For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    इरफान खान फिल्मोग्राफी - 32 साल का करियर, 90 फिल्में और कुल 1000 करोड़ की कमाई

    |

    अभिनेता इरफान खान आज 54 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह गए। उनकी आखिरी फिल्म अंग्रेज़ी मीडियम लोगों को बेहद पसंद आई थी। वहीं दिलचस्प है कि 1988 में उनकी पहली फिल्म सलाम बॉम्बे से इरफान का रोल ही काट दिया गया था।

    एक रिपोर्ट की मानें तो इस घटना के बाद इरफान खान रात भर बैठ कर रोए थे। मीरा नायर की इस फिल्म में इरफान खान ने एक चिट्ठी लिखने वाले का किरदार निभाया था।

    इरफान का करियर काफी उतार चढ़ाव भरा रहा। और देखा जाए तो उनकी फिल्मों को बॉक्स ऑफिस पर वैसी सफलता कभी नहीं मिली जैसी उन्हें चाहिए थी। लेकिन इरफान को एक चीज़ जो हमेशा मिली, वो था दर्शकों का प्यार।

    अपने 32 साल के करियर में इरफान खान ने लगभग 85 फिल्में की। इन फिल्मों की बॉक्स ऑफिस पर कुल कमाई जोड़ी जाए तो लगभग 1000 करोड़ तक की ही होगी। लेकिन इरफान ने हर फिल्म के साथ करोड़ों दिल जीते।

    यहां देखिए इरफान खान की पूरी फिल्मोग्राफी -

     यूं हुआ था डेब्यू

    यूं हुआ था डेब्यू

    इरफान खान ने डेब्यू किया 1988 में मीरा नायर की फिल्म सलाम बॉम्बे के साथ। इस फिल्म में इरफान चिट्ठी लिखने वाले एक आदमी बने थे। लेकिन ऐन वक्त पर फिल्म से उनका सीन काट दिया गया था। इसके बाद इरफान खान खूब रोए थे। शायद रात भर रोते रहे थे।

    हटके फिल्में

    हटके फिल्में

    इरफान का पूरा करियर बिल्कुल अलग तरह की फिल्मों से बना है। 1989 में उन्होंने कमला की मौत नाम की फिल्म की। बासु चटर्जी की इस फिल्म में पंकज कपूर, सुप्रिया पाठक, रूपा गांगुली और मृणाल कुलकर्णी मुख्य भूमिकाओं में थे।

    मौत से तरक्की

    मौत से तरक्की

    दिलचस्प है कि कमला की मौत के बाद 1990 में इरफान खान ने एक डॉक्टर की मौत में काम किया। इस फिल्म को डायरेक्ट किया था तपन सिन्हा ने। फिल्म में पंकज कपूर और शबाना आज़मी मुख्य भूमिकाओं में थे।

    फीके साल

    फीके साल

    साल 1991 से लेकर 1999 तक इरफान ने काफी संघर्ष किया। इस बीच उन्होंने टीवी पर काम किया। साथ ही करामाती कोट, द क्लाउड, बड़ा दिन जैसी फिल्मों में काम किया।

    2000 में वापसी

    2000 में वापसी

    साल 2000 में इरफान खान ने वापसी की घात के साथ। इस फिल्म में मनोज बाजपेयी और तबू मुख्य भूमिकाओं में थे। हालांकि फिल्म बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप ही थी लेकिन फिल्म ने लगभग 2.32 करोड़ की कमाई की थी।

    संघर्ष का फल

    संघर्ष का फल

    2001 में इरफान खान ब्रिटिश फिल्म द वॉरियर में मुख्य भूमिका में नज़र आए। आसिफ कपाड़िया की इस फिल्म से इरफान को काफी प्रशंसा मिली और फिल्म ब्रिटेन की तरफ से ऑस्कर में नामांकित हुई। इसी साल आई कसूर ने बॉक्स ऑफिस पर 5 करोड़ की कमाई की।

