»   » शादी हो या लिव इन दोनों से डर लगता है- कंगना रनौत

शादी हो या लिव इन दोनों से डर लगता है- कंगना रनौत

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

कंगना रनौत बॉलिवुड की एक ऐसी एक्ट्रेस हैं जिन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी फिल्मों व दमदार किरदारों से एक स्पेशल जगह बनाई है। आज आमिर खान हों या अमिताभ बच्चन हर कोई कंगना रनौत की तारीफ करते हैं और उम्मीद करते हैं कि कभी उनके साथ काम करने का मौका मिले।

कंगना ने अपनी प्रोफेशन लाइफ को हमेशा ही लाइमलाइट में रखा लेकिन अपनी निजी जिदंगी को लेकर वो हमेशा चुप रहीं। इस इंटरव्यू के दौरान कंगना ने शादी, लिव इन रिलेशनशिप को लेकर अपने डर को जताया। आइये जानते हैं कंगना से हुई इस खास बातचीत से जुडे़ कुछ पहलू।

फिल्म फैशन के लिए आपने नेशनल अवॉर्ड मिलने की उम्मीद नहीं की थी, लेकिन क्या क्वीन को नेशनल अवॉर्ड मिलेगा ऐसी उम्मीद थी आपको?

जी नहीं, क्वीन को नेशनल अवॉर्ड मिलेगा ऐसा नहीं सोचा था। असल में जब हमारे आम अवॉर्ड मिलते हैं तो आपको पता होता है कि कौन सी फिल्म रिलीज हुई है कैसी है, कैसा अभिनय है अवॉर्ड मिलने लायक है या नहीं। लेकिन जब नेशनल लेवल पर अवॉर्ड मिलते हैं तो आप ट्रैक नहीं कर पाते कि कौन कौन सी फिल्में इस लिस्ट में है। कई बार जो फिल्में रिलीज भी नहीं हुईं उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिल जाता है। तो ये कहना गलत होगा कि मुझे उम्मीद थी क्वीन से। लेकिन फिल्म इस लायक थी और इस फिल्म से मुझे बेहतरीन एक्सपीरियंस मिला है।

VIDEO: 'हम बेवफा क्या हुए...आप तो बदचलन हो गए!' - कंगना रनौत

10 सालों के सफर में आपको आपकी सबसे बड़ी उपलब्धि क्या लगती है?

जब मैं मुंबई आई थी एक सपने के साथ आई थी। उस वक्त कुछ नहीं था मेरे पास लेकिन आज मेरे पास एक खूबसूरत लाइफस्टाइल है, प्रॉपर्टी है, खूबसूरत घर, कार सबकुछ है। मेरी खुद की पर्सनैलिटी ही मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि है। मैं आज अपना घर खुद चला सकती हूं। इससे बड़ी बात और क्या होगी। मुझे आज भी नहीं लगता है कि मैं टॉप पर हूं या नहीं। मैंने अपना सफर शुरु किया था और आज मैं यहां पर हूं। अब इस सफर को दूसरे लेवल पर लेकर जाना है।

तनु वेड्स मनु रिटर्न्स के दो किरदारों को लेकर किस तरह की मुश्किलें सहनी पड़ीं आपको?

मैं अपने किरदारों को लेकर हमेशा दो लेवल पर काम करती हूं। पहला है फिजिकल, जिसमें किरदार कैसा दिखता है, उसकी बॉडी लैंग्वेज कैसी होगी ये सब है। वहीं दूसरी है मेंटल लेवल, वो क्या सोचती है, चीजों पर कैसे रिएक्ट करती है। मेंटल लेवल पर काम करना काफी मुश्किल होता है।

आप आज जहां पर हैं वहां पर क्या आपको अभी भी लोगों की बातें, उनकी सोच प्रभावित करती हैं?

मुझे नहीं लगता कि मैं अभी तक अपनी मंजिल पर पहुंची हूं। लेकिन दूसरों की बातें उनकी सोच मुझे प्रभावित नहीं करती। अगर आप दूसरों की बातों से प्रभावित होते हैं तो इसका मतलब ये है कि आपक स्ट्रॉंग नहीं हैं। मेरे पास ये बुद्धि है कि क्या गलत है और क्या सही, इसका फैसला ले सकूं। लोगों को लगा कि मैं टेलेंटेंड हूं इसिलये मैं यहां पहुंची। लेकिन वहीं कुछ लोगों ने मुझे ये भी कहा कि एक वक्त था जब मेरी पहली फिल्म के बाद लोगो को लगा कि मैं अब यहां से चली जाऊंगी आगे नहीं बढ़ पाउंगी । उस वक्त मुझे लगा ये वक्त कब आया और मुझे पता भी नहीं था कि लोग मेरे बारे में ऐसी भी सोच रखते हैं। (हंसते हुए)

आपने अपने करियर की शुरुआत ही काफी अलग तरह की फिल्मों से की जैसे गैंग्सटर, वो लम्हे, शाका लाका बूम बूम। जिसके बाद लोगों को लगा कि क्या आप सच में इस इंडस्ट्री में टिक पाएंगी। क्या आपको लगता है कि आपकी फिल्मों के चुनाव की वजह से लोगों की ये सोच बनी?

