»   » फिल्म बनीं..लेकिन इतनी BOLD कि...दर्शक से पहले इन्होंने कहा NO

फिल्म बनीं..लेकिन इतनी BOLD कि...दर्शक से पहले इन्होंने कहा NO

By: shivani verma
Subscribe to Filmibeat Hindi

बॉलीवुड में हर साल काफी फिल्में बनाई जाती हैं। कुछ फिल्में रिलीज़ होती हैं और लोगों को कुछ पसंद आती हैं तो कुछ नहीं आती। इसी बीच कुछ फिल्में ऐसी भी होती हैं जो बनाई तो ज़रूर जाती हैं लेकिन उसके कंटेंट की वजह से उन्हें रिलीज़ नहीं किया जा सकता।

ऐसी बहुत सी फिल्में हैं जो अपने बोल्ड कंटेंट के कारण रिलीज़ नहीं हो पाई हैं। हम आपको उन फिल्मों की लिस्ट दिखाने जा रहे हैं जिन्हें सेंसर बोर्ड तक पास नहीं कर सका।

कामसूत्र-अ टेल ऑफ लव

कामसूत्र-अ टेल ऑफ लव

बॉलीवुड डायरैक्टर मीरा नायर की यह फिल्म 'कामसूत्र' पर बेस्ड थी। फिल्म में काफी हद तक खुलापन था। कई विवादों के बाद सेंसर ने इसे बैन कर दिया था।

 ब्लैक फ्राइडे

ब्लैक फ्राइडे

राइटर एस हुसैन जैदी की किताब पर बनी फिल्म 'ब्लैक फ्राइडे' अनुराग कश्यप की दूसरी फ़िल्म थी, जिसे सेंसर बोर्ड ने बैन किया था।

परजानिया

परजानिया

यह फिल्म गुजरात दंगों पर बेस्ड थी। कुछ लोगों ने इसे सराहा तो कई ने इसे क्रिटिसाइज भी किया। लेकिन गुजरात दंगे जैसे सेंसेटिव सब्जेक्टर कीवजह से इस फ़िल्म को गुजरात में बैन कर दिया गया था।

पांच

पांच

अनुराग कश्यप और सेंसर बोर्ड की दुश्मनी मानों काफी पुरानी है। उनकी फ़िल्म 'पांच' जोशी अभ्यंकर के सीरियल मर्डर पर बेस्ड थी। सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को इसलिए पास नहीं किया क्योंकि इसमें हिंसा, अश्लील लैंग्वेज और ड्रग्स की लत को दिखाया गया था।

द पिंक मिरर

द पिंक मिरर

श्रीधर रंगायन की फिल्म 'द पिंक मिरर' सेंसर बोर्ड को इसलिए पसंद नहीं आई क्योंकि इसमें समलैंगिक लोगों के हितों की बात बताई गई है। दुनिया के दूसरे फेस्टिवल्स में इस फ़िल्म को सराहा गया था लेकिन भारत में सेंसर बोर्ड ने इसे बैन कर दिया था।

फायर

फायर

बॉलीवुड डायरैक्टर दीपा मेहता की फिल्म 'फायर' में हिंदू फैमिली की दो सिस्टर-इन-लॉ को लेस्बियन बताया गया है। फिल्म का शिवसेना समेत कई हिंदू संगठनों ने काफी विरोध किया था।काफी विवाद के बाद आखिरकार सेंसर ने इसे बैन कर दिया।

उर्फ़ प्रोफेसर

उर्फ़ प्रोफेसर

एक और फ़िल्म जो सेंसर बोर्ड के चंगुल से नहीं निकल पायी थी निखिल आडवाणी की उर्फ़ प्रोफेसर। इसमें मनोज पाहवा, अंतरा माली और शरमन जोशी जैसे सितारे थे। लेकिन अश्लील दृश्य और भाषा होने के कारण सेंसर बोर्ड ने इसे पास नहीं किया।

Sins

Sins

सेंसर बोर्ड को भी इस फ़िल्म के न्यूड सिन्स, परेशानी थी और इसीलिए उन्होंने Sins को बैन कर दिया।

बैंडिट क्वीन

बैंडिट क्वीन

मशहूर निर्माता-निर्देशक शेखर कपूर की 1994 में आई इस फिल्म को उसके बोल्ड दृश्यों, गाली भरे संवादों के कारण प्रतिबंध का सामना करना पड़ा। फिल्म के तथ्यों को लेकर फूलन देवी ने भी शिकायत दर्ज कराई थी।

English summary
Bollywood bold movies banned by censor board.
Please Wait while comments are loading...