    आगे बढ़ा कारवां

    आगे बढ़ा कारवां

    2002 में इरफान खान ने काली सलवार, गुनाह, हाथी का अंडा जैसी फिल्में की। गुनाह भी बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप थी और इसने लगभग 4 करोड़ की कमाई की थी।

    शेर आया शेर

    शेर आया शेर

    2003 में इरफान खान, तिग्मांशु धूलिया की फिल्म हासिल में खलनायक की भूमिका में दिखाई दिए। इस फिल्म ने उन्हें बॉलीवुड में एक सशक्त पहचान दी। हालांकि बॉक्स ऑफिस पर ये फिल्म भी बुरी तरह फ्लॉप हुई। इसी साल विशाल भारद्वाज की मकबूल से इरफान ने अपनी एक अलग पहचान बना ली।

    फिर हुई थकान

    फिर हुई थकान

    2004 में इरफान के हाथ ज़्यादा कुछ नहीं लगा। उन्होंने आन मेन एट वर्क, रोड टू लद्दाख और चरस जैसी फिल्में कीं। कुल मिलाकर इस साल इरफान ने 13 - 14 करोड़ का बॉक्स ऑफिस दिया और उनकी सभी फिल्में फ्लॉप थीं।

    रोमांस में भी डाला हाथ

    रोमांस में भी डाला हाथ

    साल 2005 में इरफान खान रोमांस की विधा भी ट्राई करते दिखे। इस साल उन्होंने रोग, चेहरा, चॉकलेट, साढ़े सात फेरे जैसी फिल्में की। ये सभी फिल्में 1 - 2 करोड़ कमाकर बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप रहीं।

    साउथ सिनेमा

    साउथ सिनेमा

    2006 में इरफान ने तेलुगू फिल्म साईनीकुडू के साथ साउथ सिनेमा में भी अपना नाम कमाया। हिंदी में उन्होंने यूं होता तो क्या होता, द फिल्म, द किलर, डेडलाइन - 24 घंटे जैसी फिल्में की। इनमें से कोई भी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर नहीं टिकी।

    पहली सफल फिल्म

    पहली सफल फिल्म

    साल 2007 में इरफान खान ने बॉक्स ऑफिस पर पहली सेमी हिट फिल्म दी। ये फिल्म थी अनुराग बसु की लाइफ इन अ मेट्रो। इस फिल्म ने लगभग 15 करोड़ की कमाई की थी। वहीं इस साल, इरफान खान की दूसरी उपलब्धि थी - द नेमसेक। मीरा नायर की इस फिल्म ने उन्हें इंटरनेशनल लेवेल पर स्थापित कर दिया।

    कॉमर्शियल फिल्मों में जगह

    कॉमर्शियल फिल्मों में जगह

    साल 2008 में इरफान ने कुछ अच्छी कॉमर्शियल फिल्मों में अपनी जगह बनाई। इनमें संडे, क्रेज़ी 4 और दिल कबड्डी जैसी फिल्में शामिल थीं। इसके अलावा वो स्लमडॉग मिलियनेयर में भी दिखाई दिए।

    पहली हिट फिल्म

    पहली हिट फिल्म

    2009 में इरफान खान ने बिल्लू नाम की फिल्म के साथ सबका दिल जीता जिसमें वो एक नाई की भूमिका में थे। फिल्म में शाहरूख खान भी मेहमान कलाकार थे। वहीं इरफान ने न्यूयॉर्क से बॉलीवुड में अपनी मज़बूत जगह बनाई। ये इरफान की दूसरी हिट फिल्म थी जिसने 45 करोड़ की कमाई की।

    फिर से खाली

    फिर से खाली

    2010 में वापस इरफान खान परदे से लगभग गायब रहे। वो राईट या रॉन्ग, नॉक आउट और हिस्स में दिखाई दिए। लेकिन इन फिल्मों में याद रखने जैसा कुछ भी नहीं था।

    हुआ धमाका

    हुआ धमाका

    2011 में इरफान ने लीक से हटकर फिल्में की। इनमें ये साली ज़िंदगी और 7 खून माफ प्रमुख थी। 7 खून माफ में वो प्रियंका चोपड़ा के पति की भूमिका में नज़र आए और उनका ये किरदार बेहद पसंद किया गया।