पिछले कई सालों से हमारी बॉलिवुड में एक्ट्रेसेस एक ही ढर्रे पर चली आ रही हैं। या तो खानों के साथ लॉंच होकर इंडस्ट्री में टिक जाती हैं और उसके बाद धीरे धीरे अपनी जगह बना लेती हैं। या फिर आउट साइडर बनकर अपने पूरे करियर में स्ट्रगल करती रहती हैं। और या तो किसी ब्यूटी पेगमेंट को जीतकर मिस एशिया, मिस वर्ल्ड या मिस यूनिवर्स बनने के बाद इंडस्ट्री में आती हैं और अपने ताज के हिसाब से उन्हें ए बी लिस्ट की फिल्में मिलती हैं। मैं इनमें से किसी में भी फिट नहीं होती। जहां तक टैलेंट की बात है तो मैंने 17 साल की उम्र में नेशनल अवॉर्ड पाया, 19 साल की उम्र में बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड पाया सिंगापुर में। तो इस बात पर तो कोई शक नहीं कि मैं एक्ट्रेस बन सकती थी। मैंने लगातार अभी तक खुद को साबित किया है। चाहे वो मेट्रो हो, वो लम्हे या गैंग्सटर।

क्या आज भी इंडस्ट्री में एक्ट्रेसेस के लिए अच्छे रोल फिल्में पाना मुश्किल है?

मैं हमेशा से एक आउटसाइड रही हूं और रहूंगी। इसे कोई नहीं बदल सकता। एक आउटसाइडर के लिए अच्छी फिल्में पाना मुश्किल रहा है। लेकिन मेरे लिए अब ये मुश्किल नहीं है।

विद्या बालन, प्रियंका चोपड़ा आप सभी ऐसे निर्देशकों की तरफ झुकती जा रही हैं जो कि वुमन ओरियेंटेड फिल्में बनाते हैं, उनमें विश्वास करते हैं। क्या आपको भी ये महसूस होता है?

बिल्कुल, वि्दया ने शुरुआत की, प्रियंका चोपड़ा ने मेरी कॉम जैसी फिल्म से खुद को साबित किया और अनुष्का की एनएच10 को जबरदस्त सफलता मिली। ये एक अच्छी शुरुआत है। मुझे बहुत खुशी है।

तुन वेड्स मनु को रिलीज हुए 4 साल हो गये हैं, क्या तनु वेड्स मनु रिटर्न्स से लोग उतना कनेक्ट कर पाएंगे?

लोग बदलते हैं, किरदार बदलते हैं, जिंदगियां बदलती हैं। कोई भी एक जैसा नहीं रहता। हर मिनट सबकुछ बदलता रहता है। तनु अब जिस तरह से अपने पति मनु को देखती है, उसके बारे में सोचती है सबकुछ बदल चुका है। 4 साल पहले की उसकी सोच और 4 साल बाद की उसकी सोच सब बदल चुकी है। ये बहुत ही इंटरेस्टिंग है और आपको देखने में काफी मजा आएगा। लोगों को जरुर फिल्म से प्यार हो जाएगा।

आपकी शादी को लेकर लोग अक्सर कयास लगाते रहते हैं। हाल ही में एक ईवेंट के दौरान आपने कहा कि वर्किंग गर्ल्स को 35 के बाद ही शादी करनी चाहिए। तो क्या आप शादी में विश्वास करती हैं या फिर लिव इन में रहना चाहेंगी?

ये कहना बहुत मुश्किल है, आपके पार्टनर पर भी ये निर्भर करता है। लिव इन में रहना भी गलत फैसला साबित हो सकता है। आप कैसे किसी इंसान पर इतना भरोसा कर सकते हैं। शादी तो मुश्किल है ही। कुछ सालों बाद ही आपको लगता है कि आपने ये फैसला क्यों किया। तो ये कह नहीं सकती कि क्या करुंगी।

क्या एक अविवाहित लड़की शादी-शुदा लड़की के किरदार को समझ सकती है या फिर उसे निर्देशक पर पूरी तरह से निर्भर रहना पड़ता है?

