»   » REASONS: इन कारणों से शाहरूख - काजोल की दिलवाले देखना होगी MISTAKE

REASONS: इन कारणों से शाहरूख - काजोल की दिलवाले देखना होगी MISTAKE

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

शाहरूख खान - काजोल, वरूण धवन - कृति सैनन स्टारर दिलवाले रिलीज़ हो चुकी है और फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर हिट करना शुरू भी कर दिया है। फिल्म कैसी ये पढ़ने के लिए जानिए दिलवाले फिल्म रिव्यू। हालांकि हमें पूरा यकीन है कि अब तक आपने फिल्म देख ली होगी। 

क्योंकि शाहरूख खान की फिल्मों को देखने के लिए दर्शक ज़्यादा इंतज़ार नहीं कर पाते हैं। लेकिन इस बार आप हैप्पी न्यू ईयर जितना तो नहीं लेकिन फिर भी रोहित शेट्टी की ये शाहरूख काजोल स्टारर फिल्म आपको निराश करेगी। फिल्म में बहुत कुछ ऐसा है जो नहीं होना चाहिए था।


हालांकि फिल्म का बेस्ट पार्ट है फिल्म की एंडिंग। यानि कि आखिरी सीन। इसलिए नहीं कि फिल्म खत्म हो गई बल्कि इसलिए कि फिल्म में आपको पहला नैचुरल सा शाहरूख काजोल मूमेंट मिलेगा जो पूरी फिल्म में कहीं नहीं है। 


क्योंकि फिल्म में शाहरूख खान हैं इसलिए हम आपको फिल्म देखने से तो नहीं रोकेंगे लेकिन फिर भी फिल्म में कई ऐसी चीज़ें हैं जिनकी वजह से हम आपको दिलवाले ना देखने की WARNING देंगे,


क्योंकि हम नहीं चाहते आपका दिल टूटे -

 शाहरूख काजोल का रोमांस

शाहरूख काजोल का रोमांस

जी हां फिल्म में सबसे बड़ी कमी है शाहरूख काजोल का रोमांस। जो कि Forced है। कहीं भी आपको उनमें शाहरूख काजोल इफेक्ट नहीं दिखेगा और दोनों रोमांस करने की कोशिश करते दिखेंगे जो आज से पहले कभी नहीं हुआ।


शाहरूख वरूण का ब्रोमांस

शाहरूख वरूण का ब्रोमांस

शाहरूख खान और वरूण धवन भाई बनकर एक दूसरे को बिल्कुल सूट नहीं कर रहे हैं। खासकर उनके साथ के सीन आपको बोर करेंगे क्योंकि उनकी केमिस्ट्री में कोई भी ब्रोमांस नहीं था।


 एक्शन में इमोशन

एक्शन में इमोशन

रोहित शेट्टी की फिल्म की सबसे खास बात होती है ज़बर्दस्त एक्शन। लेकिन यहां ऐसा कुछ नहीं है। बल्कि एक्शन में इतना इमोशन और ड्रामा मिला दिया गया कि थोड़ी देर के लिए अब्बास मस्तान याद आ जाएंगे।


नो कॉमेडी, नो पंच

नो कॉमेडी, नो पंच

फिल्म में कोई कॉमेडी नहीं है। अगर आपको लग रहा है कि फिल्म में टिपिकल रोहित शेट्टी टाइप पंच और वनलाइनर मिलेंगे तो यहां ऐसा कुछ नहीं है। ज़बर्दस्ती हंसाने की कोशिश ज़रूर की गई हैं। फिल्म में गिनकर 3 अच्छे पंच हैं बस!


सपोर्टिंग कास्ट का No use

सपोर्टिंग कास्ट का No use

फिल्म में इतनी धमाकेदार सपोर्टिंग कास्ट है लेकिन सबका गेस्ट अपीयरेंस हैं। और ऐसे भी कई बेहतरीन एक्टर हैं जिनकी फिल्म में कोई ज़रूरत ही नहीं थी। वो फिल्म में क्यों हैं पता नहीं।


नो क्लाईमैक्स

नो क्लाईमैक्स

फिल्म के क्लाईमैक्स की हाल ही में काफी चर्चा हुई थी लेकिन फिल्म में कोई क्लाईमैक्स है ही नहीं। अचानक से चलते चलते फिल्म बंद हो जाती है और आखिरी सीन आ जाता है जो इकलौता शाहरूख - काजोल मूमेंट है।


सेम सेट कितनी बार

सेम सेट कितनी बार

रोहित शेट्टी की हर फिल्म का सेट एक ही होता है और अब ये बोर कर चुका है। एक फिल्म देखते देखते आपको दूसरी फिल्म के सीन याद आने लगेंगे और फिर आप इस फिल्म में वापस आएंगे और ऐसा कई बार होगा।


जवान शाहरूख - काजोल

जवान शाहरूख - काजोल

फिल्म में जवान शाहरूख काजोल कतई अच्छे नहीं लगेंगे। शाहरूख का मेकअप काफी इरिटेटिंग लगेगा और काजोल 20 साल से 40 साल तक एक ही जैसी लगी हैं।


गानों का No IMpact

गानों का No IMpact

फिल्म में जनम जनम छोड़कर कोई गाना अच्छा नहीं लगेगा। यहां तक कि गेरूआ भी। वहीं अरिजित की आवाज़ शाहरूख खान पर बिल्कुल फबती नहीं है ये आपको फिल्म देखकर पता चल जाएगा।


स्टंट वाले शाहरूख

स्टंट वाले शाहरूख

शाहरूख खान इस फिल्म के स्टंट करते हुए बिल्कुल भी अच्छे नहीं लगे हैं।


MUST READ


दिलवाले से पहले क्यों देखें बाजीराव मस्तानी


English summary
10 reasons not to watch Dilwale, Shahrukh Khan and Kajol's Rohit Shetty film
Please Wait while comments are loading...