»   » Interview मां की वजह से यहां पर हूं- रणवीर सिंह

Interview मां की वजह से यहां पर हूं- रणवीर सिंह

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

रणवीर सिंह को बॉलिवुड का ब्लास्ट माना जाता है। यानि कि ये जब भी अपनी फिल्म के सेट पर जाते हैं वहां ब्लास्ट करते हैं। लोगों को खुश करते हैं, हंसाते हैं और सभी के साथ खूब मस्ती करते हैं। रणवीर सिंह अपनी इस सफलता के लिए अपनी मां को थैंक यू कहते हैं और मानते हैं कि मां के अच्छे कर्मों की वजह से वो आज यहां पर हैं।

दिल धड़कने दो फिल्म के प्रमोशन के दौरान रणवीर ने फिल्मीबीट के साथ बातचीत की और उस खास मुलाकात के मुख्य पहलू पेश हैं।

खुद को सेक्योर एक्टर मानते हैं रणवीर सिंह।

मैं इस मौके का फायदा उठाकर ये कहना चाहता हूं कि मैं बहुत ही सेक्योर एक्टर हूं। मुझे अपने अभिनय और खुद पर बतौर एक्टर काफी भरोसा है। इतना तो यकीन है कि मैं किसी भी और एक्टर के द्वारा ओवरशेडो नहीं किया जा स कता। मैं बहुत ही उत्साहित हूं दिल धड़कने दो फिल्म को लेकर। इसमें कई सारे एक्टर हैं हैं लेकिन सभी की अपनी कहानी है और अपना अलग ही किरदार है। फिल्म साइन करने से पहले मैंने ये नहीं देखा कि मुझे ज्यादा बड़ा किरदार मिलेगा या नहीं।

पहला एक्टर था जिसने दिल धड़कने दो साइन की

जब जोया ने मुझे फिल्म की कहानी सुनाई तो शुरु के आधे घंटे में ही मुझे कंफर्म था कि मैं ये फिल्म कर रहा हूं। मैं वो पहला एक्टर था जिसने दिल धड़कने दो साइन की थी। उसके बाद प्रियका चोपडा, अनुष्का शर्मा, अनिल कपूर, आदि ने फिल्म साइन की।

अनुष्का ने जब दिल धड़कने दो साइन की मैं सबसे ज्यादा खुश था।

अनुष्का ने जब दिल धड़कने दो साइन की मैं सबसे ज्यादा खुश था।

मैं बहुत खुश था जब अनुष्का शर्मा ने फिल्म साइन की। मुझे पूरा यकीन था कि अनुष्का ही इस फिल्म को सबसे बेस्ट कर सकती हैं और जब अनिल कपूर के फिल्म में होने की बात पता चली तब तो मैं सांतवे आसमान में था। सिर्फ अनिल कपूर सर ही थे जो कि इस किरदार के लिए बेस्ट थे। मैं हमेशा किसी मल्टीस्टारर फिल्म का हिस्सा बनना चाहता था और मुझे खुशी है कि मैं दिल धड़कने दो का हिस्सा बनाया गया।

अनिल कपूर के साथ काम करने का एक्सपीरियंस

अनिल कपूर के साथ काम करने का एक्सपीरियंस

ये किसी परियों की कहानी से कम नहीं है। मैं एक्टर बना क्योंकि मुझे हिंदी फिल्में हमेशा से ही पसंद थीं। और जब भी मैं हिंदी फिल्मे देखता था मुझे उनके हीरो बेहद पसंद आते थे। बिल्कुल उन्हीं की तरह बनना चाहता था। उस वक्त के सबसे बडे़ हीरो थे अनिल कपूर और अनिल कपूर की सभी फिल्मों को मैंने कई कई बार देखा है। वो मेरे आदर्श रहे हैं। राम लखन, बेटा, मेरी जंग, रखवाला, तेजाब आदि फिल्में मेंरी फेवरेट हैं।

मां को देता हूं सारा क्रेडिट

मां को देता हूं सारा क्रेडिट

मैंने गोविंदा के साथ भी काम किया है जिनके लिए मेरे दिल में बहुत प्यार है। उसके ठीक बाद मुझे अनिल कपूर जी के साथ काम करने का मौका मिला। जब मैं 26 बड़े कलाकारों के साथ अनिल कपूर के बगल में खड़ा था तो मुझे यकीन ही नहीं होरा था कि मैं उस एक्टर के साथ खड़ा हूं जिनकी फिल्में 15 साल तक मैं देखता रहा। ये किसी सपने जैसा था। मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मुझे ऐसा मौका मिलेगा कभी। इन सभी अच्छी बातों के लिए मैं अपनी मां को धन्यवाद देता हूं उनके अच्छे कर्मों की वजह से ही मेरे साथ इतना अच्छा हो रहा है।

गर्व है अनिल सर के साथ धिना धिन धा करने का मौका मिला

गर्व है अनिल सर के साथ धिना धिन धा करने का मौका मिला

मैं बहुत गर्व के साथ कह सकता हूं कि मुझे अनिल कपूर के साथ फिल्म में धिना धिन धा करने को मिला। मुझे अगर सिर्फ इन तीन सेकेंड के लिए भी ये फिल्म करने को मिलती तो मैं जरुर करता। फिल्म के दौरान कभी कभी मैं जब अनिल कपूर सर के कुछ पुराने गाने गाता था तो वो खुद हैरान रह जाते थे, कि मुझे ये गाने कैसे याद हैं। अनिल कपूर बेहद मजाकिया हैं। साथ ही उनके अंदर हर वक्त इतनी एनर्जी रहती है कि आप भी उनके सामने एनरजेटिक महसूस करेंगे।

अपनी पहली फिल्म लेडीज वर्सेस रिकी बहल से अभी तक लगातार रणवीर अलग अलग तरह के किरदार निभाकर अपनी अभिनय प्रतिभा को साबित कर रहे हैं।

अपनी पहली फिल्म लेडीज वर्सेस रिकी बहल से अभी तक लगातार रणवीर अलग अलग तरह के किरदार निभाकर अपनी अभिनय प्रतिभा को साबित कर रहे हैं।

मैं हमेशा कोशिश करता हूं कि कुछ नया करूं। मैं नहीं चाहता कि एक ही चीज बार बार दोहराउं। जोया ने जब मुझे स्क्रीन पर देखा तो मेरे पास आकर मुझे कहा कि ऐसा उन्होंने कभी नहीं देख मुझे। दिल धड़कने दो की एडिटिंग के बाद जोया ने मुझे कहा कि उसे कभी यकीन नहीं था कि मै इस तरह का किरदार निभा सकता हूं। ये ऐसा किरदार है जिसे मैंने पहले कभी नहीं निभाया। मुझे खुशी है कि जोया वो निर्देशक हैं जिसने मुझे सबसे पहले इस तरह के किरदार में कास्ट किया।

लकी हूं कि संजय लीला भंसाली और जोया के साथ एक के बाद एक काम करने का मौका मिला।

लकी हूं कि संजय लीला भंसाली और जोया के साथ एक के बाद एक काम करने का मौका मिला।

लुटेरा का वरुण, राम लीला का राम, उसके बाद किल दिल, गुंडे इन सभी फिल्मों में मैने कुछ नया किया। किल दिल में एक तरह से मैंने वो किरदार निभाया जो मैं लगभग पहले निभा चुका था। लेकिन अब दोबारा ऐसा नहीं होगा। दिल धड़कने दो के बाद बाजीराव मस्तानी एक बहुत ही अलग फिल्म है। और मैं बहुत ही लकी हूं कि मुझे ये फिल्म मिली है। जोया और संजय लीला भंसाली बहुत ही अलग हैं।

फरहान की तरह बनना चाहते हैं रणवीर

फरहान की तरह बनना चाहते हैं रणवीर

फरहान अख्तर एक बेहतरीन एक्टर, निर्देशक हैं। मैं उनके जैसा बनना चाहता हूं। उन्हीं की तरह की फिल्में निर्देशित करना चाहता हूं, बनाना चाहता हूं। एक दिन वो मुझे आकर बोल रहे थे कि मैं बहुत लकी हूं कि मुझे अलग अलग तरह की फिल्में, किरदार परदे पर करने का मौका मिला है। उस वक्त मैंने उन्हें बताया कि जोया और भंसाली दोनों के साथ काम करना कितना अलग एक्सपीरिंयस है। जो कुछ भी जोया मुझे अपने सेट पर नहीं करने देती थी वो मैं भंसाली के सेट पर जाकर करता था और भंसाली सर के सेट पर जो करने से मना था वो मैं जोया के सेट पर ट्राइ करता था।

पहले प्रियंका रणवीर की गर्लफ्रैंड बनीं, फिर बहन और इसके बाद पत्नी। ये रणवीर के लिए बहुत ही अजीब था।

पहले प्रियंका रणवीर की गर्लफ्रैंड बनीं, फिर बहन और इसके बाद पत्नी। ये रणवीर के लिए बहुत ही अजीब था।

हां थोड़ा सा तो अजीब लगता था। लेकिन जैसा कि मैंने हमेशा कहा है मैं प्रियंका को बहन मानता हूं। तो दिल धड़कने दो में हम दोनों का रिश्ता ज्यादा बेहतर महसूस होगा। वैसे भी हमारे दर्शक अब बहुत समझदार हो गये हैं और वो ये समझते हैं कि हम सिर्फ एक किरदार निभा रहे हैं।

रणवीर को मिला मौका प्रियंका की मदद करने का

रणवीर को मिला मौका प्रियंका की मदद करने का

जब हम गुंडे फिल्म की शूटिंग कर रहे थे तो पहले दिन जब प्रियंका आईं और उन्होंने पहला सीन शूट किया तो हम तो बस देखते ही रह गये। मैं और अली हैरान थे। लेकिन बाजीराव मस्तानी के सेट पर पहली बार मैंने ये महसूस किया कि प्रियंका थोड़ा नर्वस थीं। मैं तो भंसाली सर के साथ काम करने कर चुका हूं तो उनकी आदत जानता हूं लेकिन प्रियंका पहली बार किसी ऐसे निर्देशक के साथ काम कर रही थीं जिनके सेट पर आप पहले से तैयार होकर नहीं आते। सेट पर आकर आपको चलता है कि आपको कौन सा सीन शूट करना है। मैने प्रियंका को समझाया कि यहां पर ऐसा ही होता है और ये नॉर्मल है। यहां पर कोई नियम नहीं है। मुझे खुशी है कि मैं प्रियंका की मदद कर पाया।

अपनी असल जिंदगी से दिल धड़कन दो के किरदार को रिलेट करते हैं रणवीर

अपनी असल जिंदगी से दिल धड़कन दो के किरदार को रिलेट करते हैं रणवीर

दिल धड़कने दो में जो किरदार मैं निभा रहा हूं उसे निभाने के लिए मुझे कुछ स्पेशल नहीं करना पड़ा। ये सब तो मैंने अपनी लाइफ में देखा है। किस तरह से झगड़े होते हैं, किस तरह की बहस होती है। ये सबकुछ हम सभी ने अपनी जिंदगी में देखा है, महसूस किया है। ये हर घर की कहानी है। लेकिन बाजीराव मस्तानी के किरदादर से खुद को रिलेट कर पाना बहुत ही मुश्किल था। ये एक ऐसा किरदार है जिसके साथ जो होता है वो कभी मेरे साथ नहीं हुआ। आपको ये सोचना पड़ता है, एक ख्यालों की दुनिया बनानी पड़ती है।

रणवीर खुद को सुपर स्टार नहीं मानते इनका कहना है कि दूसरों को खुशी देने से आपको भी खुशी मिलती है।

रणवीर खुद को सुपर स्टार नहीं मानते इनका कहना है कि दूसरों को खुशी देने से आपको भी खुशी मिलती है।

मैं खुद को सुपरस्टार नहीं मानता। मैं बहुत ही सिंपल और जंदगी को जीने वाला इंसान हूं। कभी कभी आपकी सोच बदलती है। मैं खुद को एक ऐसे इंसान के रुप में देखता हूं जिसे भगवान ने काफी कुछ दिया है। जिसे ये पावर दी है कि मैं दूसरों को खुशी दे सकता हूं। और मैने हमेशा ये कियाभी है। जब मैं अपने आस पास के लोगों को खुशी देता हूं तो मुझे बहुत अच्छा लगता है। मुझे ऐसा लगता है कि अगर मैं निगेटिव सोचूंगा तो मेरे आस पास भी निगेटिविटी आएगी। जो आप दूसरों को देते हैं वही घूमफिर कर आपके पास आता है।

English summary
Ranveer Singh is been known as a actor who has lot of energy and spread happiness everywhere. Ranveer Singh's Dil Dhadakne Do is releasing this Friday. Here is what Ranveer Singh says about Dil Dhadakne Do and Bajirao Mastani.
Please Wait while comments are loading...

Bollywood Photos

Go to : More Photos