»   » मैं जानता हूं कि 52 साल की उम्र में ये फिल्म करना बेवकूफी है - सलमान खान

मैं जानता हूं कि 52 साल की उम्र में ये फिल्म करना बेवकूफी है - सलमान खान

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

सलमान ने अपने 28 साल का करियर पूरा कर लिया है और इन 28 सालों में उन्होंने कुछ बहुत शानदार काम किया तो कुछ फिल्में किसी को दिखाने लायक नहीं है। अब सलमान खान ने अपनी फिल्मों के चयन के बारे में बात की।

सलमान खान का कहना है कि इधर उनकी फिल्मों का फ्लेवर बदल चुका है। ऐसे में उन्हें लग रहा है कि टाईगर ज़िंदा है करके गलती कर दी। उनकी मानें तो वो ये सोचकर झेंप जाते हैं कि 52 साल की उम्र में ये फिल्म क्यों कर रहा हूं।

salman-khan-opens-up-on-his-choice-films

सलमान ने बताया कि फिल्म में वही बिल्डिंग चढ़ना - उछलना कूदना शामिल है और उन्हें यकीन नहीं हो रहा कि 52 साल की उम्र में वो ये बेवकूफी क्यों कर रहे हैं। बजरंगी में उन्हें कुछ करना नहीं पड़ा। उनका कहना है कि फिल्म अपने आप चल रही थी।
[#Review: सलमान के ट्यूबलाइट ट्रेलर की 5 अच्छी और 5 बुरी बातें!]

वहीं सलमान ने माना कि ट्यूबलाइट में भी इमोशनल मेहनत थी। वहीं सुलतान में मेहनत तो थी लेकिन कहानी और उम्र के हिसाब से जंच रही थी। ऐसे में टाईगर ज़िंदा ही ऐसी फिल्म है जो करके वो हंस रहे हैं।

वहीं अपनी डांस फिल्म के बारे में बात करते हुए सलमान ने कहा कि हर डांस फिल्म एबीसीडी नहीं हो जाती है। वो फिल्म डिज़्नी की थी, ये मैं बना रहा हूं।

वैसे 28 साल के करियर में सलमान ने कुल 5 बार इमोशनल किया है -

#हम दिल दे चुके सनम

#हम दिल दे चुके सनम

हम दिल दे चुके सनम में वैसे तो पूरी फिल्म में अजय देवगन पर सबको तरस आता रहता है लेकिन फिल्म खत्म होते होते, सबकी आंखों में आंसू होते हैं सलमान खान के लिए। बस एक आखिरी सीन की वजह से!

समीर की गुरूदक्षिणा

समीर की गुरूदक्षिणा

जब फिल्म में नन्दिनी (ऐश्वर्या राय) के पापा समीर से गुरूदक्षिणा में नंदिनी मांगते हैं तो वो बिना कुछ कहे उन्हें गुरूदक्षिणा देकर वहां से चला जाता है। इस सीन के बाद लोग काफी इमोशनल हुए थे।

बागबान

बागबान

केवल 20 मिनट के रोल में सलमान खान ने बागबान में जान डाल दी थी। और सबको इमोशनल कर दिया था। यहां तक कि बच्चों को भी।

एक होनहार बेटा

एक होनहार बेटा

एक होनहार बेटे के रोल में सलमान खान इतना फबे कि सारे मम्मी पापा बस अमिताभ बच्चन का आखिरी सीन देखकर रो पड़े थे!

तेरे नाम

तेरे नाम

जब पहली बार भूमिका चावला सलमान खान से मिलती हैं और वो दोनों एक दूसरे से नहीं मिल पाते, सलमान ने वाकई इस सीन में इमोशनल कर दिया था।

आखिरी सीन

आखिरी सीन

तेरे नाम के आखिरी सीन में सलमान खान ने कमाल ही कर दिया था। विश्वास ही नहीं होता कि वो सलमान खान ही थे।

बजरंगी भाईजान

बजरंगी भाईजान

फिल्म में जब सलमान खान मुन्नी के घर वालों को ढूंढ लेते हैं और वापस जाते हैं तो सब काफी इमोशनल हो जाते हैं।

मुन्नी को ऐसा बचाया

मुन्नी को ऐसा बचाया

जब सलमान खान मुन्नी को अपनी गलती के कारण खोने वाले होते हैं पर समय पर पहुंचकर उसे बचाते हैं और हनुमान चालीसा बोलते हैं!

सुलतान

सुलतान

जब सलमान और आर्फा एक दूसरे से नज़रें तक नहीं मिला पाते। इस सीन में सलमान ने वाकई इमोशनल कर दिया था।

कई बार किया इमोशनल

कई बार किया इमोशनल

फिल्म में सलमान खान ने कई बार इमोशनल किया है और इसके लिए उन्हें बधाई देना चाहिए। अब बस ट्यूबलाइट का इंतज़ार करिए।

English summary
Salman Khan opens up on his choice of films.
Please Wait while comments are loading...