»   » फिल्म रिव्यू: द गाज़ी अटैक, एक शानदार कहानी...एक ज़बर्दस्त किस्से की!

फिल्म रिव्यू: द गाज़ी अटैक, एक शानदार कहानी...एक ज़बर्दस्त किस्से की!

राणा दग्गुबाती, तापसी पन्नू और केके मेनन स्टारर संकल्प रेड्डी की फिल्म द गाज़ी अटैक ऱिलीज़ हो चुकी है। पढ़िए फिल्म की पूरी समीक्षा और हमने दिए हैं फिल्म को कितने स्टार।

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi
Rating:
3.0/5

फिल्म - द ग़ाज़ी अटैक
स्टारकास्ट - राणा दग्गुबाती, केके मेनन, अतुल कुलकर्णी, तापसी पन्नू, स्वर्गीय ओम पुरी
निर्देशक - संकल्प रेड्डी
प्रोड्यूसर - अवनीश रेड्डी, वेंकटरमन रेड्डी, प्रसाद वी पोटलुरी, एनएम पाशा, जगन मोहन
लेखक - संकल्प रेड्डी, गंगाराजू गुन्नम, निरंजन रेड्डी
शानदार बात - अभिनय, कॉन्सेप्ट
ढीली बात - फिल्म का तकनीकी पक्ष
कब पलकें झपकाएं - केवल इंटरवल में
धमाकेदार सीन - अंडरवाटर सीन के दौरान के टेंशन और पनडुब्बियों की फायरिंग रोंगेटे खड़ी कर देंगी।

शानदार प्लॉट

शानदार प्लॉट

फिल्म 1971 के युद्ध को दिखाती है और फिल्म की शुरूआत अमिताभ बच्चन की आवाज़ से होती है जो उस दौरान के भारत - पाकिस्तान के संबंधों की चर्चा करते हैं। पाकिस्तान की नेवी, भारत के जहाज़ आईएनएस विक्रांत को खोजने के लिए अपनी पूरी जान लगा देती है और फिर अपना जहाज़ पीएनएस गाज़ी भेजता है भारत को नेस्तनाबूद करने के लिए।

फिल्म के किरदार

फिल्म के किरदार

पाकिस्तान के मिशन की जानकारी के लिए आईएनएस विक्रांत को भेजा जाता है एक अच्छी नौसेना की टीम के अंडर जिसके हेड होचे हैं कमांडर रणविजय सिंह (केके मेनन) डो अपने लेफ्टिनेंट अर्जुन वर्मा (राणा दग्गुबाती) से हमेशा उल्टा सोचता है। इन दोनों के बीच सामंजस्य बिठाते हैं एक और ऑफिसर देवराज (अतुल कुलकर्णी)। इसके बाद छिड़ा वो युद्ध जिसके बारे में किसी को भनक तक नहीं लगी।

निर्देशन

निर्देशन

पहली बात तो डायरेक्टर संकल्प रेड्डी को बधाई एक ऐसे टॉपिक पर फिल्म बनाने के लिए जिसके बारे में कोई नहीं जानता।़डेब्यू के लिहाज़ से ये एक बेहतरीन कोशिश है। जैसा कि किस्से हैं कि पाकिस्तान का जहाज़ पीएनएस गाज़ी रहस्यमयी ढंग से समुद्र में लापता हो गया था और भारत - पाकिस्तान दोनों के पास इसके अलग कारण है।

लेक्चर से ढीली हुई फिल्म

लेक्चर से ढीली हुई फिल्म

हालांकि संकल्प रेड्डी ने इतिहास के पन्नों को बारीकी से उभारा है और पूरी कोशिश की है कि संवाद और सूत्रधार के बावजूद फिल्म बंधी रहे। पर कहीं कहीं ये देशभक्ति के लंबे लंबे डायलॉग्स के बोझ तले दबती दिखाई दी है।

अभिनय

अभिनय

केके मेनन ने पूरा शो अपने नाम कर लिया है। एक घमंडी और जल्दबाज़ी में फैसले लेने वाले ऑफिसर के तौर पर। उनका मानना है कि खुद देश के लिए मत मरो, दुश्मन को मारो।

राणा दग्गुबाती थोड़ा शांत हैं और हर ऑर्डर का इंतज़ार करते हैं। फिल्म के सेकंड हाफ में वो केके मेनन को टेकओवर कर लेते हैं।

अतुल कुलकर्णी हर बार की तरह दिल जीत कर ले जाते हैं। हालांकि शांति सेतु का काम करना रंग दे बसंती से काफी अलग था पर वो अपनी भूमिका में जमते हैं।

एक दूसरे को हौसला देती स्टारकास्ट

एक दूसरे को हौसला देती स्टारकास्ट

ओम पुरी जी और नस्सार भी अपनी अपनी भूमिकाओं के साथ न्याय करते दिखते हैं। हालांकि तापसी पन्नू इन सब के बीच कहीं खो सी जाती है। और फिल्म में उनका काम मूक दर्शक से ज़्यादा नहीं बचता। उन्हें और अच्छी भूमिका में देखना लोगों को पसंद आता है। बहरहाल फिल्म की सबसे खास बात है इसकी सधी हुई स्टारकास्ट।

तकनीकी पक्ष

तकनीकी पक्ष

फिल्म के स्पेशल इफेक्ट बजट के काऱण हल्के हैं और आपको अलग से पता चलेंगे लेकिन इसके बावजूद एक कसी हुई स्क्रिप्ट फिल्म को पूरे समय बांधे रखती है। फिल्म का सबसे अच्छा पक्ष है इसकी सच्चाई और इतिहास के प्रति ईमानदारी। संकल्प रेड्डी समुद्र के अंदर का वातावरण बनाने में भी कामयाब रहे हैं।

युद्ध के सीन

युद्ध के सीन

फिल्म में युद्ध के सीन मारधाड़ की अपेक्षा दिमाग से चलने वाले प्लान पर फोकस करते हैं जो कि काफी अच्छे से फिल्म को एक कड़ी में जोड़ता चला जाता है। ए श्रीकर प्रसाद की एडिटिंग और माधी का फिल्मांकन फिल्म को और मज़बूती से खड़ा होने की हिम्मत देता है।

संगीत

संगीत

फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर शानदार। वहीं बिना गाने के पूरी फिल्म कह जाना अपने आप में एक कला है जिसे संकल्प रेड्डी बखूबी निभाते हुए दिखते हैं।

रेटिंग

रेटिंग

हमारी तरफ से फिल्म को 3 स्टार। लेकिन अगर तकनीकी पक्ष हटा दिया जाए तो गाज़ी अटैक एक ऐसी फिल्म है जिसे आपको थियेटर में ज़रूर देखना चाहिए।

English summary
The Ghazi Attack Movie Review is here. Directed by Sankalp Reddy featuring Rana Daggubati, Taapsee Pannu.
Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos