जीवनी

शफकत अमानत अली एक पाकिस्तानी क्लासिकल गायक हैं। वह पाकिस्तान रोक बैंड के फूज़न के लीड सिंगर भी हैं। उन्हें साल 2014 में राष्ट्रपति सम्मान से भी नवाजा जा चुका है। 

पृष्ठभूमि 
शफकत अमानत अली का जन्म 26 फ़रवरी 1965 को पाकिस्तान के लाहौर में हुआ था। उनके पिता का नाम उस्ताद अमानत अली खान है। वह पाकिस्तान के पटियाला घराने की नौंवीं पीढ़ी हैं।  वह दिवंगत असद अमानत अली खान के छोटे भाई हैं।  

पढ़ाई 
शफकत ने अपनी शुरुआती पढाई लाहौर से ही पूरी की है।  उन्होंने स्नातक की पढ़ाई लाहौर के सरकारी कॉलेज से सम्पूर्ण की।  उन्हें बचपन से संगीत का शौक था।  उन्होंने महज चार साल की उम्र में ही संगीत को सीखना शुरू कर दिया था। संगीत की उनकी पहली गुरु उनकी दादी थी।  

करियर 
शफ़क़त अली एक बेहद ही सभ्य और ट्रैंड क्लासिकल सिंगर हैं।  वह गायिकी की दुनिया में अपने गानों आँखों के सागर, नींद में आये जैसे गानों से जाने जाते हैं।  शफ़क़त पाकिस्तान के लीडिंग सिंगर्स में से एक हैं।  

शफ़क़त को हिंदी सिनेमा में लेन का श्रेय शंकर महादेवन को जाता हैं।  उन्होंने शफ़क़त को फिल्म कभी अलविदा ना कहना का गाना अलविदा गाने के लिए मनाया था।  जोकि एक सुपरहिट गाना साबित हुआ था।  उसके बाद उन्होंने हेलो,डोर जैसी फिल्मों में आवाज दी। साल 2006 में उन्होंने खुद को बैंड से अलग कर सोलो सिंगर बनकर लोगों के दिलों पर राज करने लगे।  
Buy Movie Tickets