For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    धमाकेदार सीक्वल और ब्लॉकबस्टर होगा बॉक्स ऑफिस...PROOF ये रहा!

    |

    14 दिसंबर 2001 को कभी खुशी कभी गम से करण जौहर ने एक बार फिर शाहरूख काजोल के राहुल अंजली के अवतार को परदे पर उतारा था। उनकी केमिस्ट्री ने दर्शकों पर वही जादू किया जिसके लिए वो जाने जाते थे।

    इस फिल्म को सफलता के झंडे गाड़ने से कोई रोक नहीं सकता था। कारण थी इसकी बेहतरीन स्टारकास्ट। इस फिल्म की सफलता से उत्साहित होकर करण जौहर ने फिल्म का सीक्वल प्लान किया।

    इस फिल्म की तरह सीक्वल भी खालिस देसी होता। लेकिन सबसे ज़्यादा इंतज़ार होता राहुल अंजली के वापस आने का। करण जौहर के अगर आप भी फैन हैं तो आप भी मानेंगे की फिल्म की स्टोरी कुछ ऐसी होती ...कभी खुशी कभी गम part 2

     ना जुदा होंगे हम

    ना जुदा होंगे हम

    फिल्म का नाम होता ना जुदा होंगे हम। अब ऐसा क्यों होता ये हम तुरंत थोड़ी बता देंगे। लेकिन ऋतिक और करीना के भी छोटे बच्चे ज़रूर होते फिल्म में। बच्चन साहब को कोई बूढ़ा नहीं दिखा सकता पर फिर भी थोड़ा असर दिखता। जया आंटी को आजकल की फिल्में नॉनसेन्स लगती हैं तो वो फिल्म करती या नहीं थोड़ा डाउट है!

    बिज़नेस में झगड़ा - अंबानी की स्टोरी

    बिज़नेस में झगड़ा - अंबानी की स्टोरी

    दोनों भाई कुछ दिन तक तो फैमिली का फील देते पर थोड़े दिन बाद शुरू होती प्रॉब्लम। दोनों का अलग स्टाईल होता बिज़नेस चलाने का और करण जौहर अंबानी भाइयों का रिफरेंस ले लेते।

    ऋतिक करीना का तलाक

    ऋतिक करीना का तलाक

    जिस तरह की हरकतें इस फिल्म में करीना की थी उनको ज़्यादा टाइम तक शायद ही झेल पाता। ऋतिक से थोड़ा इंस्पिरेशन लेकर करण पूजा और रोहन की प्रॉब्लम्स और तलाक को भी स्टोरी का हिस्सा बना सकते थे।

     नैना आ जाती वापस

    नैना आ जाती वापस

    वैसे तो नैना चुपचाप वापस चली गई थी पर वो वापस आ जाती और राहुल और अंजली की लाइफ में होता थोड़ा कन्फ्यूजन। हालांकि करण की फिल्म में ऐसी कोई षड्यंत्र वाला स्टाईल होता, निक्का कोमोलिका टाइप लेकिन फिर कन्फ्यूजन की हाइट तो हो ही सकती थी।

    फ्लॉप बिज़नेस

    फ्लॉप बिज़नेस

    जब दोनों भाई अलग हो जाते तो अलग अलग किसी का बिज़नेस नहीं चलता और दोनों को एक दूसरे की इंपॉरटेंस समझ में आ जाती। दोनों एक दूसरे से माफी मांगते और बैकग्राउंड में बजता ना जुदा होंगे हम।

    और कुछ नहीं केवल रोमांस

    और कुछ नहीं केवल रोमांस

    ऐसा भी हो सकता था कि बिना किसी फैमिली ड्रामा के करण जौहर फिल्म को फैमिली और दो कपल्स के रोमांस पर केंद्रित कर देते और एक बहुत ही खूबसूरत लव स्टोरी बना डालते....जो आपस में कहते...ना जुदा होंगे हम!

    English summary
    Post 16 years of Kabhi Khushi Kabhi Gham, we analyse how would have been the sequel!
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X