Advertisement

इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न की ओपनिंग नाइट फिल्म होगी वुमेन ऑफ माई बिलियन


दिल दहला देने वाली डॉक्यूमेंट्री फिल्म अब एक बार फिर आधिकारिक तौर पर इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न (आईएफएफएम) के 12वें संस्करण में इस साल की ओपनिंग फिल्म में नेतृत्व करने के लिए तैयार है। इससे पहले लंदन इंडियन फिल्म फेस्टिवल (एलआईएफएफ) ने अपने ओपनिंग नाइट गाला में W.O.M.B (वुमेन ऑफ माई बिलियन) नामक उत्कृष्ट डाक्यूमेंट्री फिल्म के साथ अपनी स्क्रीनिंग का प्रीमियर किया गया था।

हाल ही में, लंदन इंडियन फिल्म फेस्टिवल (एलआईएफएफ) ने अपने ओपनिंग नाइट गाला में W.O.M.B (वुमेन ऑफ माई बिलियन) नामक उत्कृष्ट डाक्यूमेंट्री फिल्म के साथ अपनी स्क्रीनिंग का प्रीमियर किया, जिसने वहां मौजूद सभी सिनेप्रेमियों के दिल और दिमाग को छु लिया।


दिल दहला देने वाली डॉक्यूमेंट्री फिल्म अब एक बार फिर आधिकारिक तौर पर इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न (आईएफएफएम) के 12वें संस्करण में इस साल की ओपनिंग फिल्म में नेतृत्व करने के लिए तैयार है। इस वर्ष यह उत्सव शारीरिक और ऑनलाइन दोनों तरह से होगा, जिसमें 12 से 20 अगस्त तक चलने वाले भौतिक उत्सव होंगे, जबकि इसका डिजिटल संस्करण 15 से 30 अगस्त तक चलेगा। इसके अलावा, जबकि पिछले साल फिल्म समारोह कोविड -19 प्रतिबंधों के कारण पूरी तरह से ऑनलाइन हो गया था, इस बार उनके अपने वादे अनुसार शब्दों में, "डबल द फन" होगा क्योंकि यह न केवल एक ऑनलाइन होगा बल्कि एक भौतिक इवेंट भी है।

W.O.M.B 12 अगस्त को IFFM की प्रीमियर रात में भौतिक रूप से प्रदर्शित होगा। डाक्यूमेंट्री फीचर फिल्म निर्देशक अजितेश शर्मा द्वारा तैयार की गई एक असाधारण वास्तविक जीवन की कहानी है।

Advertisement
Advertisement

क्या है कहानी
यह सृष्टि बख्शी नाम की एक युवा महिला की कहानी है, जो दक्षिण में कन्याकुमारी से उत्तर में कश्मीर तक, 240 दिनों में लगभग 4000 किमी पैदल चलकर एक अति महान यात्रा पर निकलती है, साथ ही भारत के कोने-कोने से कई महिलाओं के अनुभवों के बारे में उनसे मिलते और सीखने के यात्रा है। यह आज के भारत की महिलाओं के सामने आने वाले सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों की खोज करने वाली एक मार्मिक और दिल को छूनेवाली डाक्यूमेंट्री है। यह इन अभूतपूर्व समय में प्रतीत होने वाली दुर्गम चुनौतियों का एक अनूठा वसीयतनामा है और रोज़मर्रा के नायक जो इससे उबरने के लिए जूझ रहे हैं।

आईएफएफएम, ऑस्ट्रेलिया में अपनी तरह का सबसे बड़ा फिल्म समारोह होने के नाते, जो भारतीय सिनेमा को उसके सभी रूपों में मनाता है, फिल्म निर्माताओं को अपनी फिल्मों को एक अंतरराष्ट्रीय मंच पर प्रदर्शित करने का एक उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है।

अक्षय कुमार ने लॉन्च किया 'हंगामा 2' का ट्रेलर, कॉमेडी तड़के के साथ शिल्पा शेट्टी का ग्लैमरस अंदाज- VIDEO

सृष्टि बख्शी ने कहा: "महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा मानवाधिकारों का उल्लंघन है। और जब से कोविद -19 का प्रकोप और दुनिया चार दीवारों के भीतर रहने के लिए मजबूर हो रही है, उभरते हुए आंकड़े, और फ्रंटलाइन पर उन लोगों की रिपोर्टों से पता चला है कि सभी प्रकार के महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा, विशेष रूप से घरेलू हिंसा, केवल तेज़ हुई है। इस वृत्तचित्र में, हमने उन सामान्य महिलाओं का जश्न है जिन्होंने अपनी सीमाओं से ऊपर उठने और गहराई से स्थापित लिंग मानदंडों को चुनौती देने के लिए असाधारण साहस दिखाया है। हमने इन्हे एकजुट करने के लिए ऐसा प्रयास किया क्योंकि हमने जो खोजा वह यह था कि 'लिंग आधारित हिंसा अल्पसंख्यक द्वारा किया गया अपराध है लेकिन यह बहुसंख्यकों की चुप्पी से कायम है।

Read more...

English Summary

Ajitesh Sharma Women Of My Million documentary in Indian Film Festival Of Melbourne