कभी आप रिजेक्ट हुए हैं?

    क्या फिल्म ऑडिशन में कभी आप रिजेक्ट हुए हैं?

    जैसा कि मैंने बताया कि निर्देशक किरण राव ने मुझे लापता लेडीज में नहीं लिया। लापता लेडीज के लिए हम दोनों ने मिलकर यह फैसला लिया। हम दोनों को लगा कि मेरा टेस्ट अच्छा था। मैं उन दिनों लाल सिंह चड्डा की शूटिंग कर रहा था। लापता लेडीज की शूटिंग भी शुरू थी। समय भी नहीं था मेरे पास। हम ने साथ में तय किया कि अगर कोई नहीं मिला तो मैं बैकअप के तौर पर रहूंगा।

    मां और बेटे की कहानी है,असल जिंदगी में आपका आपकी मां के साथ कैसे जुड़ाव रहा है?

    मां और बेटे की कहानी है,असल जिंदगी में आपका आपकी मां के साथ कैसे जुड़ाव रहा है?

    जिस तरह लाल का रिश्ता अपनी मां के साथ है। ठीक ऐसा ही रिश्ता मेरा अम्मी के साथ है। आप लोग कितने साल से मुझे जानते हैं।हर इंटरव्यू में मैंने अपनी मां का जिक्र किया है। लाल अपनी मां के जितना करीब है। मैं भी बिल्कुल वैसे ही अपनी अम्मी के करीब हूं। मैंने अपनी जिंदगी में 99 प्रतिशत अपनी मां से सिखा है। वो मेरे लिए सबसे बड़ी सीख रही हैं। उन्होंने फिल्म देखी है, लाल सिंह चड्ढा को पसंद भी किया है। अम्मी को बहुत पसंद आयी है।

    कोरोना काल के दौरान इंडस्ट्री ने उतार-चढ़ाव देखे, क्या बॉक्स ऑफिस नंबर आपके लिए मायने रखता है

    कोरोना काल के दौरान इंडस्ट्री ने उतार-चढ़ाव देखे, क्या बॉक्स ऑफिस नंबर आपके लिए मायने रखता है

    हम चाहते हैं कि फिल्म को ज्यादा लोग देखे। उसको जांचने का तरीका बॉक्स ऑफिस होता है। दूसरा कोई तरीका नहीं है। कोविड के बाद कई तरह के बदलाव आए हैं। हमने मेहनत करके फिल्म बनाई है। फिक्र तो लगी रहती है। अभी देखिए कई सारी फिल्में चली हैं। गंगूबाई काठियावाड़ी, भूल भुलैया 2, द कश्मीर फाइल्स सफल फिल्म रही हैं। मैंने सुना कि पुष्पा ने डेढ़ करोड़ का ओपनिंग लिया था। फिर 100 करोड़ के ऊपर का बिजनेस किया। जब दर्शकों को फिल्म पसंद आएगी तो वह चलेगी।

    एक समय ऐसा था कि लोग आपके व्यक्तित्व की तुलना टॅाम हैंक्स के साथ करते थे, क्या आपको इसकी जानकारी है?

    एक समय ऐसा था कि लोग आपके व्यक्तित्व की तुलना टॅाम हैंक्स के साथ करते थे, क्या आपको इसकी जानकारी है?

    हां, लंबे समय तक लोगों ने कहा कि टाॅम हैंक्स और मैं एक जैसे दिखाई देते हैं। हालांकि यह पहली बार है कि हम दोनों ने एक ही कहानी पर फिल्म की है। जब लोगों ने मुझे इतना बोलना शुरू किया तो मैंने टॅाम को गौर से देखना शुरू किया। मुझे नहीं नजर आता कि वह मेरी तरह दिखते हैं, एक्टिंग भी मेरी तरह है। मुझे वो अलग नजर आते हैं। मैं यह मानता हूं कि लोगों को ऐसा लगता है।

    लाल सिंह चड्ढा के साथ अक्षय कुमार की रक्षाबंधन एक साथ क्लैश हो रही है?

    लाल सिंह चड्ढा के साथ अक्षय कुमार की रक्षाबंधन एक साथ क्लैश हो रही है?

    हां, हम एक ही दिन पर आ रहे हैं। मुझे रक्षाबंधन का ट्रेलर अच्छा लगा। मैंने निर्देशक से बात भी की। एक भाई-बहन की भावुक कहानी है।दोनों पारिवारिक फिल्म है । उम्मीद है कि दोनों ही फिल्म दर्शकों को पसंद आएगी। बहुत दफा हमारी फिल्में साथ आतीहै। फिल्म अच्छी होगी तो दोनों ही चलेगी।सनी और मेरी फिल्में कई दफा आय़ी हैं साथ में।

     बॅालीवुड में यह ट्रेंड दिख रहा है कि पैन इंडिया फिल्म के लिए साउथ के एक्टर बॅालीवुड में और बॅालीवुड के एक्टर साउथ की फिल्मों में काम कर रहे हैं, पैन इंडिया की डिमांड है ये?

    बॅालीवुड में यह ट्रेंड दिख रहा है कि पैन इंडिया फिल्म के लिए साउथ के एक्टर बॅालीवुड में और बॅालीवुड के एक्टर साउथ की फिल्मों में काम कर रहे हैं, पैन इंडिया की डिमांड है ये?

    अतुल कुलकर्णी ने जब यह कहानी लिखी थी तो पहले नागा चैतन्य जो किरदार निभा रहे हैं वो बलवंतसरदार किरदार था। मैंने और अद्वैत चंदन ने सोचा कि साउथ का किरदार रखते हैं। लाल को वो वीरा बोलता है और लाल उसे अन्ना। एक अच्छा रिश्ता दिखा सकते है। तो हमने फिर आंध्रा से किरदार बनाया।

    साउथ और नॉर्थका रिश्ता अच्छा दिखा सकते हैं। उससेभी ज्यादा हर एक्टर चाहता है कि उसकी फिल्म देश भर में देखी जाए। हम लोग अपनी फिल्म कई दफा तमिल और तेलुगू में डब करते आ रहे हैं। दंगल कोअच्छा रिएक्शन भी मिला है। लेकिन जिस तरह साउथ की फिल्मों ने क्रॉस ओवर किया है वो मेरे ख्याल से शोले के अलावा किसी दूसरी फिल्म ने नहीं किया है। वो बहुत समय से नहीं हुआ है। उम्मीद है कि इस दफा हो।

    English summary
    In an Interview Aamir Khan talk about son junaid playing Laal Singh Chaddha and box office clash with Akshay kumar,
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X