हम अपनी जिंदगी में बहुत कुछ देखते हैं और झेलते हैं। रिश्तों में काफी अंडरस्टैंडिग की जरुरत होती है। तनुजा के किरदार को मैंने अपनी समझ के अनुसार निभाया है। बाकी दर्शको के ऊपर है उन्हें ये पसंद आता है या नहीं।

आजकल किसी भी एक्ट्रेस को ले लीजिये 30 साल तक वो शादी के बारे में सोचती तक नहीं हैं। ऐसा क्यो है क्या इसके पीछे सेक्स अपील के घटने या अपनी आजादी व सफलता के छिनने का डर है?

मेरे हिसाब से शादी का सेक्स अपील से कोई लेना देना नहीं है। ये एक बड़ी कड़वी सच्चाई है कि शादी बहुत वक्त मांगती है। नहीं तो आपके हाथों से एक झटके में सबकुछ निकल जाता है। अगर आपके पास वक्त है और आप शादी में इनवेस्ट कर सकते हैं तब तो ये आपके लिए बहुत अच्छी है लेकिन अगर नहीं तो प्लीज सोच समझकर फैसला लें। जब इंसान प्यार में होता है तो वो कुछ नहीं सोचता और फैसला ले लेता है।

कंगना रनौत इंटरव्यू के कुछ अंश

इतने सालों बाद दोबारा से तनुजा का किरदार निभाना मुश्किल था, साथ ही इस बार एक जाट लड़की का किरदार भी आप निभा रही हैं?

मैं तो अक्सर तनु वेड्स मनु रिटर्न्स के सेट पर रो देती थी। ये इतनी फिल्मी फिल्म है कि आप भी फिल्म देखकर हैरान रह जाएंगे। फिल्म में एक डायलॉग है जब तनुजा अपने पति हिमांशू के अफेयर के बारे में जान जाती है और हिमांशू से जाकर कहती है शर्मा जी हम जरा से बेवफा क्या हुए आप तो बद्चलन हो गये। मैंने बोला कि ऐसा कौन लड़की बोलती है। हिमांशू ने कहा मेरी हिरोइन ऐसा बोलती है। इसके अलावा गेटी गैलेक्सी के बाहर खड़ी होकर मैं सीटी भी बजाती हूं।

आपने डबल धमाल, रासकल्स, जैसी फिल्मों मे छोटे छोटे किरदार भी निभाए हैं। अब इस स्टेज पर पहुंचने के बाद क्या आप दोबारा कभी इस तरह के किरदार निभाएंगी या किसी फिल्म के स्पेशल गाने में नज़र आएगी?

अगर मेरा खर्चा चलता रहा तो कभी नहीं, लेकिन अगर मैं मुसीबत में रही और पैसों की जरुरत रही तो ऐसी फिल्में जरुर करुंगी।

किसी खास एक्टर के साथ काम करने की इच्छा है?

इस तरह की कोई इच्छा नहीं है, मेरी सोच, मेरे गोल्स अलग हैं। जो भी मेरी तरह की फिल्मों में काम करना चाहते हैं उनके साथ काम कर सकती हूं।

तनु वेड्स मनु रिटर्न्स की सफलता को लेकर किसी तरह का प्रेशर महसूस करती हैं आप?

इस तरह का कोई प्रेशर तो नहीं है। इतने समय में मैं बतौर एक्टर काफी बेहतर हो चुकी हूं। अब काफी कॉंफिडेंट हूं फिल्म को लेकर। पहले भाग में मैंने बहुत ही खराब एक्टिंग की थी और जब भी मैं वो फिल्म देखती हूं खुद को देखकर शर्म आती है। लेकिन दूसरे भाग से मैं काफी खुश हूं।

क्या अपनी कुछ पिछली फिल्मों को लेकर आपको लगता है काश वो फिल्म आपने ना की होती?

ऐसा नहीं है कि मैं अपनी किसी भी पिछली फिल्म को लेकर सोचती हूं कि काश ना की होती। क्योंकि हर एक फिल्म से जुड़ा अलग एक्सपीरियंस है और अगर मैं उस फिल्म के बारे में ये सोचती कि वो फिल्म ना की होती तो मैं उस एक्सपीरियंस को भी खो देती। जब क्वीन के लिए मुझे सेलेक्ट किया जा रहा था तो लोगों ने बोला ये लडकी तो कृष में सुपर वुमन बनी थी। ये कैसे क्वीन फिल्म का किरदार निभा पाएगी। लेकिन निर्देशक ने मेरी तनु वेड्स मनु देखी थी और उन्होंने कहा मुझे इसपर यकीन है। तो आप जो भी करते हो वो आपके भविष्य में आपकी मदद करता है।

English summary
Kangana Ranaut talks about her personal life and her thoughts about marriage and Live In relationship. Kangana says she believes its tricky to get married and she wants safe space for herself.
Please Wait while comments are loading...