For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    जैक्सन पर 47 लाख पाउंड हर्जाना

    By Staff
    |
    माइकल जैक्सन के करियर को पुनर्जीवित करने की योजना बनाने वाले बहरीन के राजकुमार ने अब उन पर 47 लाख पाउंड के हर्जाने का मुकदमा कर दिया है.

    शेख़ अब्दुल्ला बिन हमद बिन ईसा-अल-ख़लीफ़ा के वकील ने बताया कि उन्होंने माइकल जैक्सन को वित्तीय मदद भी दी थी. शेख़ अब्दुल्ला ने जैक्सन पर संगीत अनुबंध पूरा न होने के कारण 47 लाख पाउंड हर्जाना देने का मुकदमा किया है.

    जैक्सन ने इस दावे को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि इस तरह का कोई अनुबंध नहीं हुआ था और उन्हें मिली राशि तो उपहार थे.

    लंदन की अदालत में एक अर्ज़ी दाखिल की गई है कि इस 12 दिवसीय सुनवाई के दौरान पॉप स्टार अमरीका से वीडियो लिंक के माध्यम से गवाही दें.

    शेख का निमंत्रण

    शेख के वकील बंकिम थंकी ने अदालत को बताया कि तीन साल पहले जैक्सन के बहरीन में छह महीने के निवास के दौरान उनके साथ शेख के क़रीबी ताल्लुक़ात बन गए थे.

    जैक्सन के मुताबिक वे मानसिक तौर पर परेशान थे और उन्हें प्रभावित किया गया. अमरीका में बाल शोषण के मामले से बरी होने के बाद आराम करने के लिए जैक्सन अपने बच्चों और निजी कर्मचारियों के साथ शेख के निमंत्रण पर बहरीन गए थे और वे पूरे देश में घूमे थे.

    उनके इस दौरे से पहले ही शेख़ अब्दुल्ला ने नेवरलैंड रेंच पर एक रिकार्डिंग स्टूडियो बनवाया और उन्हें अपने बनाए गीतों की धुनें भी भेजीं.

    थंकी ने कहा कि पूरे हो चुके एक गीत की रिकार्डिंग अदालत में सुनवाई जाएगी. सुनवाई में अदालत ने पाया कि इस अनुबंध के तहत एक एलबम, आत्मकथा और स्टेज नाटक बनाए जाने थे.

    सन 2006 में खाड़ी देशों पर आधारित जैक्सन की नई एलबम जारी करने की योजना के बारे में घोषणा हुई थी जिसका मालिकाना हक़ शेख़ अब्दुल्ला का होना था.

    शेख़ का दावा है कि 15 लाख पाउंड देने के बावजूद जैक्सन के गीतों से मिलने वाली रकम को कैटरीना के शिकार लोगों के लाभ के लिए दिया जाना था लेकिन जैक्सन स्टूडियो नहीं पहुँचे जिससे अंतिम रिकार्डिंग भी नहीं हो पाई और गीत जारी नहीं हुआ.

    उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने इसके लिए राशि चुकाई और बहरीन में अपने साथ जैक्सन की रिकार्डिंग करने के लिए एक स्टूडियो भी बनवाया.

    उपहार

    शेख़ अब्दुल्ला ने जैक्सन के नेवरलैंड रेंच पर एक रिकार्डिंग स्टूडियो बनवाया था. उन्होंने बताया कि मई, 2006 में बहरीन से वापस जाने तक जैक्सन के रहने, यात्रा करने और दूसरे खर्च भी उन्होंने वहन किए. इसके अलावा उन्होंने कानूनी और वित्तीय सलाहकारों के लिए उन्हें अग्रिम राशि भी दी.

    इस दावे के जवाब में जैक्सन ने कहा कि इस बारे में कोई वैध अनुबंध नहीं है. इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि शेख का मामला ग़लतियों, ग़लतफ़हमियों और अनुचित प्रभाव पर आधारित है.

    उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा कोई भी अनुबंध नहीं हुआ था और दी गई राशि उपहार थी. गायक ने माना कि उन्होंने एक कागज़ात पर हस्ताक्षर किए थे जिसे उन्होंने दू सीज़ रिकार्डिंग कंपनी की साझेदारी समझा था.

    गायक ने शेख द्वारा उन्हें अनुभवी व्यापारी बताने को चुनौती देते हुए कहा कि उन्होंने इस कागज़ात की शर्तों तक को नहीं पढ़ा था और ये भी कहा है कि उन्हें स्वतंत्र क़ानूनी सलाह लेने के लिए नहीं कहा गया था.

    उन्होंने दावा किया कि एक शक्तिशाली और प्रभावशाली व्यक्ति होने के नाते शेख़ ने उनके साथ तब अनुचित प्रभाव का इस्तेमाल किया जब वे अदालत में आपराधिक मामले के बाद भावनात्मक रूप से परेशान थे.

    यह मामला गायक के वित्तीय संकट के ग़ुज़रने की वजह से उनके नेवरलैंड रेंच को बेच देने के बाद सामने आया है.

    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X