»   » #FilmReview: एक 5 स्टार अक्षय + दो कौड़ी के पंच!

#FilmReview: एक 5 स्टार अक्षय + दो कौड़ी के पंच!

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

Rating:
1.5/5

फिल्म - हाउसफुल 3
स्टारकास्ट - अक्षय कुमार, रितेश देशमुख, अभिषेक बच्चन और तीन हीरोइनें
डायरेक्टर - साजिद - फरहाद

सबसे पहले तो चेतावनी...ध्यान से पढ़िएगा।

  • हर फिल्म के पहले जो सिगरेट वाली चेतावनी आती है, उससे भी ज़्यादा खतरनाक बीमारी है ये - दिमाग चलाना। इस फिल्म में दिमाग चलाना सख्त मना है और अगर चलाया तो कमज़ोर दिल वाले ये सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाएंगे।
  • इसके अलावा फिल्म के फर्स्ट हाफ में लंगड़े, गूंगे, अंधे लोगों का मज़ाक उड़ाया जाए और सेकंड हाफ में अचानक से चर्च में जाकर इसके लिए माफी भी मांगी जाएगी! 
  • फिल्म में जैकी श्रॉफ भी हैं...और चंकी पांडे भी हैं!

लेकिन फिर भी हाउसफुल 3 क्यों देखनी है - अक्षय कुमार की 5 स्टार कॉमिक टाइमिंग के लिए। एक बेतुकी सी फिल्म में 45 साल की उम्र में भी अगर कोई आदमी आपको अजीबोगरीब शक्लें बना कर हंसा सकता है तो उसकी एक्टिंग की आप दाद दीजिए।

हाउसफुल 3 की कोई कहानी नहीं है। और इसलिए पूरी फिल्म टिकी है अजीबोगरीब वन लाइनर पंच पर। कुछ आपकी समझ में आएंगे कुछ आपने सालों से सुने होंगे। 

फिल्म में रितेश देशमुख और अभिषेक बच्चन भी हैं। रितेश की कॉमिक टाइमिंग वाकई ज़बर्दस्त है वहीं अभिषेक बच्चन तो फिलहाल अपनी एक्टिंग टाइमिंग भी बॉलीवुड में सही नहीं कर पा रहे हैं।

बहरहाल अगर आप अक्षय कुमार कॉमेडी फैन हैं तो ये फिल्म आपको इतनी भी बुरी ना लगे शायद। लेकिन हमने कहा ना अगर दिमाग चलाया तो बस भगवान से बोलना उठा ले रे बावा। जानिए हाउसफुल 3 की समीक्षा -

कहानी

हमेशा की तरह फिल्म में कोई कहानी नहीं है। एक बाप है उसकी तीन बेटियां हैं और तीनों के तीन बॉयफ्रेंड। लेकिन बाप को बेटियों की शादी नहीं करनी। लेकिन लड़कों को पापा का दामाद बनना है...बस यहीं से शुरू होगी हंसाने की कोशिशें।

हंसी का मीटर

अब चूंकि फिल्म कॉमेडी है तो सबसे पहले फिल्म के हंसी मीटर पर बात करते हैं। फिल्म में अभिषेक बच्चन के करियर से लेकर लड़कियों की आदतों पर चुटकुले हैं। लेकिन ये सब किसी कॉमेडी सर्कस से उठाए हुए लगते हैं। किसी पर हंसी आ जाएगी, किसी पर नहीं आएगी।

अभिनय

अक्षय कुमार को एक बार खड़े होकर सलामी देनी चाहिए। आप एयरलिफ्ट और बेबी के लेवेल के एक्टर होकर इतनी आसानी से बेतुकी कॉमेडी कर भी लेते हैं और हंसा भी लेते हैं। इसके लिए शायद किरदार में मासूमियत होनी चाहिए।

तीन हसीनाएं

अब फिल्म में तीन हसीनाओं पर बात की जाए। तीनों में से किसी ने फिल्म में कोई काम नहीं किया है। ना ही पंच सही जगह मारे हैं ना ही डायलॉग। जब तक नरगिस फखरी हिंदी में चुटकुला मारने की कोशिश करती हैं, तब तक इंसान एक नींद मार के आ सकता है।

म्यूज़िक

फिल्म का म्यूज़िक बेकार है। पिछली दो फिल्मों में पापा जग जाएगा और धन्नो जैसे गानों ने फिल्म संभाली थी लेकिन इस बार फिल्म का म्यूज़िक ऐसा है ही नहीं कि आपको याद रह जाएगा। 

निर्देशन

साजिद फरहाद ने बॉलीवुड को अच्छी कॉमेडी फिल्में दी हैं। दिलवाले, रेडी और सिंघम जैसी फिल्में उन्होंने लिखी हैं। लेकिन फिर उन्होंने लिखी है बोल बच्चन और दिलवाले जैसी फिल्में! आप बाकी तो समझ ही गए होंगे कि हम क्या कहना चाह रहे हैं।

अच्छी बातें

पूरी फिल्म की अच्छी बात है कि फिल्म में अक्षय कुमार हैं जो आपको हिम्मत देंगे कि आप दो घंटे बैठकर ये फिल्म देख सकें। हालांकि अगर आपने दिमाग नहीं चलाया तो हो सकता है कि आपको फिल्म ठीक लग जाए।

निगेटिव बातें

इतने बड़े बैनर की फिल्म में इतने गंदे ग्राफिक्स आपने कभी नहीं देखे होंगे। फिल्म में स्क्रिप्ट तो है ही नहीं, इसके अलावा फिल्म में हीरोइनों से लेकर डायलॉग्स तक सब कुछ आपका सर चकरा देगा।

सबसे अच्छी बात

फिल्म में सबसे अच्छी बातें हैं - अक्षय कुमार का फिल्म में होना और फिर 2 घंटे बाद फिल्म का खत्म हो जाना।

 

English summary
Housefull 3 film review in hindi - Read to know how is Akshay Kumar starrer comedy!
Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos