»   » REVIEW: साल 2016 की बेहतरीन फिल्मों में एक.. खत्म हुई 'वेटिंग'

REVIEW: साल 2016 की बेहतरीन फिल्मों में एक.. खत्म हुई 'वेटिंग'

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

Rating:
3.5/5

फिल्म- वेटिंग
डायरेक्टर- अनु मेनन
स्टारकास्ट- कल्कि कोचलीन, नसीरूद्दीन शाह, रजत कपूर, अर्जुन माथुर

अनु मेनन के निर्देशन में बनी फिल्म 'वेटिंग' आज सिनेमाघरों में दस्तक दे चुकी है। फिल्म की कहानी दो किरदारों के इर्द गिर्द घूमती है। यह फिल्म इमोशनल है, रियल है.. जिसका प्रभाव कुछ दिनों तक तो जरूर आपके दिलोंदिमाग पर रहेगा।

फिल्म की कहानी शुरू होती है तारा (कल्कि कोचलीन) और रजत (अर्जुन माथुर) से। ये नए शादीशुदा कपल हैं। जिनकी लाइफ परफेक्ट चल रही होती है, जब अचानक एक दिन रजन का एक्सीडेंट हो जाता है। रजत के सिर पर चोट लगती है और वह कोमा में चला जाता है। इसके बाद कहानी दूसरा मोड़ लेती है। अस्पताल में तारा की मुलाकात शिव (नसीरूद्दीन शाह) से होती है।

इसके बाद कहानी में क्या टिवस्ट एंड टर्न्स आते हैं। शिव और तारा किस तरह से एक दूसरे की मुश्किलों को दूर करते हैं, यह देखने के लिए आपको सिनेमाघर तक जाना होगा। बहरहाल, कोई शक नहीं कि यह साल 2016 की बेहतरीन फिल्मों में शामिल होगी।

यहां पढ़ें फिल्म वेटिंग का पूरा रिव्यू-

कहानी

तारा (कल्कि कोचलीन) और रजत (अर्जुन माथुर) नए शादीशुदा कपल हैं। उनकी लाइफ परफेक्ट चल रही होती है, जब अचानक एक दिन रजन का भयानक एक्सीडेंट हो जाता है। रजत के सिर पर चोट लगती है और वह कोमा में चला जाता है। इसके बाद कहानी दूसरा मोड़ लेती है। Cochin's state of the art hospital में तारा की मुलाकात शिव (नसीरूद्दीन शाह) से होती है।

दिलचस्प कहानी

शिव की पत्नी भी 8 महीने से हॉस्पिटल में होती है। इनकी शादी को 40 साल हो चुके हैं और शिव अपनी पत्नी के ठीक होने का इंतजार करते हैं।  एक सी कहानी होने की वजह से जल्द ही शिव और तारा में दोस्ती हो जाती है और दोनों एक दूसरे की मदद करने की कोशिश करते हैं।

कैसी है फिल्म!

निर्देशक अनु मेनन ने फिल्म की स्क्रिप्ट पर काफी चालाकी के साथ काम किया है। दोनों सितारों के बीच के उम्र के पड़ांव को बहुत ही बेहतर तरीके से दिखाया गया है। शिव प्रोफेसर हैं, जिनकी शादी को 40 साल हो गए हैं.. वहीं, तारा बिंदास लड़की है। फिल्म में साइड किरदारों पर भी बहुत ध्यान दिया गया है।

एक्टिंग

कल्कि कोचलीन इस फिल्म से एक बार फिर आपका दिल जीत ले जाएंगी। वहीं नसीरूद्दीन शाह की तारीफ जितनी की जाए.. कम है.. दोनों ने फिल्म को दिखने में काफी आसान सा बना दिया है। वहीं, डॉक्टर मल्होत्रा के किरदार में रजत कपूर बेहतरीन हैं।

निर्देशन

फिल्म की स्क्रिप्ट कहीं पर भी ढ़ीली नहीं पड़ती। लिहाजा, आप शुरू से ही फिल्म से बंध जाएंगे। ज्यादातर हिस्सा हॉस्पिटल में फिल्माया गया है। लेकिन फिर भी फिल्म कहीं भी दुखी या निराशाजनक नहीं लगती।

देंखे या नहीं!

इस साल एक बेहतरीन फिल्म देखना चाहते हैं तो जरूर देंखे- वेटिंग.. फिल्म इमोशनल है.. रियल है..

 

Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos