»   » ''कोई और एक्टर नहीं मिला.. इसीलिए मैंने शाहरूख खान को साइन किया..''

''कोई और एक्टर नहीं मिला.. इसीलिए मैंने शाहरूख खान को साइन किया..''

आदित्य चोपड़ा ने शाहरूख खान पर खुलकर बातें की है, जिनमें से कुछ बातें आपको इमोशनल कर जाएगी।

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

लेखक और फिल्ममेकर समर खान सुपरस्टार शाहरूख खान पर एक किताब लांच करने वाले हैं। जिसमें शाहरूख के 25 सालों की फिल्मी करियर से जुड़ी कई दिलचस्प बातें होगी। लेखक ने लगभग उन सभी निर्देशकों से बातचीत की है, जिनके साथ शाहरूख ने कभी ना कभी काम किया है। 

इन्ही में एक हैं शाहरूख के निर्देशक, दोस्त और परिवार सरीखे आदित्य चोपड़ा। जिन्होंने शाहरूख से जुड़ी कई बातें शेयर की हैं। कुछ बातें जो हमने कभी पढ़ी है.. तो कुछ जो कभी किसी ने नहीं सुनी.. 

''सलमान खान की बॉयोपिक.. कल हो ना हो, मेरी फिर भी चलेगी..''

shahrukh khan

यहां जानें आदित्य चोपड़ा ने शाहरूख खान से जुड़ी क्या क्या यादें इस किताब में शेयर की हैं। 

तीन फिल्में.. शाहरूख एक

मैंने शाहरूख के साथ तीन फिल्में बनाई हैं- डीडीएलजे, मोहब्बतें और रब ने बना दी जोड़ी। तीन फिल्में मतलब.. तीन किरदार और तीन कहानी। लेकिन मेरे दिमाग में तीनों कहानी एक ही इंसान की कहानी थी।

गहरी दोस्ती

दो दशकों में 'राज' के किरदार की तरह मेरी और शाहरूख की दोस्ती भी बदलते समय के साथ गहरी होती गई है।

शाहरूख पसंद नहीं थे

जब हमने शाहरूख को डर के लिए साइन किया.. सच बताऊं तो ना मुझे वह पसंद था, ना डैड को। उस समय वह राकेश रोशन की फिल्म किंग अंकल में काम कर रहा था। हमने फिल्म की थोड़ी फुटेज देखी और हमें कुछ खास नहीं लगी थी। लेकिन डर के लिए हमने शाहरूख को शायद सिर्फ इसीलिए साइन कर लिया, क्योंकि कोई और एक्टर निगेटिव किरदार निभाने के लिए तैयार नहीं था।

यह एक्टर एक दिन सुपरस्टार बनेगा

हमने शाहरूख के साथ पहला शॉट होली वाला गाना किया। मुझे लगता है, वह दिन था, जब मैंने समझ लिया कि यह एक्टर एक दिन सुपरस्टार बनेगा। उसकी आंखों में अलग तरह की चमक थी। मैं डर का फर्स्ट एसिसटेंट डाइरेक्टर था।

डीडीएलजे

उसके बाद हम दोस्त बने। जब मैंने फाइनल किया कि डीडीएलजे में शाहरूख ही होंगे। मैं एक ऐसा एक्टर चाहता था, जिसने पहले कभी लव स्टोरी ना की हो। और शाहरूख ज्यादातर एग्रेशिव किरदार किरदार ही निभाते थे। इसीलिए मैं शाहरूख की इमेज बदलना चाहता था।

वह बात शाहरूख में कुछ बदल गई

शुरूआत में शाहरूख को डीडीएलजे की स्क्रिप्ट पसंद नहीं आई थी। वह एक्शन हीरो टाइप रोल करना चाहते था। लेकिन सिर्फ मेरे डैड की वजह से शाहरूख ने हां किया। वह मानसिक तौर पर तैयार नहीं थे। मुझे याद है सेट पर बहुत फैन स्टार से मिलने आते हैं तो एक बार एक बूढ़ी औरत शाहरूख से मिलने आई.. और कहा- तुम इतने अच्छे हो, अच्छे रोल क्यों नहीं करते? मुझे लगता वह बात शाहरूख में कुछ बदल गई।

शाहरूख के सपने

उसके बाद हमारी दोस्ती काफी गहरी हो गई। मुझे शाहरूख के सपनों का पता चला। मुझे पता था कि वह सबसे बड़ा सुपरस्टार बनना चाहता था। खैर, मोहब्बतें तक मुझे लगता है मैं शाहरूख को for granted लेने लगा।

रब ने बना दी जोड़ी

रब ने बना दी जोड़ी काफी अलग अंदाज में शुरु हुई.. मैंने तीन हफ्ते में लंदन जाकर फिल्म की स्क्रिप्ट खत्म की। वापस आकर मैंने शाहरूख को फोन किया कि मैं तीन महीनों में शूटिंग शुरु करना चाहता हूं.. और शाहरूख ने हां कहा।

शाहरूख की दो जिंदगी

जब मैंने शाहरूख को सुरिंदर का किरदार बताया तो वह काफी उत्साहित हो गया। एक दिन शाहरूख पूरी तैयारी के साथ मेरी ऑफिस में आए और मुझे कहा कि सुरिंदर कैसे कपड़े पहनेगा, कैसे चलेगा, कैसे बोलेगा.. सबकुछ..मैंने शाहरूख को इतना होमवर्क करते कभी नहीं देखा था। मुझे लगता है फिल्म की तरह शाहरूख भी रियल लाइफ में दो जिंदगी जीते हैं।

सुपरस्टार शाहरूख खान

बतौर फिल्ममेकर और दोस्त.. मैं उम्मीद करता हूं कि जल्द ही शाहरूख को वैसे रोल मिले, जहां उन्हें अपनी पूरी काबिलियत दिखाने का मौका मिले। कुछ ऐसे किरदार, जिससे शाहरूख कहेंगे- आपने सुपरस्टार शाहरूख खान को देख लिया.. अब एक्टर शाहरूख को देखिए..

English summary
Aditya Chopra talks about Shahrukh Khan — from the beginning to the present day.
Please Wait while comments are loading...