For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    B'day Spcl: इनके जैसा कोई नहीं, पहली बार में हुई थीं रिजेक्ट, 70 सालों से सबसे बड़ी सुपरस्टार

    |

    जैसी मधुर सूरत उससे भी मीठी आवाज.. सुनने वाला बस सुनता ही रह जाए। अपने टैलेंट के जरिए बॉलीवुड की ऐसी हस्ती बन गईं कि हर कोई इनके आगे नतमस्तक है। हम बात कर रहे हैं सफलता, सादगी और महानता की मूरत लता मंगेशकर की। वे बॉलीवुड की ऐसी सुपरस्टार हैं जिनकी बराबरी आज तक कोई नहीं कर सका और आने वाले समय में भी शायद ही कोई उनके जैसा सुर सम्राट आए। लेकिन क्या आपको बता है कि भारत कोकिला को पहली बार में ही रिजेक्ट कर दिया गया था।

    [कास्टिंग काउच विवाद: तनुश्री दत्ता ने लिया अक्षय कुमार-रजनीकांत का नाम, जबरदस्त विवाद]

    लता मंगेशकर 28 सितंबर को अपना 89वां जन्मदिन मना रही हैं और बॉलीवुड के लिए ये काफी अहम दिन है। क्योंकि रोज़ ऐसे लेजेंड और ऐसी शख्सियतें नहीं आया करतीं। उनके पास संगीत से जुड़ा शायद ही कोई ऐसा अवार्ड होगा जो नहीं होगा। उन्हें साल 2001 में भारत के सर्वोच्च नागरिक भारत रत्न से भी सम्मानित किया जा चुका है। लेकिन सफलता की चोटी पर बैठीं लता जी से घमंड कोसो दूर हैं शायद यही कारण है कि उनके आगे हर कोई श्रद्दा से सिर झुका देता है।

    लता मंगेशकर ने 70 साल इस इंडस्ट्री को दिए हैं। उनका जन्म 1929 में हुआ था और 1948 से वो बॉलीवुड का हिस्सा हैं। हालांकि उनके जीवन से जुड़े कुछ ऐसे तथ्य हैं जिनके बारे में जब हमें पता लगा तो हम भी चौंक गए। तो चलिए आगे जानें सुर सम्राज्ञी लता मंगेशकर के बारे में कुछ अनजानी बातें और देखें उनकी बेहद रेयर तस्वीरें-

    पहला ऑडीशन रिजेक्ट

    पहला ऑडीशन रिजेक्ट

    लता मंगेशकर ने पहला ऑडीशन 1948 की फिल्म शहीद के लिए दिया था और उन्हें रिजेक्ट कर दिया गया था।

    पैरों में गिरेंगे

    पैरों में गिरेंगे

    उस दौर में लता जी के गुरू ने कहा था कि एक वक्त होगा जब लोग उनके पैर पड़कर उनसे गाने गवाने की भीख मांगेंगे।

    हेमा था नाम

    हेमा था नाम

    लता मंगेशकर का पहला नाम 'हेमा' था, मगर जन्म के 5 साल बाद माता-पिता ने इनका नाम 'लता' रख दिया था।

    पहली कमाई

    पहली कमाई

    लता जी को पहली बार स्टेज पर गाने के लिए 25 रुपये मिले थे। इसे वह अपनी पहली कमाई मानती हैं।

    दिलीप कुमार ने निकाली कमी

    दिलीप कुमार ने निकाली कमी

    दिलीप कुमार ने लता जी के गाने में कमी निकालते हुए उनकी उर्दू ठीक करना शुरू की थी।

    दिया गया ज़हर

    दिया गया ज़हर

    1962 में जब लताजी 32 साल की थी तब उन्हें स्लो प्वॉइजन दिया गया था। उनकी बेहद करीबी पदमा सचदेव ने इसका ज़िक्र अपनी किताब ‘ऐसा कहां से लाऊं'में किया है।

    चख कर दिया जाता था खाना

    चख कर दिया जाता था खाना

    इसके बाद राइटर मजरूह सुल्तानपुरी कई दिनों तक उनके घर आकर पहले खुद खाना चखते, फिर लता को खाने देते थे।

    बिना चप्पल

    बिना चप्पल

    लता आज भी गीत रिकार्डिंग के लिए स्टूडियो में प्रवेश करने से पहले चप्पल बाहर उतार कर अंदर जाती हैं।

    1949 में डेब्यू

    1949 में डेब्यू

    1949 में लताजी को पहला मौका फ़िल्म "महल" के आयेगा आनेवाला गीत से मिला। इस गीत को उस समय की सबसे खूबसूरत और चर्चित अभिनेत्री मधुबाला पर फ़िल्माया गया था।

    नहीं लेती अवार्ड्स

    नहीं लेती अवार्ड्स

    लता जी ने काफी पहले ही अवार्ड्स लेने से मना कर दिया है। वो मानती हैं कि दूसरों को ये मौका दिया जाए।

    करती हैं वाट्सऐप

    करती हैं वाट्सऐप

    लता मंगेशकर सोनू निगम के साथ वाट्सऐप पर जुड़ी रहती हैं। ये बात खुद सोनू निगम ने बांटी थी।

    English summary
    Lata Mangeshkar turns 89 know interesting fact about real super star of Bollywood.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X