India
    For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    बप्पी लहरी निधन- 5000 गाने, वर्ल्ड रिकॉर्ड, डिस्को किंग बनने का सफर, परिवार के साथ आखिरी तस्वीरें

    |

    डिस्को किंग संगीतकार गायक बप्पी लहरी का बुधवार को मुंबई के अस्पताल में निधन हो गया। 69 साल की उम्र में बप्पी लहरी कई स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित थे। काफी लंबे समय से बप्पी लहरी के कई बीमारी का इलाज चल रहा था। 27 नवंबर 1952 को कोलकाता में बप्पी लहरी का जन्म हुआ।

    संगीत की दुनिया में डिस्को संगीत को लाने का श्रेय बप्पी लहरी को ही जाता है। 70 से 80 के दशक के बीच हिंदी फिल्मों में जोश भरे संगीत का दूसरा नाम बप्पी लहरी रहा करते थे। फिल्म रिलीज हो और उसमें बप्पी दादा का एक तड़का गाना ना हो भला ऐसा कैसे हो सकता है। संगीत से बप्पी लहरी की पहचान 3 साल की उम्र से हो गई थी। महज 3 से 4 साल की उम्र में उन्होंने तबला बजाने में अपनी दिलचस्पी दिखाई।

    17 साल की उम्र में संगीतकार-गीतकार बनने का फैसला

    17 साल की उम्र में संगीतकार-गीतकार बनने का फैसला

    पिता अपरेश ने ये देखकर बेटे बप्पी को संगीत से और अधिक परिचय करवाया। बचपन से संगीत के प्रति लगाव जवानी में उनका प्यार बन गया। 17 साल की उम्र में उन्होंने यह फैसला कर लिया कि संगीत उनकी दुनिया है। इसी में वह अपना करियर का सफर आगे बढ़ाना चाहते हैं। हैरानी इस बात की है कि संंगीत के लिए उन्होंने कभी कोई भाषा नहीं चुनी।

    5000 से अधिक गाने कंपोज

    5000 से अधिक गाने कंपोज

    हिंदी, बंगाली, तमिल, तेलुगू, गुजराती, मराठी, पंजाबी और भोजपुरी के साथ अंग्रेजी और बांग्लादेशी गानों को भी बप्पी लहरी ने कंंपोज किया। साथ ही कई गानों को अपनी तड़कती आवाज भी दी। 48 साल के संगीत के करियर में बप्पी लहरी ने 5000 से अधिक गाने कंपोज किए। 500 से अधिक फिल्मों में संगीत दिया। साल 1973 में नन्हा शिकारी फिल्म में उन्होंने पहली बार संगीत दिया।

    बप्पी लहरी ने शुरुआत में ही बंगाली फिल्मों में गाना

    बप्पी लहरी ने शुरुआत में ही बंगाली फिल्मों में गाना

    माता-पिता से संगीत की शिक्षा ली। पिता अपरेश बंगाली गायक थे। मां बांसुरी भी संगीतकार थीं। ऐसे में बप्पी लहरी ने शुरुआत में ही बंगाली फिल्मों में गाना शुरू कर दिया। साल 1975 में बप्पी दादा ने रफी और किशोर कुमार के साथ जख्मी फिल्म में गाना गाया। नए जमाने में भी बप्पी लहरी के संगीत का जादू फिल्मों पर चला है।

    बप्पी लहरी के सदाबहार गाने

    बप्पी लहरी के सदाबहार गाने

    गुंडे फिल्म के लिए तूने मारी एंट्री, डंटी पिक्चर का गाना उह ला ला में बप्पी दा की आवाज ही सुनाई देती है। जिसने इस गाने को लोगों की जुबान पर चढ़ा दिया। इसके साथ बप्पी लहरी के गानों की लंबी लिस्ट में आई एम डिस्को डांसर,याद आ रहा है मेरा प्यार, रात बाकी बात बाकी, तम्मा तम्मा लोगो, इंतेहा हो गई इंतजार, ताकी ओ ताकी,जलता है जिया मेरा भीगी भीगी रातों में, एक आंख मारू तो,नैनों में सपना,प्यार मांगा है तुम्ही से, आदि कई हिट सांग शामिल है।

    2014 में बीजेपी से लोकसभा चुनाव में मिली हार

    2014 में बीजेपी से लोकसभा चुनाव में मिली हार

    बप्पी लहरी की सबसे बड़ी खूबी उनकी अलग आवाज रही है। जो कि बच्चा-बच्चा तक पहचान जाता था। इतना ही नहीं एक समय ऐसा आया जब उन्होंने राजनीति में भी जाने की सोच बनाई। साल 2014 में बप्पी लहरी ने बीजेपी के टिकट से लोकसभा चुनाव लड़ा और वह हार गए।

    गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड,माइकल जैक्सन को बुलाया

    गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड,माइकल जैक्सन को बुलाया

    संगीत में एक तरफ जहां बप्पी लहरी जादू ठा रहा था वहीं भारतीय संगीत के ऐसे संगीतकार हैं जिन्हें माइकल जैक्सन को मुंबई साल 1996 में लाइव शो में मुंबई बुलाया था। यहां तक कि कई रिकॅार्ड में बप्पी लहरी के नाम से दर्ज है। उसमें एक गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड भी है कि साल 1986 में उन्होंने 33 फिल्मों में 180 गाने गाए।

    English summary
    bappi lahiri died: Here read bappi lahiri Bollywood song filmography with family photo and more
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X