»   » #FilmReview: बैंजो, हर रॉकस्टार रणबीर कपूर नहीं होता!

#FilmReview: बैंजो, हर रॉकस्टार रणबीर कपूर नहीं होता!

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

{rating}

फिल्म - बैंजो
डायरेक्टर - रवि जाधव
स्टारकास्ट - रितेश देशमुख, नरगिस फखरी

वो कंगना रनौत ने कहा था ना रीबॉक ना सही, रीबूक ही सही...बस ऐसा ही कुछ फील आएगा आपको रितेश देशमुख की ये नई फिल्म देखकर। और दुख ये है कि इसमें उनकी कोई गलती नहीं है। बैंजो में ज़्यादा कुछ गलत नहीं है, फिल्म की स्टारकास्ट के अलावा। 

Banjo Film review

अब आते हैं फिल्म के डायरेक्टर पर। तो रवि जाधव मराठी फिल्मों के बेहतरीन डायरेक्टर माने जाते हैं, लेकिन यही बॉलीवुड की खासियत है, कि ये किसी एक सिनेमा का सगा नहीं हो पाता। और इसलिए यहां फिल्म की शैली दर्शक के हिसाब से बदल जाती है। 

Banjo Film review

अब आते हैं तीसरी बात पर जो फिल्म का प्लॉट भी है। तो भईया कुछ फिल्में होती हैं जो महान बन जाती है। और फिर उस क्षेत्र में आप कुछ भी बनाएं तो ये सोच कर बनाएं कि अगर उस महान फिल्म के 100 मीटर के दायरे में भी आने की आपने कोशिश की तो आपको महंगा पड़ सकता है और बैंजो ऐसी ही एक फिल्म।

Banjo Film review
 

प्लॉट
बैंजो है आमची मुंबई का एक लोकल बैंड की, जो कभी-कभी किसी महोत्सव में अपनी कला दिखाता है, मगर इन्हें लगता है कि वे अपनी इस कला को अपना भविष्य बना सकते हैं। और उन्हें ये यकीन दिलाती हैं नरगिस फखरी जो विदेश से आई हैं और इसलिए उनकी अजीब सी हिंदी माफ है।  

Banjo Film review
 

डायरेक्शन
रवि जाधव बेशक अच्छे डायरेक्टर होंगे पर बैंजो को उन्होंने एक्शन और ड्रामा से भरपूर, कॉमेडी के पंचलाइन डालकर पूरी कॉमर्शियल फिल्म बनाने की कोशिश की है। और इसमें उनका मुद्दा खो जाता है, डूबती हुई लोक कला। ये गलती इससे पहले यशराज फिल्म्स ने आजा नच ले में की थी। लेकिन बैंजो और बुरी तरह विफल नज़र आती है। क्योंकि रवि कहानी शुरू करते हैं पर कहीं भी उसे पकड़ ही नहीं पाते।

Banjo Film review
 

अभिनय
रितेश देशमुख ने कोशिश की है कि वो अपनी भूमिका के साथ न्याय करें पर वो कन्फ्यूज़ नज़र आते हैं। कहीं पर एक्शन, कभी ड्रामा, कभी कॉमेडी, कभी रोमांस, उनके कैरेक्टर में इतनी परत हैं कि वो किसी एक पर फोकस कर ही नहीं पाते। 
 

Banjo Film review

नरगिस फखरी ने वैसे भी आज तक ज़्यादा कुछ किया नहीं और यहां भी वो यही करती नज़र आती हैं। हालांकि डांस उन्होंने ठीक किया है पर बाकी फिल्म में वो आपको ऊबा देंगी।
 

Banjo Film review

फिल्म की सपोर्टिंग कास्ट ठीकठाक है। डांस मास्टर धर्मेश में अच्छा टैलेंट है और वो यहां भी उसे दिखाते हुए नज़र आते हैं। 

Banjo Film review
 

निगेटिव पक्ष
रवि जाधव की सबसे बड़ी कमी है फिल्म की स्टारकास्ट जो कहीं से भी फिल्म में फिट नहीं बैठती। एक रॉक बैंड में रितेश देशमुख बहुत ही हद तक मिसफिट हैं। ऊपर से रोमांस करते हुए वो कंफर्टेबल नहीं लगते। फिल्म इतनी फिल्मों से मिलती है कि पूछिए मत। कहानी बिल्कुल नॉर्मल है। और आपको पता है कि कहानी यही है। गली से उठकर मशहूर बनने तक की।

Banjo Film review
 

मज़बूत पक्ष
फिल्म का मज़बूत पक्ष है फिल्म का म्यूज़िक। विशाल शेखर ने फिल्म के म्यूज़िक पर मेहनत की है और वो दिखी है। लेकिन फिल्म के साथ ही फिल्म का म्यूज़िक भी जहां तक उम्मीद है, इग्नोर कर दिया जाएगा।  

Banjo Film review
 

English summary
Banjo Film Review - Ravi Jadhav directorial with Riteish Deshmukh and Nargis Fakhri.
Please Wait while comments are loading...