»   » Review: तेरे बिन लादेन 2: ओसामा बिन लादेन के नाम पर आप रो देंगे!

Review: तेरे बिन लादेन 2: ओसामा बिन लादेन के नाम पर आप रो देंगे!

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

Rating:
2.0/5

 तेरे बिन लादेन का सीक्वल तेरे बिन लादेन डेड और अलाइव रिलीज़ हो चुका है और अभिषेक शर्मा का ये करारा व्यंग्य बिल्कुल किसी मसाला खिचड़ी की तरह है, जिसमें मसाला डालना भूल गए हैं।

फिल्म में पिछली बार ओसामा बिन लादेन के हमशक्ल को इस्तेमाल कर एक आदमी ने अमरीका जाने की कोशिश की थी। इस बार एक फिल्ममेकर (मनीष पॉल) ओसामा बिन लादेन के हमशक्ल पर फिल्म बनाकर अमरीका को अपनी उंगलियों पर नचा रहा है।

अभिषेक शर्मा, फिल्म के डायरेक्टर पर ही फिल्म का हीरो है - मनीष पॉल, जो फिल्म में एक डायरेक्टर बने हैं और अपनी पहली फिल्म तेरे बिन लादेन की चर्चा कर रहे हैं।


फिल्म शुरू होती है एक ठहाके भरे सफर के वादे के साथ पर थोड़ी ही देर बाद फिल्म में किसी को समझ नहीं आ रहा होता कि फिल्म के साथ करना क्या है। जानिए फिल्म की पूरी समीक्षा - 

प्लॉट

फिल्म की कहानी है एक हलवाई के बेटे की जो मुंबई में कुछ बड़ा करना चाहता है। और दूसरी तरफ अमरीका में ओबामा पर दबाव है कि ओसामा बिन लादेन का मरा हुआ वीडियो दे। ऐसे में उसके हमशक्ल पद्दी सिंह की सबको याद आती है!


अभिनय

फिल्म के हीरो हैं मनीष पॉल जो इस फिल्म में कॉमेडी की कोशिश करते दिखे हैं। पूरी फिल्म में मनीष पॉल केवल रह रह कर अपने होस्ट के किरदार में लौटते दिखते हैं। और शायद यही काम उन पर बेस्ट सूट करता है।


स्टारकास्ट

फिल्म की बाकी स्टारकास्ट अच्छी है और हंसाने की कोशिश करती है। सिकंदर खेर एक अंग्रेज़ी फिल्ममेकर की भूमिका में अच्छे लगे हैं। वहीं पंजाबी ओसामा बिन लादेन की भूमिका में प्रद्युमन सिंह ने भी अच्छी कोशिश की है।


कमज़ोर कहानी

फिल्म की सबसे बड़ी कमज़ोर है फिल्म की कहानी। क्योंकि जब आप एक सीक्वल बनाते हैं तो एक कहानी सोचते हैं। अभिषेक शर्मा ने पहले सीक्वल बनाने की सोची फिर कहानी लिखी। और कहानी 10 लाइनों में खत्म हो गई। फिल्म में आगे क्या करना है उन्हें नहीं पता है।


कमज़ोर डायरेक्शन

ज़ाहिर सी बात है कि जब फिल्म के डायरेक्टर के पास कहानी थी ही नहीं तो फिर फिल्म कैसे अच्छी बन जाती है। इसलिए फिल्म एक स्टैंड अप कॉमेडी एक्ट ज़्यादा लगता है जहां सब बारी बारी से चुटकुले मार रहे हैं।


डायलॉग्स

फिल्म के कुछ पंच अच्छे हैं और सही जगह लगे हैं - बॉलीवुड वाले हैं, हॉलीवुड में एक रोल के लिए एक साल तक ढोल बजाएंगे।


नहीं है ज़्यादा कुछ

फिल्म को पिछली बार की फिल्म से तुलना ना करें तो फिल्म में इस बार तथ्य हैं। हालांकि अभिषेक शर्मा इन तथ्यों के साथ खेलना भूल गए।


ओसामा के लिए

फिल्म अगर देखनी है तो सिकंदर खेर और ओसामा बिन लादेन यानि कि प्रद्युमन सिंह के लिए ज़रूर देखें।


हमारी रेटिंग

हमारी तरफ से फिल्म को 2 स्टार। एक औसत कॉमेडी, बेहतरीन ट्रेलर के बाद!


 
English summary
Tere Bin Laden Dead or Alive movie review - Manish Paul, Sikandar Kher.
Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos