होम » मूविस » अलोन » कहानी

अलोन

पाठकों द्वारा समीक्षा

रिलीज़ डेट

16 Jan 2015
कहानी
कहानी-
अलोन की कहानी घुमती है संजना (बिपाशा बसु) और कबीर (करण सिंह ग्रोवर) के इर्दगिर्द। दोनों की शादी को छ: वर्ष हो चुके हैं। संजना अपने पति पर कुछ ज्यादा ही अधिकार जमाती है। अपने पति को बेहद चाहती है। वह नहीं चाहती कि उसके और कबीर के बीच कोई आए, लिहाजा दोनों के बीच इस बात को लेकर अक्सर विवाद भी होता रहता है। संजना का स्वभाव रहस्यमयी है। वह अपने सीक्रेट या समस्याएं किसी को भी नहीं बताती। उसे इसी बात का डर सताता रहता है कि वह अपने प्रियजनों का साथ न खो दे। अपनी बहन अंजना की मौत का जिम्मेदार वह खुद को मानती है औरइस बात से उबरना उसके लिए आसान नहीं रहा है। कबीर अपनी पत्नी को बेहद चाहता है और पति के रूप में अपने सारे कर्तव्य भी निभाता है। संजना के स्वभाव से वह थोड़ा परेशान रहता है। उसे अपना काम पसंद है और काम के लिए वह कोई समझौता नहीं करता। 

कबीर पूरी कोशिश कर रहा है कि संजना इस अपराध बोध से बाहर निकले कि वह अपनी बहन अंजना की मौत के लिए जिम्मेदार है। संजना की मां का केरल में एक्सीडेंट हो जाता है। वह अपने पति कबीर के साथ मुंबई से केरल जाती है। अपनी बहन की मौत के बाद पहली बार वह अपने घर लौट रही है जो उसके लिए दर्दनाक भी है और खौफनाक भी। संजना के केरल स्थित घर पहुंचते ही न केवल बुरी स्मृतियां बल्कि अंजना की आत्मा भी लौट आती है। अंजना की उपस्थिति सिर्फ संजना महसूस करती है। उसे कई बार आईने में अंजना का चेहरा दिखाई देता है। अंजना की परछाई को भी उसने देखा है। 

संजना ये सारी बातें अपने पति कबीर को बताती है, लेकिन कबीर का मानना है कि संजना को अंजना सिर्फ इसलिए नजर आ रही है क्योंकि वह अपनी बहन को बेहद चाहती है साथ ही वह अपराधबोध से ग्रस्त है। लगातार ऐसी घटनाएं घटती हैं कि संजना टूट जाती है। कबीर अपनी पत्नी को मनोवैज्ञानिक के पास ले जाता है। क्या अंजना की आत्मा पुन: लौट आई है या ये संजना की कल्पना है? क्या विज्ञान के पास इसका कोई जवाब है? धीरे-धीरे भय से जुड़ा एक रहस्य सामने आता है जो चौंकाता है। 
Buy Movie Tickets
स्पॉटलाइट में फिल्में