»   » अवार्ड शो पर शाहरूख खान का मजेदार बयान.. पूरे बॉलीवुड पर कमेंट!

अवार्ड शो पर शाहरूख खान का मजेदार बयान.. पूरे बॉलीवुड पर कमेंट!

एआईबी में दिए इंटरव्यू के दौरान शाहरूख खान ने कहा कि आजकल के अवार्ड शोज तो सत्संग की तरह होते हैं। जहां सब अच्छे होते हैं, कोई बुरा नहीं होता।

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

यदि कहा जाए कि शाहरूख खान भारत के सबसे हाज़िर जवाबी लोगों में शामिल हैं, तो यह गलत नहीं होगा। हाल ही में शाहरूख का यह अंदाज देखने को मिला AIB पोडकास्ट को दिए इंटरव्यू में। शाहरूख की बातें सुनकर आप हंसते रह जाएंगे। 

''अवार्ड फंक्शन में डांस करो.. तो पैसे और अवार्ड तुम्हें देंगे....''

बातों बातों में जब शाहरूख से पूछा गया कि क्या कभी आप खुद पर बनी अफवाहों से या खबरों से परेशान नहीं होते?

shahrukh khan

तो शाहरूख ने कहा- मेरे एक दोस्त ने अपने घर में एक पैडेड रूम बनवा लिया है.. जहां जाकर वह अपने मन की बातें बोलता है.. ताकि उसकी आवाज और पॉवरफुल बन सके.. मुझे लगता है अपने करियर में अंत में मैं भी एक कमरा बनवाउंगा.. मैं वहां चिल्लाना चाहता हूं कि जैसे, हां हां मैंने ये किया है, हां मैंने ये बोला था, हां मैं ये भी बोल रहा हूं.. 

शाहरूख ने कहा, पहले मैं अपनी भड़ास अवार्ड शोज में जाकर निकाल लेता था। मन की बात वहां बोल देता था। लेकिन अब ऐसा नहीं कर सकते.. अब वहां प्रवचन चलते हैं.. अवार्ड शो सत्संग की तरह होता है, जहां सब अच्छे हैं.. कोई बुरा आदमी नहीं होता। 

यहां जानते हैं शाहरूख ने और क्या क्या कहा- 

शाहरूख और कंट्रोवर्सी

शाहरूख ने कहा- पहले जब मैं उठता था, तो मुझे बॉलीवुड किंग की तरह लगता था.. अब मुझे लगता है.. कौन ना किंग, कौन बॉलीवुड.. मैं हमेशा प्रार्थना करना रहता हूं.. सच कहूं तो,, अमेरिका में क्या होना है, मुझे इससे क्या मतलब.. 

मैं शाहरूख हूं. मैं आम नहीं हूं

शाहरूख ने कहा, मैं Dandruff शैंपू कि एड नहीं कर सकता.. मुझे यह अजीब लगता है। लोग फिर ये सोचेंगे कि ये शाहरूख को नहीं होता, क्योंकि यह यही प्रोडक्ट इस्तेमाल करता है.. लेकिन यह सही नहीं है.. मैं शाहरूख खान हूं, मैं आम आदमी नहीं हूं। मुझे दाद, खाज, खुजली नहीं होती।

बॉलीवुड स्टार्स अवार्ड शो में अहम मुद्दे क्यों नहीं उठाते..

हॉलीवुड स्टार्स की तरह बॉलीवुड स्टार अवार्ड में कुछ अहम बात क्यों नहीं करते.. इस पर शाहरूख ने कहा- मैं अब ऐसा करना चाहता हूं कि लेकिन अब मुझे फिल्मफेयरर अवार्ड ही नहीं मिलते। अवार्ड मिले तो मैं कुछ कहूं। 

अवार्ड शो

शाहरूख ने कहा, पहले मैं अपनी भड़ास अवार्ड शोज में जाकर निकाल लेता था। मन की बात वहां बोल देता था। लेकिन अब ऐसा नहीं कर सकते.. अब वहां प्रवचन चलते हैं.. अवार्ड शो सत्संग की तरह होता है, जहां सब अच्छे हैं.. कोई बुरा आदमी नहीं होता।

शादियों में डांस कर लाइमलाइट क्यों चुरा ले जाते हैं..

शाहरूख से पूछा गया कि शादियों में डांस कर दुल्हा दुल्हन की लाइमलाइट चुरा ले जाना क्या सही है.. तो शाहरूख ने जोरदार हंसते हुए कहा- उन्हें खुश होना चाहिए कि मैं उनकी दुल्हन नहीं चुरा ले जा रहा हूं। 

तो फिल्मफेयर मिल जाता यार..

शाहरूख ने एक किस्सा शेयर करते हुए कहा कि.. एक बिस्कुस के एड में मुझे कहा गया.. सर इस बिस्कुट को इस homeliness की फीलिंग के साथ खाना है। घर से दूर रहकर जुड़े रहने की फीलिंग.. एचिवमेंट की फीलिंग.. खुद पर गर्व करने की फीलिंग..... 

शाहरूख ने कहा.. मैंने सोचा यार इतनी फीलिंग आती तो फिल्मफेयर नहीं मिल जाता मुझे.. Tongue out

English summary
During AIB interview, Shahrukh Khan says, these days nobody has done bad work in award shows. It's like a satsang.
Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos