For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    कहानी की बैंड:सलमान - ऐश को मिलाने में था शाहरूख आमिर का हाथ!

    |

    [तृषा गैड़] सलमान खान और ऐश्वर्या राय एक ऐसा प्रेमी जोड़ा है जिसका अंत भले ही थोड़ी अजीब तरीके से हुआ हो, पर जब तक ये दोनों साथ थे, बॉलीवुड में इनसे रोमांटिक कोई कपल नहीं था। लेकिन अब जो हम आपको बताने जा रहे हैं, उसे सुनकर आप दंग रह जाएंगे। क्या आप जानते हैं कि सलमान और ऐश को मिलवाने में किसका हाथ था....शाहरूख और आमिर का!
    खा गए ना चक्कर, दरअसल सलमान और ऐश की प्रेम कहानी शुरू हुई हम दिल दे चुके सनम के सेट पर। पर संजय लीला भंसाली की इस फिल्म के लिए शाहरूख और आमिर पहली चॉइस थे, सोचिए ज़रा और शाहरूख और आमिर समीर और वनराज के किरदार में होते तो बज जाती न कहानी की बैंड। वैसे ऐसे कई ट्विस्ट और हैं, जो अगर फिल्म में होते तो पक्का बजा देते कहानी की बैंड!

    अगर समीर को म्यूज़िक नहीं क्रिकेट पसंद होता

    अगर समीर को म्यूज़िक नहीं क्रिकेट पसंद होता

    मान लीजिए कि सलमान खान का पहला प्यार म्यूज़िक नहीं होता तो वो सात समुंदर पार करके भारतीय संगीत सीखने नंदनी के पापा के पास ही क्यों आते। वो किसी और चीज़ में इंटरेस्टेड होते तो क्रिकेट...बॉस्केटबॉल...पेंटिंग वगैरह वगैरह...ओह गॉड पेंटिंग सीखने अगर राजा रवि वर्मा के पास पहुंचते तो रंगरसिया तभी बन गई होती और बज जाती कहानी की बैंड!

    अगर मीका ने गाया होता गाना

    अगर मीका ने गाया होता गाना

    समीर का गाना सुनकर ही नंदिनी के पापा उसे संगीत सिखाने के लिए तैयार हो जाते हैं। लेकिन मान लीजिए कि उस समय भी हमारे दर्शकों में मीका के गानों का क्रेज़ होता तो गाना वही गाते, शंकर महादेवन नहीं...और विक्रम गोखले मीका जैसी आवाज़ वाले लड़के अलबेला सजन की जगह साड़ी के फॉल सा सिखाकर कहानी की बैंड बजा रहे होते।

    वनराज को गाना गाने आता

    वनराज को गाना गाने आता

    नंदिनी और समीर का प्यार सुबह रियाज़ करते करते परवान चढ़ा था। मान लीजिए कि वनराज अजय देवगन को भी गाने में थोड़ा इंटरेस्ट होता तो वो भी नंदिनी के पापा के स्टूडेंट होते और दोनों एक दूसरे को समीर के पहले से जानते होते...who Knows प्यार हो जाता...और अजय देवगन और ऐश्वर्या का रोमांस कहानी की बैंड ही बजा सकता है (हम किसी से कम नहीं नाम की फिल्म याद है न!

    समीर गुरू दक्षिणा देने की बजाय चैलेंज करता

    समीर गुरू दक्षिणा देने की बजाय चैलेंज करता

    ये वक्त के साथ न सलमान खान बूढ़े हो गए हैं इस फिल्म में। भई ये कोई बात हुई लड़की को छोड़ कर गुरू दक्षिणा देकर चलते बने! अब यही दस साल पुराने मैंने प्यार किया वाले सलमान होते तो बाउजी को चैलेंज करके अपना प्यार जीत कर जाते....

    ये बुआ थोड़ा डबल मंथरा होतीं

    ये बुआ थोड़ा डबल मंथरा होतीं

    इन बुआ ने फिल्म में जगह जगह शकुनी मामा और मंथरा का फील दिया है। लेकिन बुई रोल की डेप्थ में नहीं गई। जब इन्हें पता था कि नंदिनी की पतंग कहां कहां उड़ रही है तो पहले ही बता देते...क्या पता समाज के डर से समीर नंदिनी की शादी करा दी जाती लेकिन तब वनराज के बिना बज जाती कहानी की बैंड!

    वनराज इतना राम भगवान की फील वाला पति नहीं होता

    वनराज इतना राम भगवान की फील वाला पति नहीं होता

    अगर वनराज इतने राम भगवान की फील नहीं देते और नॉर्मल पति होते तो या तो इन दोनों का तलाक हो जाता या फिर ये अपनी पत्नी से मारपीट करते। अब इतने अच्छे रोमांटिक ट्रैक के बाद, ऐसा सीरियस ट्रैक तो बजा ही देता कहानी की बैंड!

    नंदिनी को समीर के खत टाइम पर मिलते

    नंदिनी को समीर के खत टाइम पर मिलते

    अब क्या बताएं...इंटरनेट वॉट्स ऐप का ज़माना होता तो इतना नाटक नहीं होता। मान लीजिए समीर के लिखे खत नौकर ने टाइम पर दे दिए होते तो नंदिनी शायद घर से भाग गई होती, नहीं भी भागी होती तो वनराज के लिए कोई ज़्यादा काम नहीं बचता..बस खाली होकर वो कहानी की बैंड ही बजाते!

    समीर ने गुजराती नहीं सीखी होती

    समीर ने गुजराती नहीं सीखी होती

    समीर ने अगर गुजराती नहीं सीखी होती, तो क्लाईमैक्स के सीन में वो वनराज को ढोली तारो गाकर नहीं सुनाते...वनराज आकर नंदिनी को नहीं सुनाता और BIG POINT...ढोली तारो फिल्म में होता ही नहीं...ढोली तारो के बिना हम दिल दे चुके सनम....इससे अच्छा कहानी की बैंड ही बजा दो!

    नंदिनी समीर को ही चुनती

    नंदिनी समीर को ही चुनती

    हम दिल दे चुके सनम का बेस्ट सीन ही ये था...जब नंदिनी समीर को टाटा करके वनराज के पास आ ही जाती है...लेकिन ओह गॉड अगर उसे वनराज में रब नहीं दिखता और वो समीर के साथ ही इटली में सेटल हो जाती तो वनराज के साथ ढोली तारो बैंड बाजे रे गाकर हम सब कहानी की बैंड बजाते!

    शाहरूख होते समीर तो आमिर वनराज

    शाहरूख होते समीर तो आमिर वनराज

    मतलब ऐश को आमिर को छोड़ने की प्रैक्टिस हो जाती, राजा हिंदुस्तानी फिर हम दिल दे चुके सनम....खैर अगर शाहरूख NNNNNNनंदिनी करते इस फिल्म में तो नंदिनी की मां को उनसे प्यार हो जाता क्योंकि शाहरूख मम्मियों को बड़ा पसंद आते हैं...याद करिए DDLJ, कल हो ना हो, वीर ज़ारा.....एक मिनट और अगर ऐश को शाहरूख में ही रब दिख जाता तो...दोनों फिल्म का प्लॉट थोड़ा सेम टाइप लग रहा है...खैर कहानी की बैंड तो बजती ही!

    English summary
    Shahrukh Khan and Aamir Khan were the main reason behind the love blossomed between Salamn and Aishwarya on the sets of Hum Dil De Chuke Sanam. Here's the twisted tale which definitely bangs with Kahani ki Band.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X