»   » बदल गया Bollywood- अब कुछ कुछ नहीं होता..किक लगती है

बदल गया Bollywood- अब कुछ कुछ नहीं होता..किक लगती है

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

परिवर्तन प्रकृति का नियम है..अब ये कोई अमिताभ बच्चन का गुरुकुल तो है नहीं जहां पर परिवर्तन के लिए कोई जगह ना हो। हालांकि अमिताभ के गुरुकुल में आकर शाहरुख खान ने ही परिवर्तन की आंधी चलाई थी लेकिन अब ये प्यार भरी आंधी कुछ अलग ही रुप ले रही है। धीरे धीरे ये बदलाव इस कदर सिनेमा को बदल रहा है कि आज दिल में इश्क नहीं होता बल्कि किल दिल हो रहा है।

आजकल हीरो के दिल में कुछ कुछ नहीं होता बल्कि वो तो गुंडे बनकर तेवर दिखा रहे हैं और तो और दर्शकों को भी इससे किक लग रही है। बॉक्स ऑफिस पर करोड़ों की कमाई करके ये फिल्में रिकॉर्ड पे रिकॉर्ड बना रही हैं..धूम मचा रही हैं। दिलों में बैंग बैंग हो रही है और लगातार दर्शक इस बैंग बैंग से एंटरटेन हो रहे हैं। इक्के दुक्के रंग रसिया आते हैं और जाते हैं..2 स्टेट्स के लोगों के बीच भी प्यार होता है लेकिन सिंघम की दहाड़ इस इश्क की आह को दबा देती है।

हैप्पी न्यू ईयर जैसे खूबसूरत मौके पर भी लोग पीके टुन्न होते हैं..आखिर कहां गया वो प्यार..वो इश्क..वो मोहब्बत..। साल 2014 में देखिये कितना बदल गया बॉलीवुड..राहुल भी बदल गया..सिर्फ नाम ही सुना सुना सा रह गया..

डेढ इश्किया

डेढ इश्किया

नाम में भले ही इश्क हो लेकिन फिल्म में इश्क नहीं बल्कि कुछ अलग ही माहौल था। माधुरी दीक्षित और हुमा कुरैशी ने दिखाया कि आजकल का इश्क डेढ शाना हो गया है। ये पहले की तरह सच्चा और साफ दिल का नहीं रह गया।

गुंडे

गुंडे

गुंडे फिल्म में भी इश्क तो था लेकिन फिल्म एक एक्शन बेस्ड फिल्म थी जिसमें इश्क को साइड कर दिया गया। 14 फरवरी को रिलीज हुई ये फिल्म बॉलीवुड की रोमांटिक फिल्मों के आस पास भी नहीं भटकी।

रिवॉल्वर रानी

रिवॉल्वर रानी

कंगना रनौत तो बॉक्स ऑफिस की क्वीन ही बन बैठी हैं। उनकी अलग अलग विषयों पर आधारित फिल्में दर्शकों को काफी पसंद आती हैं। लेकिन ये कहना गलत नहीं होगा कि कभी बॉलीवुड में हिरोइनें हीरो के दिलों की रानी हुआ करती थीं और आज उन्हीं के हाथों में रिवॉल्वर और लाठी थमा दी गयी है।

हीरोपंती

हीरोपंती

हीरो को हीरोगीरी करने से कौन रोकता है लेकिन हीरो बिना हिरोइन हमेशा अधूरा ही रहा है। हीरोपंती फिल्म में टाइगर श्रॉफ ने रोमांस के नाम पर कुछ ऐसा दिखाया जो कि दर्शकों के दिल को छू ही नहीं सका। हां उनके बेहतरीन एक्शन सीक्वेस जरुर दर्शकों को सीट पर जगाते रहे।

एक विलेन

एक विलेन

मोहित सूरी ने कोशिश की विलेन की आशिकी को दिखाने की और इस दर्द भरी आशिकी ने दर्शकों को रुलाया भी..इंप्रेस भी किया लेकिन दिल को छू लेने वाला प्यार..रुह में उतर जाने वाला एहसास अछूता रह गया।

सिंघम रिटर्न्स

सिंघम रिटर्न्स

अजय देवगन तो हिम्मतवाले हैं..वो सिंघम जैसी ही फिल्में कर सकते हैं या फिर सत्याग्रह पर उतर आते हैं। जब उन्हें सच्चा प्यार मिलता है तो ओमकारा बन वो प्यार की जान ही ले लेते है। इनसे तो इश्क की उम्मीद करना ही गलत है।

बैंग बैंग

बैंग बैंग

प्यार में एक्शन और डांस ही जरुरी नहीं होता। प्यार में एहसास का होना जरुरी होता है। पर अब तो बैंग बैंग ही करके प्यार जताया जाता है। जो आपके लिये बनाया गया है उससे मिलकर दिल में घंटी नहीं बजती बल्कि बैंग बैंग होती है। वाह रे बदलाव।

किक

किक

ये एक सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा बन चुका है बॉलीवुड में कि जब तक दर्शकों को सुपरस्टार के नाम की किक ना लगे तो सिनेमाहॉल की तरफ उनके कदम ही नहीं उठते। सलमान भी अब कहां कहां अब दोस्ती की कैप पहनाते हैं..अब तो वो किक लगाते हैं। जय हो बॉलीवुड!

हैप्पी न्यू ईयर

हैप्पी न्यू ईयर

बॉलीवुड के किंग खान रोमांस के किंग शाहरुख खान भी अब तो बाजीगर बनकर बिना किसी डर दिल नहीं चुराते। उनके किरदार अब दिल को पागल नहीं करते..कुछ कुछ नहीं होता..बस चेन्नई एक्सप्रेस में बैठते हैं और लुंगाी डांस करते हुए हैप्पी न्यू ईयर मनाते हैं। एक्शन के तड़के के साथ। सच में अब तक कुछ कुछ बिल्कुल समझ नहीं आता।

हैदर

हैदर

इश्क विश्क से शुरुआत करके साड़ी के फॉल तक में उलझे शाहिद। और अब देखो हैदर बनकर हैलो हैलो कर रहे हैं..। जब वी मेट के बाद विवाह किया तो हिट थे..तो अब कहां गये।

पीके

पीके

दिल चुराया..दिल ने जो चाहा वो किया लेकिन अब किसकी तलाश में उलझे हैं कि सिर्फ धूम मचाने के लिए पीके बॉक्स ऑफिस पर उतर रहे हैं।

English summary
Shahrukh Khan has given Bollywood most romantic movies and character to Bollywood. Now Bollywood has changed a lot. In 2014 Bollywood got many action movies and now Bollywood left with emotionless romance and love.
Please Wait while comments are loading...