For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    किसने दिया लता मंगेशकर को पहला मौका? जब सुर कोकिला की तरक्की से चिड़कर उन्हें मारने की गई कोशिश!

    |

    स्वर कोकिला लता मंगेशकर आज अपना 91वां जन्मदिन मना रही हैं। 28 सितंबर 1991 में इंदौर के मशहूर संगीतकार दीनानाथ मंगेशकर के घर लता का जन्म हुआ। विश्वपटल पर भारतीय संगीत को पहचान दिलवाने वाली लता मंगेशकर ने अपने लंबे करियर में 36 भाषाओं में 50 हजार से भी ज्यादा गाने गाए हैं। लता मंगेशकर जिनका संगीत इंडस्ड्री में सबसे ऊंचा दर्जा है और जिन्हें संगीत की दुनिया में भगवान की तरह पूजा जाता है। उन्हें एक बार जहर देकर मारने की कोशिश की गई थी।

    अलविदा एस पी बालासुब्रमण्यम: 40 हजार से ज्यादा गाने गाए, जिन्हें कहा जाता था 'सलमान खान की आवाज'

    लता मंगेशकर को जब दुनिया में पहचान मिलने लगी तो उनसे ईर्ष्या करने वालों ने उनकी आवाज छीनने की कोशिश की। वहीं सभी बहन भाईयों में लता सबसे बड़ी थीं। घर में पिता के गुजर जाने के बाद सारी जिम्मेदारियां लता मंगेश्कर पर आ गईं। वह इन जिम्मेदारियों पर ऐसा धंसती गईं कि उन्हें कभी खुद के लिए फर्सत ही नहीं मिली। यही इकलौता कारण था कि लता मंगेश्कर ने शादी तक नहीं की।

    लता खुद बताती हैं कि शादी का ख्याल उनके मन में कभी आया भी तो वह इस पर अमल नहीं कर पाईं। वह छोटी सी उम्र में काम करने लगी थीं और उन्हें सुरीली आवाज के चलते खूब काम मिला करता था। वह सोचती थीं कि पहले छोटे बहन भाईयों को व्यवस्थित कर दूं। इसीलिए लता मंगेशकर ने पहले छोटे बहन भाईयों की शादी ब्याह किया और फिर बच्चे हो गए तो उन्हें संभालने की जिम्मेदारी आ गई। ऐसे ही लता मंगेशकर का सफर जारी रहा और वह खुद के लिए समय ही नहीं निकाल पाईं।

    जब जहर देने की की गई कोशिश

    जब जहर देने की की गई कोशिश

    साल 1962 की बात है जब लता कोकिला को जान से मारने की कोशिश की गई थी। लेखिका पद्मा सचदेव ने अपनी किताब 'ऐसा कहां से लाऊं' में इस दर्दनाक किस्से का जिक्र किया है। करीब 33 साल की उम्र उस दौरान लता मंगेशकर की रही होगी, इस दौरान वह अपने करियर की सफलताओं को चूम रही थी। इसी से ईर्ष्या करने वालों ने उन्हें धीमा जहर देने की कोशिश की गई। पद्मा सचदेव की किताब में कहा गया कि एक दिन अचानक लता मंगेशकर के पेट में दर्द हुआ और वह कई बार उल्टियां करने लगीं। अस्पताल ले जाया गया और करीब 3 महीने तक वह बेड रेस्ट पर रही। इस स्लो प्वॉइज के चलते सुर कोकिला कितनी कमजोर हो गई थीं कि वह चल फिर भी नहीं पाती थीं। इस मुश्किल समय में उनका गानों से नाता भी छूट गया था।

    ऐसा क्यों हुआ, आजतक खुलासा नहीं हो पाया

    ऐसा क्यों हुआ, आजतक खुलासा नहीं हो पाया

    लता मंगेशकर की आवाज और उनकी जान कौन लेना चाहता था, इसका खुलासा तो आजतक नहीं हो पाया। लेकिन बताया जाने लगा कि लता मंगेशकर के घर का कुक उस घटना के बाद हमेशा के लिए गायब हो गया था।

    English summary
    birthday: Lata Mangeshkar first song and when Lata was given slow poison, read facts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X