For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    राजश्री प्रोडक्शंस ने पूरे किये 75 साल, आपने देखी इस प्रोडक्शन हाउस की बेहतरीन फिल्में!

    |

    15 अगस्त 1947 जहां एक तरफ पूरा देश आजादी के जश्न में डूबा हुआ था, उसी दिन ताराचंद बड़जात्या ने 'राजश्री पिक्चर्स' के नाम से फिल्म प्रोडक्शन और डिस्ट्रिब्यूशन कंपनी खोली। बॉलीवुड में राजश्री प्रोडक्शन का दबदबा पिछले कई दशकों से लेकर आज तक कायम है। काफी कम लोगों को ही पता है राजश्री ताराचंद बड़जात्या की बेटी का नाम है, जो आज भी राजस्थान के जयपुर में रहती है। पिछले 75 सालों में राजश्री प्रोडक्शन ने पारिवारिक फिल्मों का एक विशाल एम्पायर खड़ा कर दिया है। ताराचंद बड़जात्या ने केवल 19 साल की उम्र में 1933 में फिल्मों में कदम रखा और 'मोती महल थिएटर' में काम करना शुरू किया। कहा जाता है कि पहले ताराचंद बड़जात्या अपने दोनों बेटे राज और कमल के नामों को मिलाकर राजकमल प्रोडक्शन हाउस खोलना चाहते थे लेकिन तभी वी. शांताराम ने इस नाम से प्रोडक्शन हाउस खोल दिया। तब ताराचंद बड़जात्या ने अपनी बेटी राजश्री के नाम पर इस प्रोडक्शन हाउस का नाम रखा। कहा जाता है कि राजश्री प्रोडक्शन की हर फिल्म को पहले घर से सदस्यों और यहां तक की ड्राइवर को भी दिखाया जाता था, उनकी राय ली जाती थी। राजश्री प्रोडक्शन की हिट फिल्मों की शुरूआत 'दोस्ती' से हुई। ताराचंद बड़जात्या के बाद उनके तीनों बेटे राजकुमार, कमल कुमार और अजीत कुमार ने कंपनी की बागडोर संभाली। ताराचंद बड़जात्या ने अपने पोते सूरज बड़जात्या को फिल्म इंडस्ट्री में लॉन्च कर दिया था। अब सूरज के बड़े बेटे अवनीश बड़जात्या सलमान खान के साथ काम करने के लिए तैयार हैं।

    आइए आपको राजश्री प्रोडक्शन की कई सुपरहिट फिल्मों के बारे में बताते हैं जिसे आप भी अपने परिवार के साथ जरूर देखिए

    दोस्ती :

    दोस्ती :

    1964 में आयी फिल्म 'दोस्ती' इस प्रोडक्शन हाउस की टॉप लिस्ट में शामिल फिल्म है। इस फिल्म की पूरी कहानी दो दोस्तों के आसपास बुनी गयी थी, जिसमें से एक दृष्टिहीन तो दूसरा पैरों से दिव्यांग था। दोनों दोस्तों का किरदार सुधिर कुमार और सुशील कुमार ने निभाया था। यह फिल्म 1964 की सुपरहिट फिल्म होने के साथ उस साल के टॉप 10 फिल्मों में शामिल की गयी थी।

    उपाहार :

    उपाहार :

    1971 में आयी फिल्म 'उपाहार' में जया भादुड़ी, कामिनी कौशल और स्वरूप दत्त ने काम किया था। यह फिल्म रवीन्द्रनाथ टैगोर की एक छोटी कहानी 'समाप्ती' पर आधारित थी। इस फिल्म को विदेशी भाषा की बेस्ट फिल्म श्रेणी में ऑस्कर पुरस्कार के लिए भारत से भेजा गया था लेकिन बदकिस्मती से यह फिल्म पुरस्कार नहीं जीत सकी।

    चितचोर :

    चितचोर :

    1976 में आयी रोमांटिक फिल्म 'चितचोर' इस प्रोडक्शन हाउस की अगली सुपरहिट फिल्म थी। यह फिल्म बंगाली लेखक सुबोध घोष की कहानी 'चितचकोर' की कहानी पर आधारित थी। फिल्म में अमोल पालेकर और जरीना वहाब नजर आये थे। यह फिल्म हिट साबित हुई और इसने कई अवॉर्ड्स भी जीते।

    सारांश :

    सारांश :

    1984 में आयी फिल्म 'सारांश' के साथ अनुपम खेर का सफर शुरू हुआ था। इस फिल्म का निर्देशन महेश भट्ट ने किया था। फिल्म में मदन जैन, निलू फुले, सुहास भालेकर, सोनी राजदान जैसे कलाकारों ने काम किया था। अपनी इस फिल्म के बारे में अनुपम ने एक बार बताया था कि वह जब 28 साल के युवा थे तब उन्होंने 60 साल के बुढ़े का किरदार फिल्म 'सारांश' में निभाया था। फिल्म की कहानी एक महाराष्ट्रीयन दंपती की है जिसे पता चलता है कि न्यूयॉर्क में उनके इकलौते बेटे की मौत हो गयी है।

    मैनें प्यार किया :

    मैनें प्यार किया :

    1989 में आयी फिल्म 'मैनें प्यार किया ' से मॉडर्न लव स्टोरी का दौर शुरू हुआ। हालांकि राजश्री प्रोडक्शन ने हमेशा इस बात का ध्यान रखा कि फिल्मों में कभी भी अश्लिलता ना आने पाए। इस फिल्म में सलमान खान पहली बार 'प्रेम' के अवतार में नजर आये। वहीं भाग्यश्री ने इस फिल्म से एक्टिंग डेब्यू किया। इस रोमांटिक म्यूजिकल फिल्म की कहानी दो बचपन के दोस्तों की है, जो बड़े होने पर एक-दूसरे के प्यार में पड़ते हैं और घरवालों की मर्जी के खिलाफ जाकर एक-दूसरे से शादी कर लेते हैं।

    हम आपके हैं कौन :

    हम आपके हैं कौन :

    1994 में रीलिज हुई म्यूजिकल कॉमेडी फिल्म 'हम आपके हैं कौन' के साथ आम भारतीय परिवारों में छोटी-छोटी खुशियों को कैसे जश्न के तौर पर मनाया जाता है, यह बताया गया। फिल्म में सलमान खान के साथ माधुरी दीक्षित, रेणुका सहाणे, मोहनिस बहल, अनुपम खेर, रीमा लागू जैसे दिग्गजों ने एक्टिंग की थी। शुद्ध पारिवारिक इस फिल्म में घर के बड़े बेटे और बेटी शादी के बाद कैसे छोटे भाई-बहन एक-दूसरे के साथ हंसी-ठिठोली करते हुए एक-दूसरे के प्यार में पड़ते हैं, यह दिखाया गया था।

    हम साथ-साथ हैं :

    हम साथ-साथ हैं :

    1999 में आयी फिल्म 'हम साथ-साथ हैं' एक मल्टीस्टारर फिल्म थी। फिल्म में परिवार के रिश्ते, अपने परिवार के लिए घर के सबसे बड़े बेटे का सैक्रिफाइज और कुछ बाहरी लोग जो हमेशा तमाशा देखने के लिए खड़े होते हैं, के बारे में बखुबी से दिखाया गया था। फिल्म में रीमा लागू, आलोक नाथ, मोहनिस बहल, सैफ अली खान, सलमान खान, नीलम, तब्बू, करिश्मा कपूर, सोनाली बेंद्रे ने काम किया था। तीन बेटे, तीन बहुओं और एक बेटी-दामाद के साथ भरेपूरे एक परिवार की कहानी पर बनी यह फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई थी।

    विवाह :

    विवाह :

    2006 में आयी फिल्म में 'विवाह' में 'प्रेम' बनने की बारी शाहीद कपूर की थी। शाहीद और अमृता राव स्टारर यह फिल्म दोनों के कॅरियर का माइल स्टोन भी साबित हुआ। फिल्म की कहानी सगाई से शादी तक के खूबसूरत सफर के बारे में थी। एक छोटे से कस्बे में अपने चाचा आलोक नाथ, चाची और चचेरी बहन के साथ रहने वाली अमृता की शादी दिल्ली के एक बड़े बिजनेसमैन (अनुपम खेर) के छोटे बेटे प्रेम से तय हो जाता है। प्रेम पहली नजर में ही पूनम (अमृता राव) पर फिदा हो जाता है। यह उस साल सिनेमा हॉल और इंटरनेट पर एक साथ रिलीज होने वाली एकलौती फिल्म थी जो जबर्दस्त हिट साबित हुई।

    ऊंचाई :

    ऊंचाई :

    साल 2022 में फिल्म 'ऊंचाई' के साथ सुरज बड़जात्या ने लंबे एक बार फिर से निर्देशन के क्षेत्र में लौटे हैं। इस फिल्म में 4 उम्रदराज दोस्तों की कहानी को दिखाया गया है। फिल्म में अमिताभ बच्चन, अनुपम खेर, बोमन ईरानी, डैनी डेंजोप्पा, नीना गुप्ता, सारिका और परिणीति चोपड़ा नजर आ रही हैं।

    English summary
    On 15 August 1947, Tarachand Barjatya opened a film production and distribution company named 'Rajshree Pictures'. In the last 75 years, Rajshri Productions has created a huge empire of family films. This production house's new film 'Uchhai' has been released, which is the story of 4 old friends.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X