»   » REVIEW: 'निल बट्टे सन्नाटा'.. शानदार कहानी + शानदार कास्ट.. जरूर देंखे - 3 स्टार

REVIEW: 'निल बट्टे सन्नाटा'.. शानदार कहानी + शानदार कास्ट.. जरूर देंखे - 3 स्टार

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

[समीक्षा]

Rating:
3.0/5

कुछ फिल्मों में सुपरस्टार कलाकार होते हैं, कुछ की कहानी ही सुपरस्टार होती है। अश्विनी अय्यर तिवारी के निर्देशन में बनी फिल्म 'निल बट्टे सन्नाटा' इन्हीं फिल्मों में शामिल होती है, जहां कहानी ही सबसे मजबूत पहलू है। ये फिल्में ब्लॉकबस्टर नहीं होती, लेकिन सीधे दिल में घर करती है।

फिल्म में स्वरा भास्कर, रिया शुक्ल, पंकज त्रिपाठ और रत्ना पाठक शाह ने अहम किरदार निभाए हैं। हर बार की तरह स्वरा भास्कर ने इस बार भी दर्शकों को निराश नहीं किया है और एक दमदार अवतार में नजर आई हैं। फिल्म में उन्होंने एक मां का किरदार निभाया है।

1 घंटे 40 मिनट की यह फिल्म आपको रोजमर्रा की जिंदगी से सामना कराएगी। छोटे शहर में हर दिन की मशक्कत करती हुई मां और उसकी बेटी की कहानी को बेहतरीन तरीके से दिखाया गया है। कोई शक नहीं कि काफी सीन्स में फिल्म आपको इमोशनल कर जाएगी। कुल मिलाकर कहा जाए तो यह फिल्म आपको एक बार बड़े पर्दे पर जरूर देखनी चाहिए।

यहां पढ़ें फिल्म 'निल बट्टे सन्नाटा' की पूरी रिव्यू-

कहानी

कहानी

कहानी है उत्तर प्रदेश के 'आगरा शहर' की, जहां चंदा सहाय (स्वरा भास्कर) अपनी बेटी अपेक्षा सहाय (रिया शुक्ला) के साथ रहती है। चंदा घरों में जाकर काम करती है। जब अपेक्षा दसवीं क्लास में पहुंचती है तो चंदा को उसकी काफी चिंता होने लगती है क्योंकि अपेक्षा की गणित काफी कमजोर होती है। फिर चंदा जिनके घर काम करती है उनकी सलाह लेकर उसी स्कूल में दाखिला लेती है जहां अपेक्षा पढ़ती है। फिर एक ही क्लास में पढ़ते हुए मां और बेटी के बीच कॉम्पिटिशन भी शुरू हो जाता है जिसका अंजाम काफी अनोखा होता है। और यह अंजाम क्या होता है इसे जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

एक्टिंग

एक्टिंग

एक्टिंग के मामले में स्वरा भास्कर ने कभी निराश नहीं किया है। यहां भी एक मां के किरदार में स्वरा शानदार हैं और उनकी बेटी बनी रिया शुक्ला ने भी काफी अच्छा साथ दिया है। फिल्म में कुछ ऐसे पल भी आते हैं जो आपको इमोशनल बनाते हैं। साथ ही मालकिन के किरदार में रत्ना पाठक शाह का अच्छा रोल है।

निर्देशन

निर्देशन

इस फिल्म की शूटिंग आगरा में की गयी है और डायरेक्शन के मामले में पूरी मेहनत स्क्रीन पर दिखाई देती है। अश्विनी अय्यर तिवारी ने लोकेशन को काफी अच्छे तरीके से इस्तेमाल किया है। लिहाजा, फिल्म की कहानी से आप खुद को जुड़ता महसूस करेंगे। निर्देशक ने मां और उसकी बेटी की कहानी को बेहतरीन तरीके से दिखाया है।

अच्छी/ बुरी बात

अच्छी/ बुरी बात

फिल्म अभिनय और कहानी के मामले में काफी मजबूत है। वहीं, यहां आपको कमर्शियल फिल्मों जैसे मसाले की कमी खलेगी। फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर भी अच्छा है।

क्यों देंखे

क्यों देंखे

अगर आपको लीक से हटकर फिल्में देखना पसंद है, तो 'नील बट्टे सन्नाटा' आपके लिए है। फिल्म आपको रोजमर्रा की जिंदगी से अवगत कराएगी।

English summary
Read here, Nil Battey Sannata movie review, featuring Swara Bhaskar.
Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos