»   » "जूता मारूं उतार के...सीनियर हूं मैं"

"जूता मारूं उतार के...सीनियर हूं मैं"

Written by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

एक तरफ जहां बॉलीवुड में कुछ स्टार्स एक दूसरे को नीचे खींचने में लगे रहते हैं वहीं बॉलीवुड की नई खेप इस मामले में काफी कूल है। कम से कम समझदार तो है ही। उनकी आपस में एक दूसरे के प्रति कूल बर्ताव से ये साफ हो जाता है।

अब हुआ यूं कि हाल ही में आमिर खान ने दंगल की सक्सेस पार्टी रखी। वहां शाहिद अपनी पत्नी मीरा के साथ पहुंचे जबकि हर्षवर्धन कपूर जा रहे थे। वो शाहिद कपूर से मिलने आए। सामने सारा मीडिया थे जिससे शाहिद बात कर रहे थे।
 

shahid-kapoor-harshvardhan-kapoor

बस शाहिद ने टांग खींचते हुए कहा कि कैसा ज़माना आ गया है। शादीशुदा लोग अभी आ रहे हैं जबकि कुंवारे अभी से पार्टी छोड़कर जा रहे हैं। जिस पर हर्षवर्धन कपूर ने जवाब दिया कि सीनियर लोगों के लिए जगह खाली कर रहे हैं।

इस पर शाहिद ने तुरंत जवाब दिया - जूता मारूं उतार के...सीनियर हूं मैं। और हर्ष मुस्कुराते हुए वहां से निकल गए। अब दोनों एक दूसरे के साथ इतने कूल हैं, ये देखकर मीडिया को भी मज़ा आ गया।

वैसे ये तो हो गया हर्ष और शाहिद की दोस्ती का किस्सा लेकिन हर्षवर्धन कपूर के कई किस्से मशहूूर हैं और इनमें से किसी को भी सुनकर कि वो इतनी तमीज़ में हमेशा रहते हैं - 
 

रोना ही बंद नहीं हुआ

रोना ही बंद नहीं हुआ

कभी स्कूल में वो बिगड़ैल बच्चे देखे हैं जो रेस हारने के बाद चकर चकर करना बंद ही नहीं करते हैं। जिनसे इज़्जत और तमीज़ से ये स्वीकार ही नहीं किया जाता कि वो हार गए हैं। बस अनिल कपूर के लड़के 15 दिन पहले यही कर रहे थे। इस साल मिर्ज़िया नाम की फिल्म में आए थे जो किसी ने नहीं देखी।

हर्षवर्धन कपूर को डेब्यू अवार्ड चाहिए

हर्षवर्धन कपूर को डेब्यू अवार्ड चाहिए

इस फिल्म के लिए, जिसकी चर्चा करना भी हम अपना टाइम खराब करना समझ रहे हैं, उसके लिए हर्षवर्धन कपूर को डेब्यू अवार्ड चाहिए। दो लोगों ने हर्षवर्धन कपूर को अवार्ड दे भी दिया था। तो उन्होंने बयान जारी किया कि फिल्मफेयर के अलावा उन्होंने सारे अवार्ड जीते।

अजीब से लॉजिक दिए थे

अजीब से लॉजिक दिए थे

आप जब क्लास में फर्स्ट नहीं आते तो क्या करते हैं? अगले साल फिर से फर्स्ट आने की तैयारी करते हैं। लेकिन नहीं, हर्षवर्धन कपूर उल्टा खेलते हैं। उनके मुताबिक जो फर्स्ट आया वो बड़ी क्लास का लड़का था और इस क्लास का पेपर देने आ गया।

दिलजीत दोसान्ज्ह - उड़ता पंजाब

दिलजीत दोसान्ज्ह - उड़ता पंजाब

अब क्या है कि फिल्मफेयर की अवार्ड के पहले ही सबने इतनी धज्जियां उड़ा दी थीं कि फिल्मफेयर को लगा कि इज़्जत बचाना ज़रूरी है। उन्होंने अपनी बची कुची इज़्जत अवार्ड देते समय बचाने की कोशिश कर ली। अब डेब्यू अवार्ड दिया गया दिलजीत दोसान्ज्ह को उड़ता पंजाब के लिए।

बॉलीवुड डेब्यू के लिए

बॉलीवुड डेब्यू के लिए

लेकिन हर्ष का कहना है कि वो एक्टर हैं, पहले से, पंजाब में ! तो ये डेब्यू कैसे हुआ। फिर से बता देते हैं अवार्ड था बॉलीवुड डेब्यू के लिए। हर्ष बोलते रहे लेकिन लिमिट होती है ना एक!

फिल्मफेयर का पारा चढ़ा

फिल्मफेयर का पारा चढ़ा

फिल्मफेयर का पारा चढ़ा और उसने साफ कहा कि आजकल हर कोई अपने आप ही अपने महान होने का एलान कर देता है। अगर जितना घमंड है उतना ही टैलेंट भी होता तो मज़ा आता। हर्ष ने सीधे बोला मेरा नाम ले लो। तुम्हारी मैगज़ीन की तरह मेरा भी ओपिनियन है।

अकेले भी दावेदार होते तो...

अकेले भी दावेदार होते तो...

अब हर्ष को फिर बात इज़्जत पर लगी। तो उन्होंने फिर कहा कि मुझे उस दूसरे वाले लड़के से हारने में दिक्कत नहीं थी, जो नीरजा में था। इससे हारने में दिक्कत है। भईया इससे हारो, उससे हारो किसी से भी हारो। लेकिन बात खत्म आप जीतने लायक नहीं है! अकेले भी दावेदार होते तो भी अवार्ड नहीं मिलना चाहिए था।

निकालने लगे फिल्मोग्राफी

निकालने लगे फिल्मोग्राफी

सबसे मज़ेदार बात ये है कि अपनी बात को साबित करने के लिए अनिल कपूर के होनहार लड़के ने एक ट्वीट किया कि the guy was in a hindi film in 2008 मतलब वो लड़का 2008 में एक फिल्म में काम कर चुका है! फिल्मफेयर को भी कहा कि तुमलोग ठीक से काम किया करो उसकी फिल्मोग्राफी तो देख लेते।

MANNERS PLEASE!

MANNERS PLEASE!

यहां पर वो लड़का मतलब दिलजीत दोसान्ज्ह हैं, जो हर्ष के मुताबिक बहुत बड़े पंजाबी एक्टर हैं, लेकिन उनका नाम लेने में, हर्ष की थोड़ी इज़्जत लग रही थी तो उन्होंने शायद अपने लिए बचा ली। साफ और सीधी बात है कि जब आप में खुद इज़्जत देने की क्षमता ना हो, तो इज़्जत मिलती भी नहीं है।

दिलजीत का कैमियो

दिलजीत का कैमियो

एक और मज़ेदार बात बता ही देते हैं कि जिस फिल्म की हर्ष बात कर रहे हैं 2008 वाली वो रितेश देशमुख और जेनेलिया डीसूज़ा स्टारर तेरे नाल लव हो गया थी जिसमें दिलजीत एक गाने में नज़र आए थे।

पापा के कहने पर माफी मांगी

पापा के कहने पर माफी मांगी

बाद में अनिल कपूर के कहने पर हर्ष ने दिलजीत से माफी मांगी। लेकिन कहते हैं ना कि बोली हुई बात कभी वापस नहीं हो सकती तो बस ये भी वाकया खत्म तो नहीं होगा।

English summary
Joota Maarun Utaar Ke Shahid Kapoor told Harshavardhan Kapoor at Dangal's success party.
Please Wait while comments are loading...