    पहला नेशनल अवार्ड

    पहला नेशनल अवार्ड

    2012 में आई पान सिंह तोमर के लिए इरफान खान को उनका पहला नेशनल अवार्ड मिला। तिग्मांशु धूलिया की इस फिल्म में इरफान खान एक एथलीट की भूमिका में थे जो अभावों के चलते एक बागी बन जाता है। इसी साल, इरफान लाइफ ऑफ पाई और अंग्रेज़ी फिल्म अमेज़िंग स्पाईडरमैन में भी दिखाई दिए। पान सिंह तोमर भी 14 करोड़ कमाकर सफल फिल्म बनी।

    अवार्ड्स की लाइन

    अवार्ड्स की लाइन

    2013 में आई द लंचबॉक्स ने अवार्ड्स की लाइन लगा दी थी। फिल्म ने अपनी लोकप्रियता के कारण 20 करोड़ की कमाई भी की थी और बॉक्स ऑफिस पर सफल थी। इसी साल आई साहेब बीवी और गैंगस्टर रिटर्न्स। फिल्म ने 21 करोड़ की कमाई की थी।

    फिर से छोड़ी छाप

    फिर से छोड़ी छाप

    2014 में इरफान खान हैदर में एक बहुत ही सशक्त रोल में नज़र आए और एक बार फिर सबका दिल जीत गए। वहीं इसी साल वो गुंडे में भी नज़र आए। फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 73 करोड़ की कमाई की थी।

    शानदार साल

    शानदार साल

    2015 इरफान खान के करियर का बहुत ही शानदार साल रहा। इस साल की शुरूआत हुई पीकू के साथ। दीपिका और इरफान की केमिस्ट्री ने इस फिल्म में चार चांद लगा दिए। वहीं अमिताभ बच्चन के साथ उनकी नोक झोंक फिल्म की यूएसपी बनी। इस फिल्म ने 78 करोड़ की कमाई की। इसके अलावा जुरासिक वर्ल्ड में इरफान मुख्य भूमिका में दिखे। वहीं तलवार और जज़्बा ने भी 30 और 22 करोड़ की कमाई की।

     जीता बच्चों का दिल

    जीता बच्चों का दिल

    2016 में इरफान खान ने द जंगल बुक में बलू की आवाज़ के साथ बच्चों का दिल जीता। फिल्म ने 188 करोड़ की कमाई की। वहीं इरफान खान ने मदारी के साथ एक बार भी समाज को झकझोरने वाली फिल्म दर्शकों के सामने रखी।

    अवार्ड्स भी, बॉक्स ऑफिस भी

    अवार्ड्स भी, बॉक्स ऑफिस भी

    2017 में हिंदी मीडियम के साथ इरफान खान ने अवार्ड्स और बॉक्स ऑफिस दोनों अपने नाम कर लिए। फिल्म ने भारत में 69 और वर्ल्डवाइड 339 करोड़ की कमाई की। ये फिल्म सुपरहिट थी। इस साल इरफान करीब करीब सिंगल में भी दिखाई दिए।

    इलाज के दौरान

    इलाज के दौरान

    2018 में इरफान की दो फिल्में रिलीज़ हुईं - ब्लैकमेल और कारवां। वहीं उनकी अंग्रेज़ी फिल्म पज़ल भी रिलीज़ हुई। इन सभी फिल्मों की रिलीज़ के दौरान, इरफान लंदन में कैंसर का इलाज करवा रहे थे।

    खत्म हुआ कारवां

    खत्म हुआ कारवां

    2020 में अंग्रेज़ी मीडियम के रिलीज़ होने के साथ ही इरफान खान का सफर खत्म हो गया। इस फिल्म को उस दिन रिलीज़ किया गया जिस दिन कोरोना के कारण देश भर के थियेटर बंद किए जा रहे थे। फिर भी फिल्म ने 10 करोड़ की कमाई की।

    English summary
    Irrfan Khan left the world at 54. Take a look at his filmography and box office of 90 films spanning over 32 years.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X