जीवनी
किरण खेर एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री,टीवी कलाकार,होस्ट और एक राजनेता हैं। वर्तमान मेँ यह चण्डीगढ़ संसदीय क्षेत्र से सांसद है।

पृष्ठभूमि 
किरण खेर का जन्म सिख परिवार में 14 जून 1955 को पंजाब के चंडीगड़ में में हुआ था। किरण ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई चंडीगढ़ से की है।  उसके बाद पंजाब यूनिवर्सिटी से डिपार्टमेंट ऑफ़ इंडियन थिएटर में स्नातक किया है।  उनकी दो बहनें व भाई था। उनके भाई अमरदीप की 2003 में एक एक्सीडेंट में नृत्यु हो गयी।  उनकी बहन कंवल ठक्कर कौर हैं जोकि एक अर्जुन अवार्ड विनर बैडमिंटन खिलाडी हैं।  उनकी दूसरी बहन शरणजीत कौर संधु है। 

शादी
किरण कपूर की पहली शादी गौतम बेरी से हुई है, जोकि एक बिजनेस मैन है।  लेकिन उनकी यह शादी कुछ ही साल चली उसके बाद दोनों के बीच तलाक हो गया।  गौतम से तलाक लेने के बाद किरण ने अपने कोस्टार अनुपम खेर से शादी रचा ली। किरण के एक  बेटा भी है-सिकंदर खेर। 

करियर 
किरण खेर ने साल 1973 में पंजाबी फिल्म असर प्यार दा से शुरुआत की थी। उसके बाद उन्होंने फिल्म पेस्टनजी में अपने दुसरे पति के साथ काम किया। किरण का शुरूआती करियर कुछ खास नहीं चला।  

साल 1990 में किरण ने एक बार हिंदी सिनेमा में निर्देशक श्याम बेनेगल की फिल्म सरदारी बेगम से की।  इस फिल्म के लिए उन्हें  स्पेशल जूरी अवार्ड से सम्मनित किया गया। उसके बाद उन्होंने ऋतुपर्णा घोष की बंगाली फिल्म बैरीवाली की, जिसके लिए उन्हें नेशनल अवार्ड से सम्मानित किया गया। उसके बाद एक बार फिर उन्होंने फिल्म देवदास में अपने बेहतरीन अभिनय से दर्शकों और आल्चकों को सोचने पर मजबूर कर दिया। उन्होंने अब तक बॉलीवुड की कई बेहतरीन फिल्मों में अपने सरीखे अभिनय से दर्शकों को अपना दीवाना बना रखा है। 

टीवी करियर 
जब किरण का फ़िल्मी सफर बेहद बुरे दौर से गुजर रहा रहा था, तब उन्होंने छोटे पर्दे का सहारा लिया।   उन्होंने कई टेलीविजन शो में काम किया।  जिनमे प्रतिमा, गुब्बारे, इसी बहाने शामिल हैं।  वह कलर्स चैनल पर इण्डियाज गोट टैलेंट के जज के रूप में भी नज़र अ चुकी हैं। 

प्रसिद्ध फ़िल्में 
वीर-जारा, देवदास,कर्ज,हम ,मै हूँ ना, दोस्ताना, सरदारी बेगम, कभी अलविदा ना कहना, मिलेंगे-मिलेंगे , कमबख्त इश्क,कुर्बान, मिलेंगे-मिलेंगें ,फना ,एहसास , अजब गजब लव,खूबसूरत ,टोटल सियापा। 

किरण खेर  राजीनीति करियर 
किरण खेर कई सालों से सामाजिक कार्यों से जुड़ी हुई हैं। उन्होंने भ्रूण हत्या के खिलाफ चलाए गए अभियान 'लाडली' में अहम भूमिका निभाई थी। इसके साथ वे कैंसर के खिलाफ चलाए गए अभियान 'रोको कैंसर' से भी जुड़ी रहीं। साल 2009 में वे भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो गईं। उन्होंने देश भर में पार्टी के लिए प्रचार भी किया। 2011 में चंडीगढ़ में हुए नगर निगम चुनाव में उन्होंने पार्टी के लिए अहम रोल निभाया। इसी साल उन्होंने अन्ना हजारे द्वारा चलाए गए भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में भी हिस्सा लिया। किरण ने चंडीगढ़ में इस आंदोलन का समर्थन किया। जब अन्ना के आंदोलन के बाद टीम के कुछ सदस्यों ने आम आदमी पार्टी (AAP) बनाने का फैसला किया, तो उन्होंने इस बात का विरोध किया था। साल 2014 में किरण ने भाजपा के नेतृत्व में चंडीगढ़ से सांसद का चुनाव लड़ा था।  जिसमे वह विजयी साबित हुई थीं। 
Buy Movie Tickets
 

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi