»   » बाजीराव मस्तानी: इस LOVE STORY की असली हीरोइन - काशीबाई!

बाजीराव मस्तानी: इस LOVE STORY की असली हीरोइन - काशीबाई!

Posted by:
Subscribe to Filmibeat Hindi

[फीचर] प्रेम कहानी किसी की भी हो हमेशा खास ही होती है। लेकिन कुछ कहानियां हमेशा के लिए अमर हो जाती हैं, क्योंकि या तो उन्हें कोई लिख देता है या परदे पर उतार देता है। ऐसी ही कहानी है बाजीराव - मस्तानी और काशीबाई की। या यूं कहें कि बाजीराव मस्तानी की।

हालांकि काशीबाई का नाम इस कहानी से छूट जाना हमें कभी अच्छा नहीं लगा। लेकिन बाजीराव ने भी मस्तानी से इश्क किया था अय्याशी और प्यार और जंग में सब जायज़ हो जाता है। इसलिए बाजीराव मस्तानी की प्रेम कहानी अमर हो गई और बीच में रह गईं काशीबाई...इतिहास के पन्नों में दबकर।


संजय लीला भंसाली ने परदे पर काशीबाई, बाजीराव और मस्तानी को उतार दिया है लेकिन आखिर ये तीन लोग थे कौन और क्या है इनकी कहानी ये बड़ा दिलचस्प है।


जानिए कौन थे बाजीराव, मस्तानी और काशीबाई - 

क्या थी कहानी

क्या थी कहानी

इस कहानी में हैं तीन लोग और मराठा समाज। फिल्म में रणवीर सिंह निभा रहे हैं बाजीराव का किरदार, प्रियंका चोपड़ा हैं उनकी पहली पत्नी काशीबाई और दीपिका पादुकोण मस्तानी यानि कि उनकी दूसरी पत्नी।


पेशवा बाजीराव - महान योद्धा

पेशवा बाजीराव - महान योद्धा

20 साल की कम उम्र में पेशवा की गद्दी संभालने वाले बाजीराव ने कुल 41 युद्ध लड़े और सभी में जीत हासिल की थी इसीलिए बाजीराव इतिहास में एक ऐसे महान योद्धा के तौर पर दर्ज है जिसने पूरे उत्तर भारत में मराठा साम्राज्य का विस्तार किया था।


मस्तानी कुंअर - हसीन

मस्तानी कुंअर - हसीन

बुंदेलखंड के राजा छत्रसाल की बेटी मस्तानी एक बेहद खूबसूरत महिला थी जिससे पेशवा बाजीराव बेपनाह मुहब्बत करता था जिनके बीच धर्म की दीवार थी। पेशवा बाजीराव जहां एक हिंदू ब्राहमण थे तो वहीं मस्तानी आधी मुसलमान थीं।


लाडुबाई साहेब काशीबाई - दुखी और अकेली

लाडुबाई साहेब काशीबाई - दुखी और अकेली

काशीबाई मराठा क्षेत्र की महारानी थीं और बाजीराव की पहली पत्नी। उनकी दो संतानें हुईं जिनमें से एक की मृत्यु हो गई। वो अकेली और दुखी थीं हालांकि इतिहास में उनका ज़्यादा ज़िक्र ही नहीं है।


युद्ध में दिया दिल

युद्ध में दिया दिल

राजा छत्रसाल ने अपनी बेटी मस्तानी का ब्याह भी पेशवा बाजीराव से कर दिया था और तोहफे में उसे 33 लाख सोने के सिक्के और हीरे की एक खदान भी दी थी और बाजीराव युद्ध में उन्हें देख अपना दिल दे बैठे थे।


सती हो गई थी मस्तानी

सती हो गई थी मस्तानी

कहते हैं कि मस्‍तानी ने बाजीराव की मृत्‍यु के बाद जहर खाकर आत्‍महत्‍या कर ली थी। कुछ लोग कहते हैं कि उन्‍होंने अपनी अंगूठी में मौजूद जहर को पी लिया था। वहीं कुछ लोग मानते हैं कि वह बाजीराव की चिता में कूद कर सती हो गई थीं।


कभी नहीं मिली काशीबाई

कभी नहीं मिली काशीबाई

कथाओं की मानें तो काशीबाई और मस्तानी के बीच कभी मुलाकात नहीं हुई। उस ज़माने में दूसरे विवाह को अच्छी नज़र से नहीं देखते और इसलिए काशीबाई ने कभी मस्तानी का चेहरा नहीं देखा।


सलाहकार थी मस्तानी

सलाहकार थी मस्तानी

कहते हैं कि बाजीराव की हर मुहिम में मस्तानी का हमेशा साथ रहता था। सुबह अधिकारियों के साथ राजनीतिक सलाह-मशविरे के बाद बाजीराम, रोज मस्तानी से मुलाक़ात करते। उनका प्रेम केवल रूप के लिए नहीं मस्तानी की समझ, हिम्मत और ताकत के लिए था।


एक बेटा

एक बेटा

मस्तानी बाजीराव की विधिवत दूसरी पत्नी बनी थी या फिर वो बिना शादी किए ही उनके साथ रहती थी इसको लेकर कई विवाद हैं। लेकिन उनका एक बेटा था वहीं काशीबाई के दो बेटे थे जिनमें से एक की मृत्यु हो गई थी।


क्या है फिल्म में खास

क्या है फिल्म में खास

MUST READ


जानिए बाजीराव मस्तानी में क्या है खास


English summary
Who are Bajirao, Mastani and Kashibai know their love story. Know the love story of these historical characters.
Please Wait while comments are loading...