For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    FLASHBACK: मेरी फिल्में अच्छी होती है लेकिन डायरेक्टर बेवकूफ निकल जाता है - सलमान खान

    By Staff
    |

    सलमान खान के पुराने दिन तो सबको याद ही होंगे जब ना वो किसी की सुनते हैं और ना ही किसी की परवाह करते थे। उस समय के सलमान खान को अक्खड़ और बद्तमीज़ भी कहा जाता है। अब रेडिफ पर सलमान खान का एक पुराना इंटरव्यू वायरल हो रहा है। और इस इंटरव्यू में सलमान खान का वही पुराना रूप दिखाई दिए। इस दौरान सलमान खान कुछ ज़्यादा ही बेपरवाह थे।

    ये इंटरव्यू 1998 का है। इस साल सलमान ने लगातार चार बढ़िया फिल्में दी थीं - प्यार किया तो डरना क्या, जब प्यार किसी से होता है, बंधन और कुछ कुछ होता है। सलमान खान इस समय अपने करियर की बुलंदी पर पहुंच चुके थे। देखिए इंटरव्यू के कुछ अंश -

    अच्छी बॉडी है तो दिखाऊंगा

    अच्छी बॉडी है तो दिखाऊंगा

    अपनी बॉडी के बारे में बात करते हुए सलमान खान ने कहा कि इतनी अच्छी बॉडी है तो मुझे लगा कि छिपाकर क्यों रखूं। इस दौरान ही सलमान खान ने शर्टलेस होने का प्रचलन शुरू किया था।

    शर्ट नहीं पहनता

    शर्ट नहीं पहनता

    सलमान खान ने बताया कि वो कभी शर्ट नहीं पहनते। घर पर भी ज़्यादातर समय बिना शर्ट के ही घूमते रहते हैं। कार में भी जब ज़्यादा गर्मी लगी तो शर्ट उतारकर रख देते हैं। ये नहीं सोचते कि लोग क्या सोचेंगे।

    अक्खड़ कहो या बद्तमीज़

    अक्खड़ कहो या बद्तमीज़

    सलमान ने कहा, मुझे अक्खड़ कहो, बद्तमीज़ कहो या जो मन आए कह लो। मैं ऐसा ही हूं। मुझे ज़्यादातर प्रेस बद्तमीज़ कहती है। वो लोग चाहते हैं कि वो लोग जो भी मेरे बारे में लिखें, मैं उसे पढ़ लूं और चुप हो जाऊं।

    आपको कैसा लगेगा

    आपको कैसा लगेगा

    सलमान का कहना था कि अगर कोई आपके परिवार के बारे में अनाप शनाप बातें लिखेगा तो आपको कैसा लगेगा? क्या आप चुपचाप वो सारी बातें सुन लेंगे? अगर किसी को अपनी मैगज़ीन बेचनी है तो इसका मतलब ये नहीं है कि मैं उसे मुझे बेचने की परमिशन दे दूं।

    क्या इतना बुरा हूं?

    क्या इतना बुरा हूं?

    सलमान का सीधा सवाल था कि अगर मैं इतना बुरा हूं तो लोग मुझसे इतना प्यार क्यों करते हैं? बच्चे मेरे पास ऑटोग्राफ लेने के लिए भागे चले आते हैं। मैं सच में तो किसी विलेन की तरह बर्ताव करता नहीं हूं। मुझसे केवल वो लोग डरते हैं जिन्होंने मेरे बुरे दिनों में मेरे बारे में बहुत खराब लिखा है।

    बेकार था

    बेकार था

    मुझे हमेशा मेरे घर में सबसे बेकार समझा जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। मैं काफी अच्छा काम कर चुका हूं। मैंने कई सारी हिट फिल्में दी हैं। मैंने जितनी फ्लॉप फिल्में भी दी हैं वो बाकियों की फ्लॉप की संख्या से बहुत ही कम है।

    मैं साबित कर चुका

    मैं साबित कर चुका

    अब मुझे किसी को कुछ साबित करने की ज़रूरत नहीं है। मैंने हम आपके हैं कौन, करण - अर्जुन, जुड़वा जैसी हिट फिल्में दी हैं और इन फिल्मों से मैं अपने काम को साबित कर चुका हूं। अब मेरी कीमत लोग आंक चुके हैं।

    बहुत गलत काम किया

    बहुत गलत काम किया

    मैं मानता हूं कि मैंने बहुत गलत फिल्में साईन की हैं। मुझे पैसे बनाने की बहुत जल्दी थी। मेरी उम्र के किसी भी लड़के को अगर इतने पैसों के बीच रख दिया जाएगा तो वो यही करेगा। मैं भी इसी में भटक गया।

    पैसे की ज़रूरत थी

    पैसे की ज़रूरत थी

    मेरे अपने अरमान थे। मुझे पैसे चाहिए थे, घर खरीदना था। वो मेरे लिए बहुत ज़रूरी था। मेरे पास कुछ ऐसा होता जिसे मैं अपना कह सकता हूं। लेकिन मैंने बेवकूफी कर दी। अगर फिल्में करने की बजाय मैं स्टार शो करता तो बेहतर रहता।

    सब बेवकूफ हैं

    सब बेवकूफ हैं

    मैंने जितनी फिल्में साईन की सबकी स्क्रिप्ट अच्छी थी। मेरे पापा लेखक हैं और मुझे इतनी समझ है। लेकिन प्रोड्यूसर पैसे बचाने के चक्कर में और डायरेक्टर इतना बेवकूफ होता था कि फिल्में खराब हो जाती हैं।

    उस दौरान सलमान ने अपनी सारी फ्लॉप फिल्मों का ठीकरा अपने डायरेक्टर पर फोड़ा था। उनका कहना था कि इन डायरेक्टर्स को पता ही नहीं है कि एक अच्छी फिल्म को कैसे बनाते हैं। मैं किसी का नाम नहीं लेना चाहता क्योंकि बहुत लोगों को बुरा लग जाएगा लेकिन इन लोगों के अंदर फिल्म बनाने वाली कला ही नहीं है।

    English summary
    Salman Khan's younger self was at times rude, blunt yet unapologetic, suggests an old interview at rediff going viral on the internet.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X